Ghaziabad News-  कोरोना मरीजों को घर पर आइसोलेशन की जगह नहीं, तो यहां पर आइसोलेशन व स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाएं मिलेंगी

कैलाश मानसरोवर भवन में तैयार हो रहा आइसोलेशन सेंटर.

कैलाश मानसरोवर भवन में तैयार हो रहा आइसोलेशन सेंटर.

गाजियाबाद नगर निगम ने कोरोना मरीजों के लिए आइसोलेशन सेंटर शुरू किया है, जिन लोगों के छोटे घर हैं, वे यहां पर आइसोलेट हो सकते हैं.

  • Share this:

गाजियाबाद. अगर आपका कोई परिजन कोरोना (Corona) की चपेट में आ गया है और घर छोटा होने की वजह से आइसोलेशन (Isolation) की जगह नहीं है, ऐसे लोगों के लिए राहत देने वाली खबर है. गाजियाबाद नगर निगम (Ghaziabad Municipal Corporation) ने कैलाश मानसरोवर भवन (Kailash Mansarovar Bhavan) को आइसोलेशन सेंटर के रूप में तब्‍दील कर दिया है. कोरोना के सामान्‍य लक्षणों वाले मरीज यहां पर आइसोलेट हो सकते हैं. यह सेंटर मंगलवार से चालू हो जाएगा. यहां पर मरीजों के लिए ऑक्‍सीजन, दवा और खाने पीने की सुविधा भी उपलब्‍ध होंगी.

शासन के निर्देश पर  गाजियाबाद नगर निगम (Ghaziabad Municipal Corporation) ने यहां पर 150 बेड का आइसोलेशन सेंटर (Isolation Center) तैयार कर दिया. इस सेंटर में 25 बेड जीडीए, नगर निगम,पुलिस और फ्रंटलाइन वर्करों के लिए रिजर्व किए गए हैं. ताकि जरूरत पड़ने पर उन्‍हें तत्‍काल भर्ती कराया जा सके. वहीं, आरएसएस की सेवा भारती ने भी मानसरोवर भवन में 50 बेड उपलब्‍ध कराए हैं. इस तरह अब मानसरोवर भवन में 200 कोरोना संक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन, भोजन व अन्य आवश्यक सुविधाएं मिल सकेंगी. इसको जय भारत कोविड केयर सेंटर नाम दिया गया है.

नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि रोशनी एनजीओ के साथ मिलकर कोरोना संक्रमितों का इलाज करने के लिए चर्चा हुई थी. एनजीओ की मदद से आइसोलेशन सेंटर में प्रत्येक बेड के साथ ऑक्सीजन सिलेंडर और कंसंट्रेटर की व्यवस्था की गई है, जबकि सेंटर में भर्ती मरीज को नगर निगम की तरफ से खाने-पीने की व्यवस्था दी जाएगी. इसके अलावा मरीज की देखरेख और अन्य सुविधाओं के लिए एनजीओ स्टाफ भी आइसोलेशन सेंटर में मौजूद रहेगा. कोरोना संक्रमित मरीज को भर्ती होने के लिए अपनी रिपोर्ट पाजिटिव रिपोर्ट दिखानी होगी. यदि किसी के घर में कम जगह होने की वजह से आइसोलेशन की व्यवस्था नहीं है, तो ऐसे मरीज अपनी पॉजिटिव रिपोर्ट दिखाकर सेंटर में भर्ती हो सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज