Home /News /delhi-ncr /

मोहननगर-वैशाली रोपवे का खर्चा घटाने को GDA ने ढूंढा नायाब आइडिया, 50 करोड़ रुपए बचेंगे

मोहननगर-वैशाली रोपवे का खर्चा घटाने को GDA ने ढूंढा नायाब आइडिया, 50 करोड़ रुपए बचेंगे

Mohannagar-Vaishali Ropeway: मोहननगर से वैशाली के बीच रोपवे प्रोजेक्ट की लागत कम करने को GDA ने इसमें एसी कोच नहीं लगाने का फैसला किया है. (डेमो पिक्चर)

Mohannagar-Vaishali Ropeway: मोहननगर से वैशाली के बीच रोपवे प्रोजेक्ट की लागत कम करने को GDA ने इसमें एसी कोच नहीं लगाने का फैसला किया है. (डेमो पिक्चर)

Mohannagar-Vaishali Ropeway News: गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के अधिकारियों के अनुसार मोहननगर से वैशाली के बीच रोपवे प्रोजेक्ट की फाइनल डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के बाद लागत 450 करोड़ है. रोपवे ट्रॉली में एसी कोच शामिल करने से प्रोजेक्ट की लागत 40 से 50 करोड़ रुपए का अतिरिक्त खर्च आ रहा है, जिसे कम करने के लिए प्राधिकरण ने अब नॉन-एसी कोच के साथ रोपवे ट्रॉली चलाने का फैसला किया है.

अधिक पढ़ें ...

    गाजियाबाद. मोहन नगर से वैशाली मेट्रो तक प्रस्‍तावित रोपवे (Mohan nagar-Vaishali Ropeway) की लागत कम करने के लिए गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (Ghaziabad Development Authority) ने बड़ा फैसला किया है. रोपवे में यात्रियों को एयर कंडीशनर कोच की सुविधा नहीं मिलेगी. यात्री सामान्य कोच में सफर करेंगे. एसी कोच लगाने से प्रोजेक्ट की लागत और रखरखाव खर्च में इजाफे को देखते हुए सामान्य 10 सीटर वाले कोच को रखने को निर्णय लिया है. इस फैसले पर सहमति बन गई है.

    गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के अधिकारियों के अनुसार रोपवे प्रोजेक्ट की फाइनल डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के बाद लागत 450 करोड़ है. एसी को प्रोजेक्ट में शामिल करने से हैवी लाइन, उसके रखरखाव का खर्च और रखने की अलग व्यवस्था करने पर लागत में 40 से 50 करोड़ का अतिरिक्‍त खर्च आ रहा है. साथ ही कम समय को देखते हुए भी एसी कोच को प्रोजेक्ट के लिए ठीक नहीं पाया गया. जबकि सामान्य कोच में कम कीमत और रखरखाव खर्च के चलते बिल्कुल सही पाया गया. एसी कोच के निर्माण में अधिक समय लगेगा. इस वजह वजह से सामान्‍य कोच चलाने का निर्णय लिया गया है.

    ये हैं प्रस्‍तावित स्‍टेशन

    मोहन नगर से वैशाली तक रोपवे प्रोजेक्ट में चार स्टेशन प्रस्तावित हैं. इसमें वैशाली, वसुंधरा, साहिबाबाद और मोहननगर हैं. रोपवे की ट्राली से 15 मिनट का सफर  होगा. वैशाली से मोहननगर तक आने-जाने के लिए दो ट्रैक बनाए जाएंगे. एक ट्राली में 10 लोग बैठ सकेंगे.

    20 फीसदी फंड केन्‍द्र देगा

    गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के वीसी कृष्‍णा करुणेश के अनुसार इस प्रोजेक्‍ट को पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मोड पर पूरा करने की योजना बनाई गई है. इसके लिए  60 फीसदी खर्च निर्माण करने वाली कंपनी करेगी. 20 फीसदी जीडीए और 20 फीसदी खर्च केन्‍द्र सरकार वहन करेगा.

    Tags: Ghaziabad News, Uttar pradesh news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर