लाइव टीवी

Delhi Assembly Elections 2020: पूर्वांचलियों पर है BJP और AAP की नजर, जानें 2015 में कितनों को दिया था टिकट
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 20, 2020, 11:51 AM IST
Delhi Assembly Elections 2020: पूर्वांचलियों पर है BJP और AAP की नजर, जानें 2015 में कितनों को दिया था टिकट
तिवारी ने कहा कि अकाली दल इस बार चुनाव नहीं लड़ना चाहती है. (फाइल फोटो)

साल 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में आप (AAP) ने अपने 13 पूर्वांचली प्रत्याशियों पर दांव लगाया था, वहीं बीजेपी (BJP) ने इस समुदाय से केवल तीन उम्‍मीदवार उतारे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 20, 2020, 11:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, उसी गति से सभी राजनीतिक दलों ने भी कैंपेनिंग (Campaigning) तेज कर दी है. आम आदमी पार्टी (AAP) और बीजेपी (BJP) दोनों ही पूर्वांचलियों का दिल जीतने में एड़ी-चोटी का जोर लगाए हुए हैं. इसके पीछे की वजह दिल्ली में 30 सीटों पर पूर्वांचलियों का खासा प्रभाव होना.

बता दें कि इस बार के चुनाव में AAP ने 70 में से 13 सीटों पर पूर्वांचली उम्‍मीदवारों को उतारा है. वहीं, बीजेपी ने अभी तक 57 सीटों में 8 पर पूर्वांचली उम्‍मीदवार उतारे हैं. कांग्रेस इस मामले में थोड़ा पीछे है, क्योंकि पार्टी ने फिलहाल 54 सीटों के लिए प्रत्याशियों की घोषणा की है, जिनमें से केवल तीन सीटों पर ही पूर्वांचली प्रत्‍याशी उतारे हैं. बता दें कि 30 में से 15 सीटों पर पुर्वांचलियों का दबदबा है.

कहां-कहां बसे हैं पूर्वांचली
वहीं, अगर साल 2015 के विधानसभा चुनाव की बता करें तो AAP ने 13 पूर्वांचली प्रत्याशियों पर दांव लगाया था. ये सभी चुनाव जीतने में सफल रहे थे. दूसरी तरफ, बीजेपी ने केवल तीन पूर्वांचली प्रत्याशियों को मैदान में उतारा था. दरअसल, दिल्ली में 29 से 30 प्रतिशत मतदाता पूर्वांचल के हैं. पूर्वी दिल्‍ली, उत्तर-पूर्व दिल्‍ली, बदरपुर और द्वारका जैसे इलाकों में पूर्वांचलियों की अच्‍छी-खासी आबादी है. साल 2015 चुनाव के बाद बीजेपी ने पूर्वांचल से संबंध रखने वाले सांसद मनोज तिवारी को पार्टी की दिल्ली ईकाई का अध्यक्ष बनाया है. ऐसे में यह देखना दिलचस्‍प होगा कि मनोज तिवारी इस बार के चुनाव पर कितना असर छोड़ते हैं.

छठ पूजा के लिए एक हजार घाटों के निर्माण का दावा
वहीं, वर्ष 2020 के चुनाव से पहले AAP ने पूर्वांचल के वोटर्स संग जुड़े रहने के लिए दिल्ली के 300 स्थानों पर आपन पूर्वांचल उत्सव का आयोजन करवाया था. साथ ही दिल्ली में AAP सरकार मैथिली भाषी मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए मैथिली को सरकारी स्कूलों में एक वैकल्पिक विषय के रूप में भी पेश किया. लोगों को छठ पूजा करने में दिक्कत न हो, इसके लिए AAP ने एक हजार से भी अधिक घाटों का निर्माण करने का दावा किया.

पूर्वांचलियों के लिए बीजेपी की पेशकशदूसरी ओर, बीजेपी यमुना रिवर फ्रंट बनाने का दावा कर रही है, जहां छठ पूजा बड़े पैमाने पर की जा सकती है. दिल्ली भाजपा पूर्वांचल मोर्चा के अध्यक्ष मनीष सिंह कहते हैं, 'हमने दिल्ली की 21 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम दिए हैं. पार्टी उस लिस्ट पर गौर कर रही है.'

ये भी पढ़ें: दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020: आज नामांकन दाखिल करेंगे अरविंद केजरीवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 11:15 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर