बैंक की फर्जी ईमेल आईडी बनाकर कर डाली करोड़ों की ठगी, ऐसे देते थे वारदात को अंजाम

आरोपी धोखाधड़ी से करीब 40 करोड़ रुपयों की रकम इकट्ठी करके दुबई में बसना चाहते थे...

Gurugram News: गिरफ्तार आरोपियों में से किशन पहले बैंक में काम करता था और बैंक द्वारा प्रॉपर्टी ऑक्शन की प्रक्रिया को अच्छे से जानता था. आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने 3 गोल्ड ब्रिक और 52 लाख 50 हजार रुपए की नकदी बरामद की. आरोपी दुबई शिफ्ट होने की योजना बना रहे थे.

  • Share this:
गुरुग्राम. साइबर सिटी गुरुग्राम में बैंक की फर्जी ईमेल आईडी तैयार कर लाखों रुपए की ठगी करने वाले तीन आरोपियों को गुरुग्राम साइबर सेल ने गिरफ्तार किया है. आरोपी बड़े ही शातिराना तरीके से बैंक में गिरवी रखी प्रॉपर्टी को बेचने के लिए तैयार कर करोड़ों रुपये का चूना लगाने में माहिर थे. आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने 3 गोल्ड ब्रिक और 52 लाख 50 हजार रुपए की नकदी बरामद की. भारत से दुबई शिफ्ट होने की योजना थी. पुलिस की मानें तो धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार किशन पहले बैंक में काम करता था और बैंक द्वारा प्रॉपर्टी ऑक्शन की प्रक्रिया को अच्छे से जानता था. इसी के चलते किशन ने अपने साथी राकेश वाष्णीय उर्फ राकेश गुप्ता के साथ मिलकर धोखाधड़ी से फर्जी बैंक खाते और ईमेल आईडी इत्यादि तैयार करके बैंक के पास गिरवी रखी प्रॉपर्टी को फर्जी तरीके से बेचने के नाम पर रुपये कमाने की योजना बनाई.

योजनानुसार आरोपियों ने अपने साथी सौरभ पालनवाल उर्फ सुमित शर्मा पासु को अपने साथ शामिल किया और बैंक का डोमेन @pnbcustmorcare.com खरीदकर फर्जी ईमेल आईडी तैयार करने के लिए कहा. इस पर सौरभ ने दो हजार रुपयों में @pnbcustmorcare.com के नाम से फर्जी डोमेन खरीदा और इस धोखाधड़ी को अंजाम देने के लिए एक फर्जी कम्पनी ARMS (Aatma Ram Maharaj Building) के नाम से बनाई.

कंपनी का शॉर्ट नाम ARMB दिया ताकि कस्टमर को बैंक का ही पुलअकाउंट दिखे. इसके द्वारा रजिस्ट्रर कराया हुआ डोमेन pnbcustmorcare.com से ARMS@pnbcustmorcare.com नाम की ईमेल आईडी बनाकर लोगो से बैंक अधिकारी बनकर बातचीत शुरू करते थे तथा बैंक की फर्जी मेल आईडी से कस्टमर को फर्जी बनाए ARMS बैंक खाता में रुपए जमा करा लिया करते थे. पैसा भेजने वाले व्यक्ति द्वारा जब इस संबंध में बैंक में जाकर पता किया तो उसे पता चला था कि उसके साथ धोखाधडी करके PNB Bank में ARMB (Assets Recovery Management Branch की जगह फर्जी ARMS (Aatma Ram Maharaj Building) बैंक में जमा कराए गए हैं.

शिकायतकर्ता से ट्रांसफर कराए गए रुपयों को इन्होनें अन्य बैंक खातों में ट्रान्सफर करके और नगदी रूप में निकाल लिए थे. आरोपियों द्वारा ट्रान्सफर कराई गई नगदी में से 1 करोड़ 50 लाख रुपयों की नगदी, दिल्ली में एक ज्वैलर के खाते में ट्रान्सफर करके उससे 03 गोल्ड ब्रिक खरीदी थी. बाकी रुपयों को इन्होंने आपस में बांट लिया था.

पुलिस की मानें तो किशन कुमार द्वारा अगले कुछ दिनों में इस प्रकार से बैंक के पास गिरवी प्रॉपर्टी को फर्जी रूप से बेचकर 40 करोड़ रुपयों की रकम इकट्ठा करना था. अपने साथियों के साथ मिलकर और दो वारदातों को अन्जाम दे दिया था और इसके पास दो पार्टियों से 7 और 10 करोड़ रुपये में डील
भी हो चुकी थी. अगले कुछ ही दिनों में इनके पास रुपए आने वाले थे. आरोपी 40 करोड़ रुपयों की रकम
इकट्ठा करने के बाद भारत छोड़कर दुबई सैटल होने की फिराक में थे. पुलिस ने उनके इनके इरादों पर पानी फेर दिया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.