Home /News /delhi-ncr /

gopal rai writes to union environment minister again calls for a joint meeting of ncr states over pollution

Delhi-NCR राज्‍यों की प्रदूषण मसले पर केंद्र बुलाए ज्‍वाइंट मीट‍िंग, गोपाल राय ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को पत्र ल‍िखकर लगाई गुहार

द‍िल्‍ली सरकार केंद्र सरकार से प्रदूषण के मामले में   सहयोग करने के ल‍िए सभी एनसीआर राज्‍यों की संयुक्‍त बैठक बुलाने की गुहार लगाई है. (फाइल फोटो)

द‍िल्‍ली सरकार केंद्र सरकार से प्रदूषण के मामले में सहयोग करने के ल‍िए सभी एनसीआर राज्‍यों की संयुक्‍त बैठक बुलाने की गुहार लगाई है. (फाइल फोटो)

Air Pollution Summer Action Plan: पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा क‍ि दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में प्रदूषण स्तर नियंत्रित करने के उद्देश्य से तत्काल बैठक बुलाने की जरूरत है. इसल‍िए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव को पत्र लिखा है. पर्यावरण मंत्री ने दिल्ली-एनसीआर राज्यों के सभी पर्यावरण मंत्रियों एवं विशेषज्ञों की संयुक्त बैठक बुलाने की मांग की है जिससे की संयुक्त कार्य योजना तैयार हो सके.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. द‍िल्‍ली में हर साल वायु प्रदूषण (Air Pollution) को लेकर हालात बेहद खराब हो जाते हैं. खासकर सर्द‍ियों में प्रदूषण का लेवल इतनी खराब स्‍थ‍िति में पहुंच जाता है क‍ि लोगों को सांस लेना मुश्‍क‍िल हो जाता है. इस समस्‍या से न‍िपटने के ल‍िए द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) व‍िंटर एक्‍शन प्‍लान (Winter Action Plan) की तर्ज पर समर एक्‍शन प्‍लान (Summer Action Plan) भी तैयार करने जा रही है. साथ ही केंद्र सरकार (Central Government) से इस मामले में सहयोग करने के ल‍िए सभी एनसीआर राज्‍यों की संयुक्‍त बैठक बुलाने की गुहार लगा रही है. इस बाबत द‍िल्‍ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव (Bhupender Yadav) को पत्र भी लिखा है.

    ये भी पढ़ें: Air Pollution: प्रदूषण से न‍िपटने के ल‍िए केजरीवाल सरकार तैयार करेगी समर एक्‍शन प्‍लान, इन 14 ब‍िंदुओं पर होगा काम 

    पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा क‍ि दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में प्रदूषण स्तर नियंत्रित करने के उद्देश्य से तत्काल बैठक बुलाने की जरूरत है. इसल‍िए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव को पत्र लिखा है. पर्यावरण मंत्री ने दिल्ली-एनसीआर राज्यों के सभी पर्यावरण मंत्रियों एवं विशेषज्ञों की संयुक्त बैठक बुलाने की मांग की है जिससे की संयुक्त कार्य योजना तैयार हो सके.

    गोपाल राय ने पत्र में कहा है कि दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए तमाम उपायों के परिणामस्वरूप दिल्ली के अंदर प्रदूषण के स्तर में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. आईआईटीएम के डाटा के आधार पर सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट की ओर से जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली के प्रदूषण में 31 प्रतिशत दिल्ली के अंदर के स्रोतों का प्रदूषण है, जबकि 69 प्रतिशत प्रदूषण में एनसीआर क्षेत्र के स्रोतों का योगदान है. डाटा विश्लेषकों के अनुसार साल 2018 से 2021 के दौरान दिल्ली में एक्यूआई का स्तर खराब श्रेणी से सेटिस्फेक्ट्री एवं मॉडरेट श्रेणी की तरफ बढ़ रहा है.

    उन्होंने कहा कि इससे स्पष्ट होता है कि दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए कदम, दिल्ली के प्रदूषण को कम करने में सहायक साबित हो रहे हैं. भविष्य में स्थिति इससे भी बेहतर हो सके, इसके लिए पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दिल्ली में पर्यावरण के सुधार के लिए एनसीआर के राज्यों की सहभागिता के लिए अनुरोध किया है. मालूम हो कि मंत्री गोपाल राय ने पिछले साल भी केंद्र सरकार को संयुक्त बैठक के लिए 7 नवम्बर, 11 नवम्बर और 3 दिसंबर को पत्र लिखा था.

    समर एक्शन प्लान को 11 अप्रैल को होगी मीट‍िंग
    दिल्ली की प्रदूषण समस्या को ध्यान में रखते हुए गोपाल राय ने सोमवार को पर्यावरण विभाग, डीपीसीसी, डीडीए, एमसीडी, फायर सर्विस, डूसिब, राजस्व विभाग, डीएसआईडीसी , इरिगेशन एंड फ्लड डिपार्टमेंट सहित तमाम विभागों की संयुक्त बैठक की थी. बैठक में समर एक्शन प्लान तैयार करने का फैसला किया गया था. पर्यावरण मंत्री गोपाल राय का मानना है कि विंटर एक्शन प्लान को सफल बनाने के लिए समर एक्शन प्लान पर काम करना बहुत ज़रूरी है. समर एक्शन प्लान को लेकर अगली बैठक 11 अप्रैल को दिल्ली सचिवालय में होगी ज‍िसमें सभी विभाग अपनी कार्य योजना देंगे जिसके आधार पर समर एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा.

    Tags: Air pollution, Central government, Delhi air pollution, Delhi news, Gopal Rai, NCR Air Pollution, Pollution

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर