हिंदूराव को Covid-19 अस्पतालों की लिस्ट से हटाया गया, वेतन नहीं मिलने से हड़ताल पर हैं डॉक्टर

आदेश में कहा गया है,
आदेश में कहा गया है, "उत्तर दिल्ली नगर निगम के आयुक्त की ओर से बाड़ा हिंदूराव अस्पताल को गैर कोविड अस्पताल में बदलने का आग्रह मिला है." (सांकेतिक फोटो)

दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी एक आदेश के मुताबिक, बाड़ा हिंदूराव अस्पताल 14 जून को बढ़ते मामलों को देखते हुए कोविड-19 निर्दिष्ट अस्पताल (Covid-19 Specified Hospital) घोषित किया गया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने नगर निगम के बाड़ा हिंदूराव अस्पताल (Bada Hindurao Hospital) को कोविड-19 के लिए निर्दिष्ट अस्पतालों की सूची से मंगलवार को हटा दिया. इस अस्पताल के डॉक्टर वेतन नहीं मिलने की वजह से हड़ताल पर हैं. उत्तरी दिल्ली के महापौर जयप्रकाश ने कहा, ‘‘आम ओपीडी सेवा अस्पताल में शुरू हो गई है और करीब 160 मरीज आए है.’’ दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी एक आदेश के मुताबिक, बाड़ा हिंदूराव अस्पताल 14 जून को बढ़ते मामलों को देखते हुए कोविड-19 निर्दिष्ट अस्पताल (Covid-19 Specified Hospital) घोषित किया गया था.

आदेश में कहा गया है, "उत्तर दिल्ली नगर निगम के आयुक्त की ओर से बाड़ा हिंदूराव अस्पताल को गैर कोविड अस्पताल में बदलने का आग्रह मिला है." इसमें कहा गया कि मामले का परीक्षण किया गया और अस्पताल में औसत से कम मरीजों के भर्ती होने और एनडीएमसी की ओर से आग्रह मिलने के मद्देनजर, अस्पताल को कोविड-19 निर्दिष्ट अस्पतालों की सूची से तत्काल प्रभाव से हटाया जा रहा है. दिल्ली सरकार ने शनिवार को आदेश दिया था कि नगर निगम द्वारा संचालित अस्पताल से मरीजों को उसके तहत आने वाले अस्पतालों में स्थानांतरित किया जाए. गौरतलब है कि बाड़ा हिंदूराव अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर तीन महीने से वेतन नहीं मिलने की वजह से शुक्रवार से "सांकेतिक बेमियादी हड़ताल" पर चले गए थे.

 कोविड-19 के कारण 45 लोगों की मौत हो गयी
वहीं, कल खबर सामने आई थी कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोविड-19 के कारण 45 लोगों की मौत हो गयी जिससे यहां मृतकों की संख्या बढ़कर 5,854 हो गयी. कोरोना वायरस संक्रमण के 3,036 नए मामले सामने आए जिससे संक्रमित लोगों की कुल संख्या 3.14 लाख से अधिक हो गयी. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. दो से 12 अक्टूबर के बीच रोजाना नए मामलों की संख्या 3,000 से कम रही थी. आंकड़ों के अनुसार, 10 अक्टूबर और 29 सितंबर को शहर में 48 मरीजों की मौत हुई थी जो 16 जुलाई के बाद किसी एक दिन की सबसे ज्यादा संख्या थी. 16 जुलाई को दिल्ली में 58 मरीजों की मौत हो गयी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज