इंग्‍लैंड से पढ़ाई फिर NCR में जॉब, जब छूटी लाखों की नौकरी तो लगा लिया लाइव ‘मोमोज का ठेला’

कोरोना में लाखों की जॉब जाने पर मोमोज का काउंटर लगाने वाले रा‍हुल दिनोदिया.

कोरोना में लाखों की जॉब जाने पर मोमोज का काउंटर लगाने वाले रा‍हुल दिनोदिया.

कोरोना के दौरान रोजगार जाने से परेशान और दुखी लोगों के लिए दिल्‍ली के राहुल दिनोदिया मिसाल हैं. लंदन से पढ़ाई के बाद जीएम पद तक पहुंचे राहुल की नौकरी चली गई तो आज वो मोमोज का ठेला लगा रहे हैं और इसमें ही कुछ बेहतर करना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2021, 8:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. विश्‍व भर में कोरोना महामारी के दौरान लाखों लोगों का रोजगार छूट गया. भारत में ही जहां सैकड़ों मजदूर पैदल अपने-अपने गांवों को लौट गए वहीं बड़ी-बड़ी कंपनियों में अच्‍छे-खासे पदों पर काम कर रहे लोगों को भी नौकरी से हाथ धोना पड़ गया. हालांकि इतने सब के बावजूद कुछ ऐसे भी लोग हैं जो इस कठिन वक्‍त में औरों के लिए मिसाल बन गए हैं.

दिल्‍ली के द्वारका स्थित पालम के रहने वाले राहुल दिनोदिया कुछ ऐसा ही कर रहे हैं. जीएम पद से सीधे सड़क पर सिक्किम सीजलर मोमोज (Momos) का ठेला लगाकर न केवल आजीविका चला रहे हैं बल्कि कुछ नया भी कर रहे हैं. विदेश से उच्‍च शिक्षा लेने के बाद भारत वापस लौटे राहुल ने महज कुछ साल में ही दिल्‍ली-एनसीआर के नामी होटलों में जनरल मैनेजर तक का सफर तय किया. लेकिन कोरोना के दौरान होटलों के बंद होने के बाद उनकी नौकरी चली गई. करीब नौ महीने तक घर में रहने के बाद आखिरकार राहुल ने हार नहीं मानी और जो हुनर वह होटलों में दिखाया करते थे उसे सड़क तक ले आए. राहुल ने द्वारका में यह ठेला (काउंटर) लगाया है.

Youtube Video


फर्राटेदार अंग्रेजी में लोगों से ऑर्डर लेते हुए राहुल खुद ही यहां लाइव मोमोज बनाते हैं और लोगों को रेस्‍टोरेंट का स्‍वाद सड़क पर ही देते हैं. मोमोज खाने के बाद वो रेस्‍टोरेंट की तरह ही लोगों से फीडबैक भी लेते हैं. इस दौरान न केवल लोग तारीफ करते हैं बल्कि सुझाव भी देते हैं. कोरोना के चलते रेस्‍टोरेंट और होटल जाने से घबरा रहे लोग इस काउंटर पर बेफिक्र होकर आ रहे हैं.
कोरोना में लाखों की नौकरी छूटने के बाद मोमोज का ठेला लगा रहे राहुल ने लंदन से होटल मैनेजमेंट में पढ़ाई की है.
कोरोना में लाखों की नौकरी छूटने के बाद मोमोज का ठेला लगा रहे राहुल ने लंदन से होटल मैनेजमेंट में पढ़ाई की है.


ठेला चला रहे राहुल कहते हैं कि उनके काउंटर पर आज करीब 70-80 लोग रोजाना आते हैं. उन्‍होंने कुछ दिन पहले ही यह काउंटर खोला है. यहां की खास बात है कि यहां लोगों के ऑर्डर लेने के बाद लाइव मोमोज बनाते हैं और उन्‍हें पैक करके देते हैं. रेस्‍टोरेंट की तरह साफ-सफाई, स्‍वाद और सजावट तीनों का ही विशेष ध्‍यान रखा  जाता है. इतना ही नहीं इसकी कीमत भी स्‍ट्रीट फूड की तरह ही काफी कम रखी गई है. यह सब देखकर लोग आश्‍चर्यचकित भी होते हैं और उनके जीवन और पढ़ाई-लिखाई के बारे में भी जानना चाहते हैं.

कोई काम नहीं छोटा, दिल्‍ली में खोलेंगे 10 लाइव मोमोज काउंटर



राहुल का कहना है कि ठेला शब्‍द सुनकर लोगों के मन में एक अजीब सी भावना पैदा हो जाती है लेकिन उन्‍हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. उल्‍टा वो इतने पढ़े-लिखे होकर ये काम कर रहे हैं और लोगों को यही बताना चाहते हैं कि कोई काम छोटा-बड़ा नहीं होता बल्कि उसे छोटा हमारी सोच बनाती है. हमें ये देखना चाहिए कि हर जगह बेहतर करने का मौका है. बुरे समय का रोना रोने से हल नहीं निकलता बल्कि उसे अच्‍छा समय बनाने के लिए कुछ करने के लिए उठ पड़ने से निकलता है.

राहुल दिनोदिया आईटीसी वेलकम और ली मेरिडियन जैसे होटलोंं में काम कर चुके हैं.
राहुल दिनोदिया आईटीसी वेलकम और ली मेरिडियन जैसे होटलोंं में काम कर चुके हैं.


अब वे दोबारा नौकरी करने के बजाय चाहते हैं कि दिल्‍ली में उनके करीब 10 मोमोज काउंटर हों जहां लाइव मोमोज बनाए जाते हों. इतना ही नहीं वह रेस्‍टोरेंट के अंदर मिलने वाली सभी फैसिलिटीज को अब स्‍ट्रीट पर देना चाहते हैं. जब लोग मोमोज खाकर तारीफ करते हैं तो वह सुख जैसा लगता है.

लंदन से की पढ़ाई, 2016 में मिला पुरस्‍कार

दिल्‍ली के नामी स्‍कूल से पढ़ाई के बाद यहीं से होटल मैनेजमेंट में बैचलर डिग्री लेने के बाद राहुल सीधे लंदन चले गए. वहां ईलिंग हैमरस्मिथ एंड वेस्‍ट लंदन कॉलेज से उन्‍होंने होटल मैनेजमेंट में मास्‍टर्स की डिग्री ली. इतना ही नहीं साल 2011 में वहीं रहकर नोवोटेल लंदन हैथ्रो में दो साल नौकरी भी की लेकिन भारत के प्रति प्रेम और यहां रह रहे परिवार के चलते भारत लौट आए. यहां उन्‍होंने आईटीसी वैलकम होटल द्वारका, ली मेरिडियन गुरुग्राम, वाइन कंपनी गुरुग्राम और स्‍माश गुरुग्राम में जॉब की. राहुल के मैनेजर पद पर रहते हुए उनकी कंपनी को टाइम्‍स नाइटलाइफ अवार्ड 2016 भी मिल चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज