गाजियाबाद 36 दिन बाद हुआ अनलॉक, ऑफिस खुले, बाजारों में 40 फीसदी पहुंचे ग्राहक

तुराबनगर मार्केट में ग्राहक सुबह से ही ग्राहक पहुंचने शुरू हो गए.

तुराबनगर मार्केट में ग्राहक सुबह से ही ग्राहक पहुंचने शुरू हो गए.

कोरोना प्रोटोकॉल के तहत गाजियाबाद के बाजार और अन्‍य सरकारी व गैरसरकारी प्रतिष्‍ठान सोमवार सुबह सात बजे खोल दिए गए. इस दौरान बाजारों में सामान्‍य दिनों के मुकाबले 40 फीसदी ग्राहक ही पहुंचे. सप्‍ताह में पांच दिन बाजार खोले जाएंगे.

  • Share this:

गाजियाबाद. कोरोना की वजह से 3 मई से लॉक गाजियाबाद 36 दिन बाद सोमवार को खुल गया. कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सबह सात बजे ज्‍यादातर प्रतिष्‍ठान खुल गए. हालांकि, शाम सात बजे से लेकर सुबह सात बजे तक रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा. इसके अलावा शनिवार और रविवार को पूरी तरह से लॉकडाउन होगा. इस अवधि में बाजारों के अंदर साफ-सफाई और सैनिटाइजेशन सुनिश्चित करना होगा. दुकानदारों और खरीदारों को मास्क पहनना और दो गज की दूरी का अनिवार्य तौर पर पालन करना होगा. प्रशासन ने हिदायत दी है कि अगर 600 से ज्‍यादा मरीज आते हैं, तो शहर में दोबारा से लॉकडाउन लगा दिया जाएगा.

कपड़ा व्यापारी एसोसिएशन के महामंत्री रजनीश बंसल ने कहा कि सोमवार सुबह कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए बाजार खुल गए हैं. इस बार ग्राहक स्‍वयं ही सतर्क हैं और सभी मास्‍क लगाकर ही खरीदारी करने आ रहे हैं. इस तरह ग्राहक कोरोना प्रोटोकाल का पालन कर रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि चूंकि मार्केट खुलने का समय सुबह सात से शाम सात बजे तक है, इसलिए बाजार में एक साथ भीड़ नहीं पहुंच रही है. अगर बाजार कम समय के लिए खुलता तो जरूर सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करवाना मुश्किल होता. उन्‍होंने बताया कि बाजार में सामान्‍य दिनों की तुलना में करीब 40 फीसदी ग्राहक ही पहुंच रहे हैं.

Youtube Video

दूसरी ओर हाईवे व एक्सप्रेसवे के किनारे स्थित ढाबे कोरोना की गाइडलाइन के अनुसार खोल दिए गए हैं. इसी तरह से खाने-पीने के ठेले और खोमचे भी सुबह से खुल गए. ज्‍यादातर लोग टेकअवे के तहत खाना पैक कराकर ले जा रहे हैं. सब्जी मंडी पूर्व की तरह सुबह से खुल गई, लेकिन घनी आबादी में संचालित सब्जी मंडी खुली जगह लगवाई गई. मंडी में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए कोविड हेल्प डेस्क भी बनाई गई है.
दोपहिया वाहन पर निर्धारित क्षमता के अनुसार चलने शुरू हो गए. तीन पहिया चालक के साथ दो यात्री, बैटरी संचालित ई-रिक्शा में चालक समेत तीन व्यक्ति एवं चार पहिया वाहनों में केवल चार व्यक्तियों के साथ चलना शुरू हो गए.

वहीं, फ्रंटलाइन दफ्तर जैसे स्वास्थ्य, सफाई व कानून व्यवस्था से जुड़े कार्यालय पूरी क्षमता के साथ खुले. बाकी अन्य कार्यालय 50 फीसदी स्‍टाफ की क्षमता के साथ खोले गए हैं, कर्मचारियों को रोटेशन से बुलाया जाएगा. कंपनियों के कार्यालय भी खुल गए हैं. माल की आवाजाही सुनिश्चित रखने के लिए वेयर हाउस पूरी क्षमता के साथ खोल दिए गए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज