Home /News /delhi-ncr /

देश के सबसे बड़े जालसाज ने कैसे की 200 करोड़ की वसूली, यहां पढ़ें पुलिस तफ्तीश की पूरी कहानी

देश के सबसे बड़े जालसाज ने कैसे की 200 करोड़ की वसूली, यहां पढ़ें पुलिस तफ्तीश की पूरी कहानी

देश के सबसे बड़े जालसाज की कहानी, जिसने 200 करोड़ की ठगी को अंजाम दिया. (File Photo)

देश के सबसे बड़े जालसाज की कहानी, जिसने 200 करोड़ की ठगी को अंजाम दिया. (File Photo)

Fraud Sukesh Chandrashekhar News: दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद जालसाज सुकेश चंद्रशेखर ने रैनबैक्सी कंपनी के मालिक की पत्नी से पति को जेल से छुड़ाने के नाम पर किस तरह 200 करोड़ रुपए वसूल लिए, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अदालत में पेश चार्जशीट में विस्तार से इसका राजफाश किया है. सुकेश और उसकी गैंग के शिकार की लिस्ट में बॉलीवुड एक्ट्रेस जैक्लीन फर्नांडीज भी शामिल थीं. वहीं उसका साथ देने वाले पुलिस के कई अधिकारी और कर्मचारी थे, चार्जशीट में सबका कच्चा चिट्ठा खोला गया है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े केंद्रीय कारागार तिहाड़ जेल में बंद सुकेश चंद्रशेखर ने रैनबैक्सी कंपनी के मालिक की पत्नी से 200 करोड़ रुपए वसूली के लिए क्या-क्या तिकड़म भिड़ाए. किस तरह उसने और उसके साथियों ने मिलकर देश के इस सबसे बड़े जालसाजी कांड को अंजाम दिया, इसका कच्चा चिट्ठा सामने आ गया है. तिहाड़ जेल में बंद सुकेश चंद्रशेखर ने जिस तरह इतनी भारी-भरकम रकम की वसूली की, पुलिस ने अपनी तफ्तीश में इसको लेकर बड़ा खुलासा किया है. बीते दिनों इस मामले में मकोका के तहत दिल्ली पुलिस ने एक महत्वपूर्ण चार्जशीट भी पटियाला हॉउस कोर्ट में पेश की है.

दिल्ली पुलिस की केस डायरी में जिस विदेशी फोन नंबर के जरिये इतनी बड़ी रकम वसूल की गई, उसका भी जिक्र है. इसी साल जुलाई में यूके के इस नंबर के बारे में पुलिस को पता चला, जिससे देश के खिलाफ गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा था. साथ ही बड़े स्तर पर वसूल किए जा रहे थे. पुलिस के मुताबिक यह नंबर था 447537*. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जब व्हाट्सएप से इस नंबर की डीटेल्स मांगी, तो पता चला ये नंबर एक भारतीय नंबर 931191** से जुड़ा हुआ है.

और गहनता से पड़ताल के बाद इस नंबर के तार देश की सबसे बड़ी जेल तिहाड़ केंद्रीय कारागार से जुड़े पाए गए. यह नंबर तिहाड़ जेल नंबर 10 में बंद कैदी सुकेश चंद्रशेखर का था. जांच में यह भी पता चला कि इस नंबर से टॉप सरकारी अफसर बनकर स्पूफिंग के जरिए हाईप्रोफाइल लोगों से करोड़ों की वसूली की जा रही है. पुलिस तफ्तीश की इस कहानी को आइए विस्तार से समझते हैं…

तिहाड़ जेल में बंद सुकेश चंद्रशेखर के इसी फोन नंबर से एक ऐसी ही कॉल अदिति सिंह को गई थी, जो रैनबैक्सी के मालिक शिविंदर सिंह की पत्नी हैं. शिवेंद्र 2019 से धोखाधड़ी के मामले में जेल में बंद है.

अदिति सिंह ने जो एफआईआर दर्ज कराई है, उसके मुताबिक अदिति एस. सिंह के पति शिविंदर सिंह 17 अक्टूबर 2019 से तिहाड़ जेल में बंद हैं. आर्थिक अपराध के तीन अलग-अलग मामलों के आरोपी शिविंदर सिंह रैनबैक्सी के प्रमोटर थे. उनके संबंध फोर्टिस हेल्थ केयर लिमिटेड और रेलीगेयर से भी थे. अदिति सिंह ने पुलिस को बताया कि उन्हें जून 2020 से लगातार धोखाधड़ी और रंगदारी के फोन कॉल्स आ रहे थे. इस मामले में एफआईआर दर्ज होने के पहले तक उन्हें ये फोन कॉल किए गए. उन्होंने बताया है कि 15 जून 2020 को भी उन्हें दिल्ली के लैंडलाइन नंबर से एक कॉल आई थी.

लॉ सेक्रेट्री ऑफ इंडिया के नाम से आया फर्जी फोन

अदिति के मुताबिक जिस लैंडलाइन नंबर से उनके पास फोन आया, उस पर एक महिला ने कहा कि एक शख्स उनसे बात करना चाहता है. अदिति के हामी भरने के बाद कॉल ट्रांसफर हुआ. कॉल पर जो शख्स था उसने खुद को लॉ सेकेट्री ऑफ इंडिया बताया. उस शख्स ने कहा कि ‘मुझे हाई अथॉरिटी से बोला गया है आपकी मदद करने के लिए’. उसके बाद शख्स ने एक अन्य महिला के बारे में पूछा और अदिति को उससे मिलने की सलाह दी. यह गौरतलब है कि जिस महिला के बारे में फोन करने वाले ने बताया था, उसका पति भी तिहाड़ जेल में बंद था. अदिति ने कहा, ‘खुद को लॉ सेकेट्री बताने वाले शख्स ने दोपहर में फिर मुझे फोन किया और बोला कि आप दोनों हाई अथॉरिटी के पास क्यों नहीं गए अपने पतियों की मदद के लिए. आपको अंतरिम जमानत के बजाये सीधे ऊपर से बात करनी चाहिए थी.’

झांसा पर झांसा देता गया शख्स

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को अदिति सिंह ने बताया, ‘फोन करने वाले उसी शख्स ने मुझे कहा कि आपके पति शिवेंद्र हेल्थ केयर में बेहतरीन काम कर सकते हैं, कोविड महामारी में अपना योगदान दे सकते हैं जो देश के लिए फायदेमंद रहेगा. उसने यह जानकारी भी दी कि उसने इस बाबत कई सरकारी अधिकारियों को पत्र भी लिखा है.’ अदिति ने बताया कि उसी फोन नंबर से उनके पास फिर कॉल आई. इस बार उस शख्स ने कहा कि ‘मैं आपका काम करवा दूंगा, आपके पति की पूरी मदद करुंगा. मेरे एक जूनियर के टच में रहना. वह आपसे टेलीग्राम पर संपर्क करेगा. वह जो बोलेगा, आप करती जाइएगा.’ अदिति ने कहा कि उस शख्स ने भरोसा दिलाया कि वह उनके पति को जेल से बाहर निकालेगा, ताकि वे कोविड में जनता की मदद कर सकें और फिर जय हिन्द बोलकर फोन कट गया.

पार्टी फंड में सहयोग के लिए मांगे पैसे

दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में बताया है कि इसके बाद अदिति को फिर उसी शख्स ने फोन किया, जिसने खुद को लॉ सेक्रेट्री बताया था. उसने अदिति से कहा कि आपको पार्टी फंड में पैसा देना होगा. इसके बाद एक नंबर देकर उनसे 20 करोड़ रुपए मांगे गए. पैसा भेजने का तरीका भी बताया गया. अदिति से कहा गया कि वह डोनेशन के रूप में वह 20 करोड़ रुपए दुबई और हांगकांग भेज दें. इस पर अदिति ने दोस्तों से करीब 90 हजार डॉलर उधार लेकर भेज दिए. अदिति ने कहा कि इतनी बड़ी रकम उन्होंने पहली बार उधार ली थी. इसके बाद पैसे मांगने और देने का सिलसिला शुरू हो गया. अदिति ने अपनी ज्वेलरी, एफडी और अन्य सामान बेचकर करोड़ों रुपए इकट्ठा किए. उन्होंने बताया कि रोहित नाम का कोड-नेम इस्तेमाल करने वाला शख्स पैसे लेने आता था. सुबह-शाम पैसे की डिलीवरी होती थी.

दिल्ली में 4 जगहों पर 30 बार हुई कैश की डिलीवरी

अदिति के मुताबिक रोहित नाम का शख्स एक सेडान कार में आता था, उसके साथ एक महिला भी बैठी रहती थी. जितनी बार पैसे की डिलीवरी की गई, हर बार वह महिला कार में मौजूद होती थी. लगातार पैसे दे-देकर जब अदिति परेशान हो गई, वह अपने पति को जेल से बाहर लाने के लिए पूछताछ करने लगी. तब उनके पास फिर फोन आया और अलग-अलग राज्यों में होने वाले चुनाव के लिए पैसे मांगे गए. अदिति से इसके लिए 30 करोड़ रुपए मांगे गए. फिर और 100 करोड़ रुपयों की मांग की गई. अदिति से करोड़ों की रकम लेने का यह खेल 2021 के अप्रैल महीने तक चलता रहा. इस दौरान उनसे 200 करोड़ रुपए लिए गए.

इतनी बड़ी रकम देने के बाद अदिति जब फोन करने वालों से पति के बारे में पूछती, तो उन्हें धमकाया जाने लगा. साथ ही मुंह बंद रखने की ताकीद भी की जाने लगी. इनमें से किसी शख्स से जब अदिति ने मिलने की बात की, तो उससे भी इनकार किया गया. जालसाजों ने दलील ये दी कि वे सरकारी लोग हैं, अदिति से कैसे मिल सकते हैं. पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक अदिति सिंह ने दिल्ली के चार स्थानों पर रुपयों की डिलीवरी की थी. पहला ग्रीन पार्क F 77, दूसरा तिलक मार्ग पर स्थित सागर अपार्टमेंट के कार पार्क में, तीसरा जोर बाग के नवयुग स्कूल और चौथा जंगपुरा के HDFC बैंक के पास पैसों की डिलीवरी हुई. इन स्थानों पर 30 से ज्यादा बार कैश की डिलीवरी की गई.

रोहित कोड-नेम वाले को पुलिस ने दबोचा तो सामने आई कहानी

जांच के दौरान 7 अगस्त 2021 को प्रदीप रमदानी नाम के शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार किया, जो अदिति से 1 करोड़ रुपए लेने आया था. प्रदीप ने पूछताछ में बताया कि वह अपने भाई दीपक रमदानी के कहने पर यह कर रहा था. दीपक ने पूछताछ में कहा कि वह सुकेश के लिए दो साल से काम कर रहा है और सुकेश ने उसका कोड नेम रोहित रखा हुआ है. दीपक ने ही खुलासा किया कि उसने अदिति सिंह से 30 मौकों पर अलग-अलग जगह पैसे लिए हैं. दीपक ने पुलिस को बताया कि जेल में रहने के दौरान उसकी मुलाकात यूनीटेक के मालिक संजय चन्द्रा से हुई, जिसने उसे सुकेश चंदशेखर से मिलवाया था. सुकेश न दीपक को जोर बाग और अलग-अलग जगहों से पैसा इकट्ठा कर उसे सही जगह पहुंचाने का टास्क दिया था. इसके बदले में उसे मोटा कमीशन दिया गया.

अदिति सिंह के पैसे से खरीदी जमीन और बंगला

सुकेश ने पुलिस पूछताछ में कबूल किया कि अदिति सिंह से लिए गए पैसे से दिल्ली के बाहर 100 एकड़ जमीन खरीदी गई. इस सूचना पर ED और दिल्ली पुलिस ने सुकेश के साउथ इंडिया के कई ठिकानों पर छापा मारा, जहां महंगी गाड़ियां, जूते-कपड़े, शराब की बोतलें, कैश और अन्य कीमती सामान और प्रॉपर्टी से जुड़े दस्तावेज बरामद हुए. पुलिस के मुताबिक कांचीपुरम में समुद्र किनारे एक आलीशान बंगला भी मिला, जिसमे लीना पॉल रह रही थी. जांच के दौरान पाया गया कि वसूली के 31 करोड़ 54 लाख दिल्ली के RBL बैंक के जरिये दुबई भेजे गए. 18 शैल कंपनी बनाकर ये पैसे भेजे गए, जिसके बाद अविनाश कुमार और RBL बैंक के मैनेजर कमल पोद्दार और अन्य एक जितेंद्र नरूला को गिरफ्तार कर लिया गया था.

वसूली में इस्तेमाल कार रोहिणी जेल के डिप्टी सुप्रिंटेंडेंट की

दीपक जिस कार का इस्तेमाल वसूली के लिए कर रहा था, स्विफ्ट कार तिहाड़ जेल के रोहणी जेल के डिप्टी सुपरिटेंडेंट धर्मसिंह मीना की निकली. इसी आधार पर धर्मसिंह मीना को भी गिरफ्तार किया गया. जांच के दौरान तिहाड़ के रोहणी जेल नंबर 10की सीसीटीवी फुटेज का 5 TB डेटा लिया गया. जांच के दौरान पता चला कि सुकेश ने अपनी 53 कंपनी के जरिये पैसे अलग-अलग जगह पर भेजे, जिसमें 39 कंपनी दिल्ली, 10 मुंबई, 2 बेंगलुरु और एक कटनी और आगरा की हैं. जांच के दौरान ये सिद्ध हो गया कि आरोपी सुकेश अपनी पत्नी लीना पॉल, जेल अधिकारियों और सहयोगियों के साथ मिलकर अपराध का सिंडिकेट चला रहा था. उस पर पहले के भी 32 मामले देश के अलग-अलग राज्यों में दर्ज हैं.

EOW ने कोर्ट में अपने रिमांड पेपर में खुलासा किया कि सुकेश चंद्रशेखर ने तिहाड़ जेल प्रशासन को करीब 20 से 30 करोड़ की रिश्वत दी थी. EOW ने इसके बाद तिहाड़ जेल के 5 अधिकारियों को गिरफ्तार किया. इनमें सुनील कुमार, सुंदर बोरा, महेंद्र प्रसाद सुन्दयाल, लक्ष्मी दत्त और प्रकाश चन्द्र शामिल हैं. EOW के मुताबिक पांचों ने तिहाड़ प्रशासन के नियमों को ताक पर रखकर गैर कानूनी तरीके से कई सुविधाएं सुकेश को मुहैया करवाई और बदले में मोटा पैसा भी लिया. रोहिणी जेल दो सुपरिटेडेंट भी गिरफ्तार हुए हैं. इनमें महेंद्र प्रसाद और लक्ष्मी दत्त शामिल है. सुकेश इन दोनों को भी हर महीने 12-12 लाख रुपए घूस देता था.

चांदी के चम्मच-कटोरी और 150 ब्रांडेड घड़ियां बरामद हुईं

जांच के दौरान एक आरोपी चेन्नई का कार डीलर कमलेश कोठारी ने खुलासा किया कि उसने लीना को महंगी गाड़ियां और प्रोपर्टी दिलाने में मदद की. आरोपी जॉय डेनियल ने बताया कि उसके नाम पर सुकेश और लीना ने महंगी ज्वेलरी खरीदी थी. आरोपी फ़िल्म ऐक्ट्स लीना पॉल ने बताया कि वो लगातार सुकेश के लिए काम कर रही थी. ED ने सुकेश के ठिकानों से जिन 23 लक्जरी गाड़ियों को जब्त किया था, उनमें बेंटले, रेंजरोवर, मर्सडीज, पोर्स, फरारी जैसी कार शामिल थी. लीना पॉल ने बताया कि सुकेश जेल से वसूली करने के लिए साइलेंट कॉलिंग ऐप का इस्तेमाल कर रहा था. पुलिस के मुताबिक सुकेश के खिलाफ अलग-अलग मामलों में जांच के दौरान 150 ब्रांडेड कई करोड़ रुपए की घड़ियां बरामद की गई. इसके अलावा, महंगे मोबाइल, चांदी के चम्मच-कटोरी, जींस, महंगे जूते आदि भी मिले हैं.

सुकेश चंदशेखर मामले में पुलिस ने 302 गवाह तैयार किए थे जिनके बयान के आधार पर ये बड़ी कार्रवाई हुई थी. इस मामले में जल्द एक सप्लीमेंट्री चार्जशीट कोर्ट में दाखिल होनी है और अब इस मामले में जिस तरह से ED जैकलीन फर्नाडीज, नोरा फ़तेही से दो दो बार पूछताछ कर चुकी है. अब जल्द EOW भी जैकलीन फर्नांडिस नोरा को पूछताछ के लिए समन्स करेगी, इसके अलावा करीब आधा दर्जन और बॉलीवुड के नामचीन चेहरे भी पुलिस और ED की पूछताछ का हिस्सा बन सकते हैं. फिलहाल सुकेश लीना जेल की सेल में बन्द है.

Tags: Delhi news, Sukesh Chandrasekhar, Tihar jail

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर