Home /News /delhi-ncr /

हंसराज कॉलेज में गौशाला खुलने से पहले ही विरोध शुरू, छात्र बोले- लड़कियों को हॉस्‍टल की जरूरत

हंसराज कॉलेज में गौशाला खुलने से पहले ही विरोध शुरू, छात्र बोले- लड़कियों को हॉस्‍टल की जरूरत

दिल्ली के हंसराज कॉलेज में गौशाला शुरू होने से पहले ही छात्रों ने विरोध शुरू कर दिया है. उन्होंने विरोध में कैम्पेन शुरू कर दिया है. इसके लिए ऑनलाइन पिटीशन शुरू की है.

दिल्ली के हंसराज कॉलेज में गौशाला शुरू होने से पहले ही छात्रों ने विरोध शुरू कर दिया है. उन्होंने विरोध में कैम्पेन शुरू कर दिया है. इसके लिए ऑनलाइन पिटीशन शुरू की है.

Controversy over Gaushala in Hansraj College: दिल्ली यूनिवर्सिटी के हंसराज कॉलेज में गौशाला खोलने को लेकर प्रशासन और स्टूडेंट आमने-सामने आ गए हैं. स्टूडेंट्स का कहना है कि प्रशासन ने गर्ल्स हॉस्टल की जगह गौशाला खोल दी है, जबकि कॉलेज की प्रिसिंपल का कहना है कि हॉस्टल पर काम चल रहा है और गौशाला के लिए कॉलेज के एक कोने का इस्तेमाल किया गया है. लेकिन छात्रों का कहना है कि लड़कियों के लिए हॉस्टल जरूरी है, गौशाला नहीं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली यूनिवर्सिटी के हंसराज कॉलेज में ‘गौ संवर्द्धन एवं अनुसंधान केंद्र’ (Hansraj College Sets up Cow Center) खोला गया है. लेकिन इसके शुरू होने से पहले ही विवाद (Dispute over cow center in college) शुरू हो गया है. स्टूडेंट्स का कहना है कि कॉलेज प्रशासन ने गर्ल्स हॉस्टल (Girls Hostel) की जगह पर गौशाला खोल दी है, जबकि कॉलेज की लड़कियों को हॉस्टल की जरूरत है.

इस आरोप को गलत बताते हुए कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. रमा ने कहा है कि कॉलेज ने ‘स्वामी दयानंद संवर्द्धन एवं अनुसंधान केंद्र’ खोला है, जिसमें एक गाय भी रखी गई है. मगर इस छोटी सी जगह का गर्ल्स हॉस्टल की जमीन से कोई लेना देना नहीं है. उन्होंने कहा कि कॉलेज का 100 बेड वाला गर्ल्स हॉस्टल जब तक नहीं बनता, तब तक के लिए प्रशासन 25 से 30 सीट वाले मिनी हॉस्टल पर काम कर रहा है, जिसे 1 साल में पूरा करने की कोशिश की जा रही है.

विरोध कर रहे स्टुडेंट्स ने शुरू की ऑनलाइन पिटीशन

हंसराज कॉलेज (Hansraj College) में कॉलेज प्रशासन की ओर से ‘गौशाला’ खोलने पर कॉलेज के स्टूडेंट्स ने ऐतराज जताया है. इसके विरोध में हंसराज SFI यूनिट ने ऑनलाइन पिटीशन साइन करनी शुरू कर दी है. स्टूडेंट्स का कहना है कि कॉलेज प्रशासन ने ‘स्वामी दयानंद गौ संवर्द्धन एवं अनुसंधान केंद्र’ के नाम पर कॉलेज में गौशाला खोल दी है. एसएफआई का कहना है कि यह गौशाला उसी जगह खोली गई है जहां पर लड़कियों के लिए हॉस्टल बनाया जाना है. कई सालों से स्टूडेंट्स उसके इंतजार में हैं. स्टूडेंट्स का कहना है कि कॉलेज ने हो जमीन गर्ल्स हॉस्टल के लिए तय की थी.

लड़कियों के हॉस्टल के लिए नहीं है वो जमीन, जहां पर गाय रखी गईं

कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ रमा का कहना है कि जिस जमीन पर गाय रखी गई है, वह लड़कियों के हॉस्टल के लिए नहीं तय की गई है. डॉ रमा कहती हैं, कॉलेज ने जहां आरटीपीसीआर सेंटर बनाया था, करीब 2 महीने पहले उस जगह ‘स्वामी दयानंद गौ संवर्द्धन एवं अनुसंधान केंद्र’ बना दिया गया है, जिसमें सिर्फ एक गाय रखी गई है. साफ है कि एक गाय रखने के लिए जितनी जगह का इस्तेमाल किया गया है, वहां लड़कियों का हॉस्टल नहीं बन सकता. जिस जगह पर सेंटर बनाया गया है वह कॉलेज का वह कोना, जिसका इस्तेमाल भी नहीं हो रहा था. हंसराज कॉलेज डीएवी ट्रस्ट, आर्य समाज चलाता है.

बच्चों को शुद्ध दूध मिले, इसलिए रखी गई गाय

डॉ. रमा कहती हैं, हमारे कॉलेज में हर महीने हवन होता है, हमारी अपनी यज्ञशाला है. हमें एक गाय मिली तो हमने सोचा कि कैंपस में ही रखा जाए ताकि हवन के लिए भी हमें सामान मिले और हॉस्टल के बच्चों को भी शुद्ध दूध मिले. हम कुछ और गाय रख सकते हैं, छोटा बायो गैस प्लांट भी लगा सकते हैं. कल हो सकता है कि इस इनहाउस प्रोजेक्ट पर कोई स्टूडेंट स्टार्टअप ही शुरू कर दे. मगर शुरुआती रिजल्ट को देखते हुए इस सेंटर को आगे बढ़ाएंगे.

100 कैपेसिटी वाला हॉस्टल मास्टर प्लान में है: प्रिसिंपल

डॉ. रमा ने कहा, जहां तक की गर्ल्स हॉस्टल की बात है तो वह इतनी सी जगह में शुरू नहीं हो सकता. हमने 100 कैपेसिटी वाला हॉस्टल के प्रस्ताव को मास्टर प्लान में डाला है. उसे बनाने के लिए एमसीडी से अप्रूवल लिया जाएगा. हमने भी देखा है कि हॉस्टल ना होने की वजह से कॉलेज को नुकसान होता है और अच्छी गर्ल्स स्टूडेंट्स एडमिशन नहीं ले पाती हैं. हॉस्टल को लेकर हम भी गंभीर हैं.

दूसरी ओर, स्टूडेंट्स का कहना है कि इसे लेकर वे अपना विरोध करेंगे. जब कॉलेज बंद था तो कॉलेज प्रशासन ने बिना स्टूडेंट्स कम्युनिटी को जानकारी दिए इस गौशाला को खोला है. उनका कहना है कि महामारी के दौरान फीस में छूट जैसी असल जरूरतों पर कॉलेज को ध्यान देने की जरूरत है.

Tags: Delhi News Alert, Delhi University, Gaushala

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर