होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /गाजियाबाद के इस इलाके में दो साल में पानी की किल्‍लत होगी दूर

गाजियाबाद के इस इलाके में दो साल में पानी की किल्‍लत होगी दूर

प्रस्‍ताव स्‍वीकृत होने के बाद शुरू होगा काम.  (प्रतीकात्मक तस्वीर-News18)

प्रस्‍ताव स्‍वीकृत होने के बाद शुरू होगा काम. (प्रतीकात्मक तस्वीर-News18)

गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन में बहुमंजिला 61 सोसायटियां हैं. एक लाख की आबादी वाले इस क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति की क ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

मधुवन बापूधाम को भी मिलेगा पानी
भूजल पर निर्भरता होगी खत्‍म

गाजियाबाद. शहर के एक इलाके में 2025 तक पानी की किल्‍लत दूर हो जाएगी. इस इलाके में पानी की किल्‍लत को देखते हुए जलकल ने प्रस्‍ताव तैयार कर रहा है. इस इलाके में गंगाजल की आपूर्ति की योजना बनाई गयी है. डीएम के माध्यम से प्रस्‍ताव शासन को भेजा जाएगा. स्‍वीकृति होने के बाद गंगजल प्‍लांट बनाने का काम शुरू हो जाएगा.

गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन में बहुमंजिला 61 सोसायटियां हैं. एक लाख की आबादी वाले इस क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति की कोई व्यवस्था नहीं है. सबमर्सिबल से पानी की आपूर्ति होती है. पिछले एक दशक में यहां तेजी से इमारतें बनी हैं. यहां पर पिछले कई सालों से गंगाजल आपूर्ति की मांग चली आ रही है. जल निगम प्रस्ताव तैयार कर रहा है. यह प्रस्ताव डीएम के माध्यम से शासन को भेजा जाएगा. गंगाजल की उपलब्धता के लिए निगम सिंचाई विभाग के अधिकारियों से भी संपर्क कर रहा है_
जलकल के अधिकारियों के अनुसार निगम इसको लेकर प्लान तैयार कर रहा है. अधीक्षक अभियंता योगेश शर्मा का कहना है कि 100 क्यूसेक का गंगाजल प्लांट राजनगर एक्सटेंशन में बनाने के लिए प्रशासन और सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक हो चुकी है. प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है. प्लांट बनने के बाद यहां से मधुबन बापूधाम के लोगों को भी गंगाजल की आपूर्ति की जाएगी.

गाजियाबाद में करीब 68 फीसदी घरों में ही नगर निगम पेयजल आपूर्ति कर रहा है. 32 फीसदी घरों में पेयजल सबमर्सिबल या बाजार से खरीदकर आ रहा है. राजनगर एक्सटेंशन में यहां हर सोसायटी में भूजल का इस्तेमाल किया जा रहा है. एक अनुमान के मुताबिक यहां करीब 18 से 20 एमएलडी पानी खर्च हो रहा है.गंगाजल की आपूर्ति के बाद यहां के लोगों को ग्राउंड वाटर से छुटकारा मिल सकेगा.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

दिल्ली-एनसीआर
दिल्ली-एनसीआर

Tags: Drinking water crisis, Ghaziabad News, Uttar pradesh news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें