ये कैसा Unlock 1.0: सब्जी 2 बजे तो दूध की दुकानें 4 बजे बंद, लेकिन रात 9 बजे तक मिल रही शराब
Delhi-Ncr News in Hindi

ये कैसा Unlock 1.0: सब्जी 2 बजे तो दूध की दुकानें 4 बजे बंद, लेकिन रात 9 बजे तक मिल रही शराब
होटल, क्लब और रेस्ट्रो-बार के पास पहले से पड़ी शराब की खेप आने वाले दिनों में एक्सपायर जो जाती है. (फाइल फोटो)

Unlock 1.0 के तहत गाजियाबाद में रियायतों के नाम पर फल-सब्जी, दूध और शराब की दुकान खुलने की अलग-अलग समय सीमा तय की गई है. Lockdown में तय की गई ऐसी समय-सीमा से लोग नाखुश हैं.

  • Share this:
गाजियाबाद. कोरोना वायरस की महामारी (Coronavirus Epidemic) से पूरा देश जूझ रहा है और इस समय लॉकडाउन 5.0 (Lockdown 5.0) जारी है. हालांकि केंद्र सरकार ने इसे अनलॉक 1.0 नाम दिया है. जबकि अनलॉक 1.0 (unlock 1.0)  के आगाज के साथ गाजियाबाद में रियायतों के नाम पर अलग-अलग समय सीमा तय की गई है. मसलन फल और सब्जियों की दुकान सुबह 6 से 2 बजे तक, तो ग्रोसरी सुबह 6 से शाम 4 बजे तक खुलने के आदेश जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय (DM Ajay Shankar Pandey) द्वारा दिये गए हैं. इतना ही नहीं, रात 9 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू भी मान्य होगा और इस दौरान कोई भी बाहर नहीं निकलेगा.

शराब की दुकानों का ये है समय
जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय के आदेश के मुताबिक जरूरी सेवा में लगे वाहनों जाने की इजाजत होगी. वहीं, बीड़ी और सिगरेट की दुकान शाम 4 बजे तक खोलने के आदेश हैं. इसके अलावा शराब की दुकानों को सुबह 10 से रात 9 बजे तक खोला जा सकता है.जबकि अन्य दुकानों को शहरी इलाके में दिन के हिसाब से लेफ्ट और राइट साइड की सीरीज में खोलने के आदेश हैं, तो ग्रामीण इलाकों में सप्ताह में 6 दिन दुकानें खोलने के आदेश पारित किए गए हैं.

आम लोगों के साथ दुकानदारों को समझ नहीं आ रहे आदेश



मगर इस आदेश से आम लोगों के साथ-साथ दुकानदारों को भी खासी दिक्कत हो रही है. क्‍योंकि जो समय फल,सब्जी और ग्रोसरी की दुकानों को खोलने के लिए दिया गया है वो जनता और दुकानदार दोनों के ही लिए असमान्य जैसा ही है. मसलन अगर घरेलू महिला घर से सब्जी फल आदि लेने के लिए निकलेगी तो दोपहर उसे काफी दिक्‍कत होगी. वहीं, दुकानदार जब रात को दुकान बंद कर आने घर जाएगा तो उस समय तक कर्फ्यू का समय लग जाएगा. कुल मिलाकर जिस तरह की रियायतें अनलॉक 1.0 में दी गयी हैं उसमें ना तो आम जनता का ख्याल रखा गया है और ना ही दुकानदारों का. इसी वजह से गाजियाबाद की जनता इस अनलॉक 1.0 की रियायतों को नापसंद कर रही है, उससे तो यही जाहिर होता है कि जिलाधिकारी को अपने आदेश में कुछ बदलाव के साथ साथ संशोधन भी करना होगा.



ये भी पढ़े

वाराणसी की छात्रा का कमाल, अब महिलाओं को घरेलू हिंसा से बचाएगा COVID-19
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading