पुजारी की मौत पर घिरे गहलोत, चक्रपाणि महाराज बोले-राजस्थान में कांग्रेस नहीं 'कंस' राज

राजस्थान: दौसा में पुजारी की मौत पर चौतरफा विरोध, भाजपा और हिंदू महासभा ने गहलोत सरकार पर बढ़ाया दबाव

राजस्थान: दौसा में पुजारी की मौत पर चौतरफा विरोध, भाजपा और हिंदू महासभा ने गहलोत सरकार पर बढ़ाया दबाव

अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणी महाराज ने राजस्थान में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाया. कहा कि पहले भी एक पुजारी को जलाने का मामला सामने आया था. अब दौसा में मूकबधिर पुजारी की जमीन जबरन कब्जा कराना और पुजारी की मौत इस बात का संकेत है राजस्थान में कांग्रेस नहीं कंस राज चल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 9:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजस्थान ( Rajasthan) के दौसा में पुजारी की हुई मौत का मामला अब तूल पकडऩे लगा है. जयपुर के बाद दिल्ली में भी बीजेपी (BJP) नेताओं और हिन्दू संगठनों में नाराजगी देखने को मिल रही है. इस विरोध से कांग्रेस और गहलोत सरकार ( Gehlot government) पर दबाव बढऩे लगा है. अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणी महाराज ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि पहले भी एक पुजारी को जलाने का मामला सामने आया था. अब दौसा में मूकबधिर पुजारी की जमीन जबरन कब्जा कराना और पुजारी की मौत इस बात का संकेत है राजस्थान में कांग्रेस नहीं कंस राज चल रहा है. उन्होंने कहा कि अपराधी पकड़े क्यों नहीं गए. इस घटना में न्याय कब मिलेगा. भाजपा प्रवक्ता ने कांग्रेस के लोगों को इच्छाधारी हिंदू कहा है.

सीकर से बीजेपी के सांसद स्वामी सुमेधानन्द सरस्वती ने कहा किरोड़ी लाल मीणा पुजारी के शव के साथ कई दिनों से धरना देकर न्याय की मांग कर रहे हैं, लेकिन अभी तक अपराधियों को पकड़ा नहीं गया है. राज्यसभा सांसद और संघ विचारक राकेश सिन्हा ने कहा कि सरकार इस मामले में असंवेदनशील है. जिस तरह विरोध प्रदर्शन जारी है और सरकार चुप है. इससे लगता है सरकार और भूमाफियाओं के बीच संबंध हैं.

वहीं बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कांग्रेस के लोगों को मंदिर पुजारी टीका लगाना और जनेऊ पहनना सिर्फ चुनाव में याद आता है. उसके बाद भूल जाते हैं. कांग्रेस के लोग इच्छाधारी हिन्दू हैं.  इस मामले बीजेपी के राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा पुजारी के परिजनों को न्याय दिलाने के लिए सडक़ पर लड़ाई लड़ रहे हैं.

दरअसल देखा जाए तो दौसा जिले के महुआ तहसील के टिकरी गांव के मूक बधिर पुजारी की मंदिर माफी की 26 बीघा जमीन को भूमाफियाओं ने जबरदस्ती रजिस्ट्री करवा ली थी. इस घटना के बाद बीमार चल रहे पुजारी की तबियत और खराब हो गई और 2 अप्रैल को पुजारी की जयपुर के एसएमएस अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई.
पुजारी को न्याय दिलाने के लिए जयपुर सिविल लाइन फाटक पर  प्रदर्शन पर बैठे सांसद किरोड़ी लाल मीणा का कहना है शम्भू शर्मा  पुजारी की मौत एक षड्यंत्र है. माफियाओं द्वारा जमीन की रजिस्ट्री करवाने के बाद वह सदमे में थे. रजिस्ट्री करवाने वालो के खिलाफ हत्या की धाराओं में मुकदमा दर्ज हो इसके साथ ही मंदिर की जमीन पर बनी दुकानों को हटाया जाए.

इस मसमले ने तूल उस समय पकड़ लिया जब बीजेपी सांसद किरोड़ी लाल मीणा दौसा में शव को लेकर 6 दिनों तक प्रदर्शन किए और बुधवार शाम को गोपनीय ठंग से शव को जयपुर लेकर पहुंच कर प्रदर्शन करने लगे. इसके बाद बीजेपी के अरुण चतुर्वेदी, राम चरण बोहरा, काली चरण सराफ, अशोक लोहाटी धरना अस्थल पर पहुच गए. इस मामले में सरकार के साथ एक दौर की वार्ता विफल हो चूकी है. सांसद मीणा का कहना है कि मंदिर माफी की जमीन प्रदेश भर में जहां पर हैं वहां से भू माफियाओं के कब्जे हटवाए जाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज