Hathras Case: पीड़ित परिवार के साथ निकले भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद और दिल्ली इकाई प्रमुख लापता!

भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने टप्पल पुलिस थाना में प्रदर्शन किया, (File)
भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने टप्पल पुलिस थाना में प्रदर्शन किया, (File)

कार्यकर्ताओं का आरोप है कि चीफ चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) और दिल्ली (Delhi) इकाई के प्रमुख हिमांशु वाल्मीकि मंगलवार रात से लापता हैं. पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है. 

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 5:32 PM IST
  • Share this:
नोएडा. भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) और संगठन की दिल्ली इकाई के प्रमुख हिमांशु वाल्मीकि को उत्तर प्रदेश पुलिस ने उस वक्त हिरासत में ले लिया जब वे हाथरस सामूहिक 'दुष्कर्म' की घटना में जान गंवाने वाली लड़की के परिजन के साथ हाथरस (Hathras Gangrape Case) जा रहे थे. आजाद के सहयोगियों ने बुधवार को यह आरोप लगाया. तो वहीं अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने मामले से कोई जानकारी नहीं होने की बात कही है. आजाद समाज पार्टी के पदाधिकारियों के अनुसार आजाद और वाल्मीकि मंगलवार रात 10 बजे के बाद से लापता हैं. उस वक्त वे हाथरस सामूहिक बलात्कार की घटना में जान गंवाने वाली लड़की के परिजनों के साथ हाथरस जा रहे थे.

मालूम हो कि पीड़िता  की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मंगलवार को मौत हो गई थी. सामूहिक बलात्कार की शिकार लड़की और उसके परिवार को न्याय दिलाने की मांग को लेकर आजाद समाज पार्टी और दलित संगठन भीम आर्मी से जुड़े लोगों ने मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया था. आजाद समाज पार्टी की कोर समिति के सदस्य रविंद्र भाटी ने कहा, ‘जेवर टोल प्लाजा पर पहुंचने के बाद से आजाद और वाल्मीकि का कुछ अता-पता नहीं है’ उन्होंने आरोप लगाया कि रात के समय आजाद तथा वाल्मीकि को हिरासत में ले लिया गया, लेकिन पुलिस इसे सार्वजनिक नहीं कर रही है.

परिवार का बड़ा आरोप



वहीं, हाथरस में सामूहिक 'दुष्कर्म' की शिकार हुई लड़की के परिवार ने बुधवार को आरोप लगाया कि पुलिस ने रात में जबरन उनकी बच्ची का अंतिम संस्कार करा दिया. स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने पीटीआई- भाषा को दिए बयान में कहा कि अंतिम संस्कार परिवार की इच्छानुसार किया गया. बुधवार दोपहर करीब 12.30 बजे आजाद समाज पार्टी और भीम आर्मी के कार्यकर्ता अलीगढ़ के टप्पल पुलिस थाने पर पहुंचे और उन्होंने प्रदर्शन किया. कोर समिति के सदस्य रविंद्र भाटी ने टप्पल पुलिस थाना परिसर के अंदर प्रदर्शनकारियों से कहा, ‘‘आजाद और वाल्मीकि का पता लगाने के लिए हमारे प्रतिनिधियों का एक दल पुलिस और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात करेगा’’
ये भी पढ़ें: Hathras Case: कैलाश विजयवर्गीय बोले- 'CM योगी के प्रदेश में कभी भी पलट जाती है गाड़ी'

इस संबंध में पूछे जाने पर अलीगढ़ के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि हिरासत में लिए जाने के दावे के बारे में कोई जानकारी नहीं है. पीटीआई- भाषा के मुताबिक, इस संबंध में जिला पुलिस प्रमुख और कुछ अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क नहीं हो सका क्योंकि पुलिस अधिकारियों ने बताया कि वे कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं और पिछले तीन-चार दिन से उनका उपचार चल रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज