हिंदू के डेथ सर्टिफिकेट पर लिख दिया मुसलमान, सऊदी अरब में दफनाया, अब पत्नी ने कोर्ट में याचिका लगा मांगा शव

हिंदू महिला के पति की मौत के बाद सऊदी अरब में दफनाने के मामले में हाईकोर्ट में सुनवाई हो रही है.

हिंदू महिला के पति की मौत के बाद सऊदी अरब में दफनाने के मामले में हाईकोर्ट में सुनवाई हो रही है.

भारतीय अधिकारियों की गलती के चलते अपने पति के पार्थिव शरीर पाने के लिए दर-दर भटक रही पत्नी की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान विदेश मंत्रालय ने दिल्ली हाईकोर्ट को जानकारी दी कि मंत्रालय की ओर से शव को भारत भेजने के लिए सऊदी अरब सरकार को पत्र लिखा है.

  • Last Updated: March 18, 2021, 8:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय हिंदू महिला के पति को सऊदी अरब में दफना दिया गया, अब अपने पति के पार्थिव शरीर को पाने के लिए दर-दर भटक रही पत्नी की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में गुरुवार को सुनवाई हुई. मामले की सुनवाई के दौरान विदेश मंत्रालय ने दिल्ली हाईकोर्ट में जानकारी दी कि विदेश मंत्रालय की ओर से शव को भारत लाने के लिए सऊदी अरब सरकार को पत्र लिखा गया है, लेकिन अभी तक हम उनके जवाब का इंतज़ार कर रहे है. मामले की सुनवाई के दौरान दिल्ली हाई ने विदेश मंत्रालय को कहा है कि इस मामले में जितनी जल्दी हो सके शव को भारत मंगाया जाए क्योंकि यह बेहद संवेदनशील मामला है. हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई की तारीख 23 मार्च तय की है.

बता दें कि 2 दिन पहले दिल्ली हाईकोर्ट में एक महिला ने याचिका लगाई थी कि जेद्दा में उनके पति की मौत हो गई थी. इससे बाद भारतीय वाणिज्य दूतावास द्वारा उनके पति डेथ सर्टिफिकेट में धर्म का गलत अनुवाद कर दिए जाने के कारण उनके पति को सऊदी अरब में दफना दिया गया है. जबकि उनके पति हिन्दू हैं. पत्नी ने अपनी याचिका में कहा कि वह अपने पति के अंतिम संस्कार को हिंदू रीति रिवाज से करने के लिए पति के पार्थिव शरीर को भारत लाना चाहती है. इसके लिए वह दर-दर भटकने को मजबूर है.

कहीं मदद नहीं मिली तो पहुंची हाईकोर्ट

याचिका कर्ता महिला मंजू शर्मा ने कोर्ट में गुहार लगाते हुए कहा कि कहीं से भी मदद ना मिल पाने के बाद उसने दिल्ली हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की है. कोर्ट ने इस मामले में बेहद संवेदनशील रुख अपनाते हुए इस घटना को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताया. विदेश मंत्रालय को आज इस मामले में अपना जवाब दाखिल करने और महिला को उसके पति का शव दिलवाने के निर्देश दिए. याचिकाकर्ता महिला के पति संजीव कुमार सऊदी अरब में काम करते थे. हार्ट अटैक के चलते 24 जनवरी को उनकी सऊदी अरब में मौत हो गई. जिसके बाद शव को अस्पताल में रखा गया था. उसके बाद से परिवार लगातार शव को भारत लाने का अनुरोध कर रहा था.
पति को भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने लिख दिया मुस्लिम 

18 फरवरी को उन्हें बताया गया कि उनके पति के शव को सऊदी अरब में ही दफन कर दिया गया है.  यह बात पूरे परिवार के लिए अजीब और चौंकाने वाली थी. क्योंकि महिला के पति हिंदू थे तो फिर उन्हें दफनाया क्यों गया? बाद में जब इस मामले में महिला ने पूछताछ की तो भारतीय वाणिज्य दूतावास के अधिकारियों ने उन्हें बताया कि जेद्दा के वाणिज्यिक दूतावास में उनके पति के डेथ सर्टिफिकेट में अनुवाद के दौरान गलती से उनके पति का धर्म इस्लाम लिख दिया गया, जिसके बाद उन्हें दफना दिया गया था.

लेकिन याचिकाकर्ता अंजू शर्मा की दलील थी कि परिवार से ना तो दफनाने के लिए कोई मंजूरी ली गई और ना ही परिवार को इस बारे में सूचित किया गया। पिछले 7 हफ्ते से  महिला अपने पति के अवशेष पाने के लिए जद्दोजहद करती रही, लेकिन कहीं भी कामयाबी न मिलने पर उसने फिर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया हैण्
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज