लाइव टीवी

गृह मंत्रालय के निर्देश पर दिल्‍ली पुलिस ने ऐसे पूरा किया ‘ऑपरेशन मरकज’, जानिए पूरी कहानी
Delhi-Ncr News in Hindi

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: March 31, 2020, 10:09 PM IST
गृह मंत्रालय के निर्देश पर दिल्‍ली पुलिस ने ऐसे पूरा किया ‘ऑपरेशन मरकज’, जानिए पूरी कहानी
दिल्‍ली में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल कई लोग कोरोना से संक्रमित मिले हैं. (फाइल फोटो)

दिल्ली में मरकज सम्मेलन का जमावड़ा हुआ था इसलिए दिल्ली पुलिस (Delhi Police) फूंक-फूंक कर कदम रख रही थी. न्यूज 18 हिंदी को विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि गृह मंत्रालय ने इस ऑपरेशन की कमान खुद संभाल रखी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2020, 10:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (कोविड-19) को लेकर इस समय चर्चा के केंद्र में है हजरत निजामुद्दीन (Nizamuddin) मरकज में हुआ तब्लीगी जमात (Tabligi Jamaat) का धार्मिक कार्यक्रम. इसमें शामिल होने वाले लगभग 2 हजार लोगों को क्‍वारंटाइन में रखा गया है. साथ ही इसमें शामिल होने वाले कई लोगों की कोराना वायरस संक्रमित होने कारण मौत भी हो चुकी है. वहीं इस जमात में शामिल होने वाले कई लोगों का इलाज दिल्ली सहित देश के दूसरे राज्यों में भी चल रहा है. इसके लिए 28 मार्च को ही गृह मंत्रालय (MHA) ने देश के सभी राज्यों के डीजीपी (DGP) और चीफ सेक्रेटरी (CS) को पत्र लिखा था. इसमें इस बात का जिक्र था कि तबलीगी जमात से ताल्लुक रखने वाले लोग जो कि निजामुद्दीन से अलग-अलग राज्यों में गए हैं, उनकी मेडिकल जांच की जाए.

चूंकि दिल्ली में जमावड़ा हुआ था इसलिए दिल्ली पुलिस (Delhi Police) फूंक-फूंक कर कदम रख रही थी. न्यूज़ 18 हिंदी को विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि गृह मंत्रालय ने इस ऑपरेशन की कमान खुद संभाल रखी थी. दिल्ली पुलिस शनिवार देर रात से ही ऑपरेशन की शुरुआत कर चुकी थी. सूत्रों का कहना है कि चूंकि मामला धर्म विशेष और विदेशी नागरिकों से जुड़ा हुआ था इसलिए दिल्ली पुलिस को सख्ती से निपटने की मनाही थी.

दिल्ली पुलिस शनिवार रात से ही ऑपरेशन में लग गई
शनिवार रात तकरीबन 11 बजे दिल्ली पुलिस की एक टीम एलएनजेपी अस्पताल (Lnjp Hospital) पहुंचती है. दिल्ली पुलिस अस्पताल प्रशासन से आग्रह करती है कि हमें कुछ डॉक्टरों की जरूरत है. दिल्ली में एक जगह पर ज्यादा भीड़ हो रखी है. वहां पहुंच कर कोरोना वायरस (Coronavirus) के लक्षण की जांच करनी है. दिल्ली पुलिस को एलएनजेपी अस्पताल की तरफ से दो जूनियर रेजिडेंट डॉक्टर मिलते हैं. दिल्ली पुलिस उन दोनों डॉक्टरों को एलएनजेपी से सीधे हजरत निजामुद्दीन थाने लेकर पहुंचती है. हजरत निजामुद्दीन थाने में दोनों डॉक्टरों को बताया जाता है कि आपको कहां जाना है और आपको वहां जाकर किस तरह व्यवहार करना है.



LNJP अस्पताल में 34 लोगों को पहले भर्ती कराया गया


रात तड़के 1.30 बजे दिल्ली पुलिस पूरे दल-बल के साथ हजरत निजामुद्दीन के एक मस्जिद में प्रवेश करती है. मस्जिद में प्रवेश करने से पहले मस्जिद के इमाम और स्थानीय लोगों को विश्वास में लिया जाता है. डॉक्टरों ने जब वहां पर कुछ लोगों की जांच की तो स्थिति भयानक दिखी. लगभग 300 लोगों को कोरोना के लक्षण नजर आए. दिल्ली पुलिस ने मस्जिद के इमाम को समझाया कि यहां रहना इन लोगों के लिए तो खतरा है ही दूसरे लोग भी इससे संक्रमित हो सकते हैं. इसलिए तुरंत इन लोगों को मस्जिद से नकाला जाए.

दिल्ली पुलिस रविवार को दोपहर तक 25 लोगों को एलएनजेपी में भर्ती करा चुकी थी. हजरत निजामुद्दीन गए डॉक्टरों ने अस्पताल प्रशासन को जो रिपोर्ट दी वह काफी चौंकाने वाली थी. कहा ये गया है कि लगभग 1800 लोग इन लोगों के संपर्क में आए हैं. जैसे ही यह बात सामने आई इसकी हर तरफ चर्चा होने लगी. अस्पताल प्रशासन ने रविवार को छु्ट्टी होने के बावजूद अपने डॉक्टरों को शाम 7 बजे तक अस्पताल पहुंचने का मैसेज दिया. मैसेज में कहा गया कि किसी भी समय 300 कोरोना के संदिग्ध अस्पताल पहुंच सकते हैं. इसलिए तुरंत ही अस्पताल पहुंचें.

रविवार को दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय को रिपोर्ट दी
दिल्ली पुलिस ने यह रिपोर्ट रविवार सुबह गृह मंत्रालय को दे दी थी, क्योंकि कई विदेशी भी मस्जिद में रह रहे थे. इसलिए दिल्ली पुलिस मीडिया से बचकर रविवार सुबह से ही लोगों को दिल्ली के कई अस्पतालों में पहुंचाने लगी. रविवार रात ही एलएनजेपी के मेडिकल डायरेक्टर ने न्यूज़ 18हिंदी से बातचीत में कहा कि 34 मरीज भर्ती हो चुके हैं और लगभग 300 लोगों के लिए बेड तैयार करने को कहा गया है.

बता दें 21 मार्च को मिशनरी काम के लिए लगभग 824 विदेशी तबलीगी जमात कार्यकर्ता देश के विभिन्न हिस्सों में थे. जबकि 216 विदेशी नागरिक मरकज़ में रह रहे थे, तो 1500 से अधिक भारतीय जमात कार्यकर्ता भी मौजूद थे. फिलहाल मरकज मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एफआईआर (FIR) दर्ज कर ली है. मौलाना साद और तबलीगी जमात के अन्य लोगों पर भी एफआईआर दर्ज हुई है.

ये भी पढ़ें: 

Covid-19 के लक्षण आने पर दिल्ली के इन अस्पतालों में हो सकते हैं भर्ती, देखिए पूरी लिस्‍ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 31, 2020, 9:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading