पीपल बाबा ने दिया जन्मदिवस को हरियाली दिवस बनाने आइडिया, आतिफ ने नकवी के 63वें जन्मदिन पर लगाए 126 पौधे

पीपल बाबा ने कहा कि जीवन के सबसे अहम लक्ष्य देश में हरियाली क्रांति लाना है. उन्होंने कहा- जैन हो, सिख हो हिन्दू या मुसलमान हम सभी मिलकर बनाएंगे हरा - भरा हिंदुस्तान.
पीपल बाबा ने कहा कि जीवन के सबसे अहम लक्ष्य देश में हरियाली क्रांति लाना है. उन्होंने कहा- जैन हो, सिख हो हिन्दू या मुसलमान हम सभी मिलकर बनाएंगे हरा - भरा हिंदुस्तान.

पीपल बाबा ने कहा कि जीवन के सबसे अहम लक्ष्य देश में "हरियाली क्रांति" लाना है. उन्होंने कहा- जैन हो, सिख हो हिन्दू या मुसलमान हम सभी मिलकर बनाएंगे हरा - भरा हिंदुस्तान.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2020, 10:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी का आज 63वां जन्मदिन है. लेकिन साल 2020 में किसी का भी जन्मदिन वैसे नहीं मन पाया है जैसे कि पिछले सालों में मनता रहा है. ऐसे में बहुत से लोग भले अफसोस कर रहे हों, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के नेता व समर्थक अपने प्रधान सेवक नरेंद्र मोदी की उस लाइन का पूरा पालन करते नजर आ रहे हैं जिसमें उन्होंने इस महामारी को अवसर में बदलने की बात कही थी. यह बात किसी छिपी नहीं है कि कोरोना महामारी को प्रकृति क्षरण से भी जोड़ कर देखा गया. कई पर्यावरणविदों ने माना कि कोरोना महामारी एक पहलू प्रकृति को नुकसान पहुंचाना भी है. इन्हीं दोनों बातों के मद्देनजर पर्यावरणकर्मी प्रेम परिवर्तन यानी पीपल बाबा और अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य और दिल्ली अल्पसंख्यक मोर्चे के पूर्व अध्यक्ष आतिफ रशीद के नेतृत्व में नकवी के समर्थकों ने दिल्ली के जौनापुर स्थित हनुमान मंदिर के प्रांगण में 63 नीम व 63 पीपल का पेड़ लगाए.

मुख्तार अब्बास नकवी का यह जन्मदिन इस मामले में भी खास रहा कि इस कार्यक्रम में जैन व मुस्लिम समुदाय से जुड़े लोग मंदिर परिसर में हरियाली लाने के लिए एकत्र हुए. इस दौरान आतिफ ने कहा कि बहुत कम ऐसे अवसर होते हैं जब किसी के जन्मदिन के लिए इस तरह से अनेकता में एकता की संस्कृति की वास्तविक झलक देती है. इतना ही नहीं इस कार्यक्रम में बुरका पहनकर ढेर सारी मुस्लिम महिलाओं नें भी हिस्सा लिया. मुस्लिम व जैन समुदाय से जुड़े लोगों नें मंदिर के प्रांगण में पेड़ लगाकर धार्मिक सहिष्णुता का उदाहरण भी पेश किया.

इस मौके पर पीपल बाबा ने कहा कि जीवन के सबसे अहम लक्ष्य देश में "हरियाली क्रांति" लाना है. उन्होंने कहा, 'जैन हो, सिख हो हिन्दू या मुसलमान हम सभी मिलकर बनाएंगे हरा - भरा हिंदुस्तान. उन्होंने बताया कि कोरोना काल में भी पेड़ लगाने का सफर निरंतर जारी रहा है. इसी दौरान पीपल बाबा ने जन्मदिवस को हरियाली दिवस बनाने की संकल्पना पर विचार किया. जिस तरह से मुख्तार अब्बास नकवी के जन्मदिन पर पेड़ लगाए गए उसी तरह कुछ समय पहले मशहूर टीवी एंकर ऋचा अनिरुद्ध ने भी अपने 43 वें जन्मदिन पर सोरखा आकर 44 पेड़ लगाए थे.



इस कड़ी में बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष रहे और वर्तमान अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य अतीफ साहब ने जुड़कर पीपल बाबा के हरियाली क्रांति अभियान को नई ताकत दी है. गौरतलब है कि आतिफ साहब नें पीपल बाबा के पेड़ लगाओ अभियान को पूरे देश में प्रसारित करने में न केवल भरपूर मदद करने का आश्वासन भी दिया है
पीपल बाबा की संस्था द्वारा देश के 18 राज्यों के 202 जिलों में लगाया जा रहा है पेड़
पीपल बाबा ने बताया कि इस समय पीपल बाबा की टीम राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सबसे ज्यादा काम कर रही है. क्योंकि पर्यावरण को लेकर सबसे बुरी हालत बीते कुछ सालों में दिल्ली की ही रही है. उन्होंने बताया कि दिल्ली के जौनापुर में AXA group के सहयोग से उनकी टीम ने पिछले महीने 16, 000 पेड़ लगाए गए थे. इससे पहले HCL के सहयोग से नोएडा सेक्टर 115 के सोरखा गांव में उनकी टीम नें 51, 000 पेड़ लगाए हैं. टीम पहले ही ग्रेटर नोएडा के मैचा में 1 लाख 1 हजार पेड़ लगा चु‌की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज