Delhi Metro: एक घंटे तक बंद हुए तीन स्टेशनों के गेट, जंतर-मंतर पर हो रहा प्रदर्शन बना कारण

मेट्रो को लेकर बड़ी जानकारी मिल रही है.
मेट्रो को लेकर बड़ी जानकारी मिल रही है.

DMRC के अनुसार जनपथ के साथ ही राजीव चौक और पटेल चौक के भी गेट बंद कर दिए गए थे. हालांकि करीब एक घंटे बाद सामान्य तौर पर मेट्रो का संचालन एक बार फिर शुरू किया गया और सभी गेट खोल दिए गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 8:29 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. उत्तर प्रदेश के हाथरस केस का गुस्सा अब दिल्ली (Delhi) तक पहुंच गया है. इंसाफ की मांग को लेकर वामपंथी दल, भीम आर्मी (Bhim Armya) और छात्र संगठनों के सदस्य राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के जंतर मंतर में प्रदर्शन कर रहे हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, एहतियात के तौर पर जनपथ (Janpath)  के एंट्री और एग्जिट गेट एक घंटे तक के लिए इस दौरान बंद कर दिए गए. साथ ही राजीव चौक और पटेल चौक के गेट भी बंद कर दिए गए थे. हालांकि करीब एक घंटे बाद सभी स्टेशनों के गेट खोल दिए गए और फिर एक बार सामान्य तौर पर मेट्रो का संचालन शुरू हुआ. वहीं हाथरस मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने सत्ता पक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा है कि कुछ लोगों ने हमारी हाथरस (Hathras) की बेटी के साथ ये अमानवीय कृत्य किया, उसके साथ बलात्कार हुआ और फिर उसकी रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई, आखिर में उस बेचारी की जान चली गई.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि एक तरफ़ तो उन दरिंदों ने उस लड़की के साथ ये कृत्य कर उसकी जान ले ली. और दूसरी तरफ़ सत्तापक्ष ने जो व्यवहार किया उस बच्ची के साथ, उस परिवार के साथ. हिन्दू धर्म में कहते हैं कि रात में चिता को अग्नि नहीं दी जाती है, लेकिन उसको रात को ही जला दिया गया. धर्म  के और हमारी रीति के खिलाफ़ उसके परिवार को दर्शन नहीं करने दिये. उसके परिवार से बच्ची को छीन लिया गया.

ANI ने ये ट्वीट किया है





ये भी पढ़ें: राजस्थान: होटल के कमरे में IPL मैच पर लगा रहा था सट्टा, दबिश देकर पुलिस ने किया गिरफ्तार



पीड़िता के पिता ने की सीबीआई जांच की मांग

पीड़िता के पिता ने कहा कि उन पर सरकारी अधिकारी दबाव डाल रहे हैं. उन्होंने मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है. लड़की की मंगलवार सुबह मौत हो जाने के बाद देश में व्यापक स्तर पर रोष छाया हुआ है और उत्तर प्रदेश सरकार की तीखी आलोचना की जा रही है. लड़की के पिता ने दावा किया कि पुलिस थाने जाने के लिये उन पर दबाव डाला गया, जहां जिलाधिकारी और पुलिस अधिकारियों ने उनके परिवार के तीन सदस्यों से कुछ कागजात पर हस्ताक्षर कराए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज