पब्लिक टॉयलेट में बिजली, पानी, साफ सफाई नहीं है तो स्कैन करें QR Code, तुरंत दूर होगी समस्या! जानें किस निगम ने शुरू की ये पहल?

क्यूआर कोड माध्यम से एसडीएमसी को शौचालय से जुड़ी हुई समस्याओं/फीडबैक को भेजा जा सकता है.

दक्षिणी निगम के सभी सार्वजनिक शौचालयों में क्यू.आर.कोड स्कैन सिस्टम लगाया जा रहा है. क्यू.आर.कोड को स्कैन करने के बाद 5 विकल्प आएंगे जिसमें बिजली, पानी, साबुन की उपलब्धता, शौचालय परिसर एवं टॉयलेट सीट की साफ-सफाई संबंधित शिकायत नागरिक दर्ज करा सकते हैं. नागरिकों को अपना फीडबैक दर्ज कराने के लिए इनमें से कोई एक विकल्प को चुनना होगा. इसके अतिरिक्त कोड स्कैन करने पर सार्वजनिक शौचालय की लोकेशन, वार्ड व अन्य जानकारी उपलब्ध होगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (South MCD) द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 (Swachh Survekshan 2021) रैंकिंग में सुधार के लिए हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं. दक्षिणी निगम ने अब नई पहल करते हुए सार्वजनिक शौचालयों में क्यूआर कोड पर आधारित स्मार्ट सिस्टम शुरू किया है. इसके माध्यम से एसडीएमसी को शौचालय से जुड़ी हुई समस्याओं/फीडबैक को भेजा जा सकता है.


    यह क्यूआर कोड पश्चिमी जोन के राजौरी गार्डन, नजफगढ़ रोड स्थित शौचालय परिसर में आरंभ किये गये है.


    इस सिस्टम के तहत नागरिक क्यू.आर. कोड के माध्यम से सार्वजनिक शौचालयों में उपलब्ध सुविधाओं के बारे में अपना फीडबैक दर्ज करा सकेंगे. इस अवसर पर पश्चिमी क्षेत्र के अध्यक्ष कर्नल बी.के.ओबेरॉय, उपायुक्त राहुल सिंह, स्वच्छ भारत मिशन (Swachh Bharat Mission) के नोडल अधिकारी राजीव जैन सहित वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे.


    दक्षिणी निगम के आयुक्त ज्ञानेश भारती ने बताया कि सार्वजनिक शौचालयों और सामुदायिक शौचालयों के रख-रखाव के लिये विशेष प्रयास किया जा रहा है. आज फीड़बैक प्रणाली की शुरूआत पश्चिमी जोन में की गयी है. इस प्रणाली के द्वारा हम अनूठे तरीके से शौचालयों के रख-रखाव एवं उनमें उपलब्ध सुविधाओं के बारे में तथा नागरिकों की समस्याओं का सही फीडबैक और अनुभव जानेंगे.





    उसके अनुसार उनके निराकरण हेतु त्वरित कार्रवाई की जाएगी. इस क्यू.आर.कोड को स्कैन करने के बाद 5 विकल्प आएंगे जिसमें बिजली, पानी, साबुन की उपलब्धता, शौचालय परिसर एवं टॉयलेट सीट की साफ-सफाई संबंधित शिकायत नागरिक दर्ज करा सकते हैं. नागरिकों को अपना फीडबैक दर्ज कराने के लिए इनमें से कोई एक विकल्प को चुनना होगा. इसके अतिरिक्त कोड स्कैन करने पर सार्वजनिक शौचालय की लोकेशन, वार्ड व अन्य जानकारी उपलब्ध होगी.


    स्वच्छ भारत मिशन के नोडल अधिकारी राजीव जैन ने बताया कि दक्षिणी निगम के सभी सार्वजनिक शौचालयों में यह सिस्टम लगाया जा रहा है. उन्होंने नागरिकों से अपील की है कि वे जब भी शौचालयों का उपयोग करें तो उन शौचालयों में बिजली,पानी , साबुन की उपलब्धता, साफ-सफाई की कमी टॉयलेट सीट की सफाई संबंधी फीडबैक क्यू.आर. कोड के माध्यम से दर्ज कराएं. इन शौचालयों की लाइव निगरानी की जायेगी और जिस पर संबंधित अधिकारी एक घंटे में कार्रवाई करेंगे तथा समस्या का निराकरण भी किया जायेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.