• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • पुरुष और महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करती कोरोना वैक्‍सीन

पुरुष और महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करती कोरोना वैक्‍सीन

कोरोना वैक्‍सीन लगवाने से महिला और पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है.

कोरोना वैक्‍सीन लगवाने से महिला और पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है.

कोरोना की वैक्सीन और प्रजनन क्षमता को लेकर महिलाएं ही नहीं पुरुषों के मन में भी भ्रम है कि वैक्सीन लेने से उनकी प्रजनन क्षमता पर तो कोई असर नहीं पड़ेगा. वहीं महिलाएं सोच रही हैं कि वैक्‍सीन के बाद वे भविष्य में गर्भधारण कर पाएंगी या नहीं लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि गर्भधारण या प्रजनन क्षमता पर वैक्‍सीन का कोई नकारात्‍मक प्रभाव नहीं पड़ता है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ देशभर में जनवरी से ही वैक्‍सीनेशन अभियान चल रहा है. अभी तक 30 करोड़ से ज्‍यादा लोगों को कोरोना की वैक्‍सीन लगाई जा चुकी है. वहीं मई में 18 साल से ऊपर आयु वर्ग के लोगों को भी वैक्‍सीन लगवाने की अनुमति मिल गई. केंद्र और राज्‍य सरकारों की ओर से लगातार लोगों से वैक्‍सीन लगवाने की अपील की जा रही है. हालांकि गांव-देहात के अलावा शहरों में भी लोगों के मन में वैक्‍सीन को लेकर अजीब भ्रम और आशंकाएं भी हैं.

    खासतौर पर युवा वर्ग में वैक्सीनेशन की शुरुआत के बाद वैक्सीन और प्रजनन क्षमता को लेकर महिलाएं ही नहीं पुरुषों के मन में भी भ्रम है कि वैक्सीन लेने से उनकी प्रजनन क्षमता पर तो कोई असर नहीं पड़ेगा. वहीं महिलाएं सोच रही हैं कि वैक्‍सीन के बाद वे भविष्य में गर्भधारण कर पाएंगी या नहीं या परेशानियां सामने आ सकती हैं.

    ये भी पढ़ें. कोरोना की तीसरी लहर और डेल्‍टा प्‍लस वेरिएंट को लेकर वैज्ञानिकों ने कही ये बड़ी बात



    हालांकि कोविड वैक्सीन को लेकर इस वर्ग की स्वास्थ्य संबंधी कई दिक्कतों पर दिल्‍ली के लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज की प्रसूति एवं स्त्री रोग विभाग की प्रमुख डॉ. मंजू पुरी ने ऐसी किसी भी आशंका को निराधार बताया है साथ ही महिला और पुरुषों में प्रजनन क्षमता को लेकर विस्‍तार से सवालों के जवाब दिए हैं.

    सवाल. क्या कोविड वैक्सीन प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती है?

    जवाब. सबसे खास बात है कि वैक्सीन को शरीर में संक्रमण के कारक वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा तंत्र विकसित करने के लिए बनाया गया है, इसका अन्य किसी भी हार्मोन पर किसी तरह का प्रभाव नहीं पड़ता है. महिलाओं में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टोरेन को गर्भधारण के लिए कारक माना जाता है, वहीं पुरूषों में हार्मोन टेस्टोरेन प्रजनन क्षमता का निर्धारण करता है. कोविड की किसी भी वैक्सीन से हार्मोन पर किसी भी तरह का असर नहीं पड़ता, इसलिए वैक्सीन लेने के बाद संतानहीनता या प्रजनन क्षमता कम होने के दीर्घकालीन परिणाम होने की संभावना लगभग न के बराबर है. सभी वैक्सीनों की प्रभावकारिता और गुणवत्ता की जांच के लिए सबसे पहले वैक्सीन का जानवरों पर परीक्षण किया जाता है, कोविड वैक्सीन को भी वैक्सीन प्रमाणिकता के सभी मानकों पर जांचा-परखा गया है. यह सुरक्षित है.

    सवाल. गर्भ निरोधक उपायों का सेवन करते हुए भी क्या कोविड वैक्सीन ले सकते हैं? क्या इसका कोई बुरा प्रभाव पड़ेगा?

    जवाब. कुछ कांट्रेसेप्टिव या गर्भनिरोधक विकल्पों में स्टेरॉयड होता है. अधिकांश युगल दम्पत्तियों में यह आशंका है कि यदि वे परिवार नियोजन के लिए गर्भ निरोधक गोलियों का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उन्हें फिलहाल कोविड वैक्सीन नहीं लेनी चाहिए. कुछ देशों में कोविड वैक्सीन लेने के बाद थांब्रोसाइसिस (खून का थक्का) बनने के मामले सामने आए हैं जिसका संबंध वैक्सीन के बाद शरीर में होने वाले इम्यून इंड्यूस्ड (प्रतिरक्षा प्रेरित) से लगाया जाता है लेकिन भारत के लोगों में खून के थक्के बनने की संख्या बहुत कम है इसलिए कोविड वैक्सीन परिवार नियोजन के साथ भी लिया जा सकता है.

    ये भी पढ़ें. कोरोना के दौरान ये हैं मेंटल हेल्‍थ खराब होने के लक्षण, ऐसे करें देखभाल

    सवाल. क्या महिलाओं को पीरियड्स या माहवारी के समय वैक्सीन नहीं लेना चाहिए?

    जवाब. अधिकतर लोगों के द्वारा यह कहा जा रहा है कि महिलाओं को माहवारी के तीन या चार दिन तक कोविड वैक्सीन नहीं लेना चाहिए, क्योंकि इस समय महिलाओं के शरीर में कुछ तरह के हार्मोनल्स बदलाव होते हैं लेकिन वैक्सीन माहवारी में भी ली जा सकती है. यह ध्‍यान देने वाली बात है कि हार्मोन संबंधी बदलाव को वैक्सीन प्रभावित नहीं करती है महिलाएं किसी भी स्थिति में वैक्सीन ले सकती हैं. हां पोषण का ध्‍यान रखें और वैक्सीन लगवाने वाले दिन खाना खाकर जाएं और पानी साथ लेकर जाएं.

    सवाल. क्या गर्भवती महिलाएं और स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी वैक्सीन ले सकती हैं?

    जवाब. भारत में लांच की गई कोरोना की किसी भी वैक्सीन का गर्भवती महिलाओं पर परीक्षण का परिणाम सामने नहीं आया है, इसलिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस बात के लिए आश्वस्त नहीं हैं कि वैक्सीन गर्भवती महिलाओं या गर्भस्थ शिशु को किस प्रकार प्रभावित करेगी, लेकिन स्तनपान कराने वाली महिलाएं वैक्सीन ले सकती है. इससे उन्हें किसी तरह का नुकसान नहीं हैं. यदि वैक्सीन लगने के बाद हल्का बुखार हो तो उस स्थिति में शिशु को स्तनपान न कराएं.

    सवाल. क्या पीसीओडी (पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम) या यूटीआई (यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन) की स्थिति में भी महिलाएं वैक्सीन ले सकती है?

    जवाब. ऐसी किसी भी स्थिति में वैक्सीन का दुष्प्रभाव होगा, ऐसा फिलहाल नहीं देखा गया है. एहतियात के तौर पर कहा जाता है कि यदि पूर्व में कोई खून पतला करने वाली दवाओं का सेवन कर रहा है तो वैक्सीन लेने से पहले एक बार अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क कर लें. पीसीओडी या यूटीआई में वैक्सीन का दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज