लाइव टीवी

किसानों के डिजिटल लेनदेन के लिए इफको और बैंक ऑफ बड़ौदा लाया को-ब्रांडेड डेबिट कार्ड
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: May 24, 2017, 10:59 AM IST
किसानों के डिजिटल लेनदेन के लिए इफको और बैंक ऑफ बड़ौदा लाया को-ब्रांडेड डेबिट कार्ड
इफको और बैंक ऑफ बड़ौदा ने किसानों को सौंपे को-ब्रांडेड डेबिट कार्ड

अभियान के पहले चरण में दो लाख किसानों को यह कार्ड दिए जाएंगे. मेरठ मंडल के 51 किसानों को को-ब्रांडेड कार्ड इफको निदेशक (मानव संसाधन एवं विधि) राजेन्द्र प्रसाद सिंह और बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रबंध निदेशक श्री पी. एस. जयकुमार ने सौंपे.

  • Share this:
किसानों की सहकारी संस्था इफको ने बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ मिलकर एक को-ब्रांडेड कार्ड बनाकर किसानों को देने का काम शुरू कर दिया है. मंगलवार को शुरू इस अभियान के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के तहत देश के किसानों में नगदीरहित लेनदेन प्रणाली विकसित करने के लिए इफको ने फरवरी में यह अनुबन्ध किया था.

अभियान के पहले चरण में दो लाख किसानों को यह कार्ड दिए जाएंगे. मेरठ मंडल के 51 किसानों को को-ब्रांडेड कार्ड इफको निदेशक (मानव संसाधन एवं विधि) राजेन्द्र प्रसाद सिंह और बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रबंध निदेशक श्री पी. एस. जयकुमार ने सौंपे.

राजेन्द्र प्रसाद सिंह ने कार्यक्रम में किसानों से अधिक संख्या में इफको से जुड़कर को-ब्रांडेड कार्ड लेने और ब्याज मुक्त नगदीरहित लेनदेन का लाभ उठाने की अपील की. उन्होने इफको किसानों को उनकी जरूरत के मुताबिक सभी प्रकार के कृषि निवेशों की व्यवस्था जिसमें रासायनिक खादों के अतिरिक्त सभी प्रकार
के जैव उर्वरक, जल विलेय उर्वरक, कृषि रसायन, सूक्ष्म पोषक तत्व, सागरिका (ग्रोथ प्रमोटर) वगैरह उचित कीमत पर उपलब्ध कराने की सुविधाओं के बारे में बताया.



सिंह ने कहा कि जल्द ही अनेक प्रकृतिक उत्पाद इस कड़ी में शामिल किए जाएंगे और चार राज्यों में शुरू की गई यह योजना अन्य राज्यों में भी लागू की जाएगी.

बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रबंध निदेशक पी. एस. जयकुमार ने उपस्थित किसानों से कहा कि नगदीरहित प्रणाली को विकसित करने के लिए तमाम मदद करेंगे और इफको के साथ मिलकर किसानों की हर संभव मदद करेंगे.

क्या है को-ब्रांडेड कार्ड?

इस कार्ड के जरिए उन सभी किसानों की मदद होगी जो इफको के किसान सेवा केंद्र/सहकारी समितियां/इफको ई-बाज़ार/आईएफ़एफ़डीसी केंद्र से उर्वरक खरीदते हैं. व्यवस्था के अंतर्गत प्रथम लेनदेन के समय एक सौ रुपये से बैंक ऑफ बड़ौदा में खाता उसी केंद्र पर आधार कार्ड के जरिए खोला जाएगा. पहले चरण में यह सुविधा उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और बिहार में शुरू की गई है. कार्ड धारक किसान 2500 रुपये का कृषि निवेश बिना कोई भुगतान किए कार्ड से प्राप्त कर सकता है.

सालभर में कई बार लाभ उठा सकते हैं किसान

इस कार्ड से प्राप्त किए गए कृषि निवेश पर एक माह का ब्याज नहीं लगेगा. अगर किसान खाद खरीद की तिथि से एक माह के अंदर भुगतान कर देता है तो कोई ब्याज नहीं देना होगा. साथ ही भुगतान के बाद फिर से वह कृषि निवेश खरीदने का पात्र बन जाएगा. इस तरह सालभर में कई बार किसान नगदीरहित लेनदेन बिना ब्याज के कर सकेगा.

कृषि निवेश पर दुर्घटना बीमा की व्यवस्था

किसान के खाते में जमा रकम के मुकाबले अगर वो चाहे तो उससे अधिक मूल्य का कृषि निवेश भी खरीद सकता है. अगर किसान एक माह के अंदर भुगतान नहीं कर पाएगा तो उसको 8.60 प्रतिशत की दर से देर हुई अवधि के लिए ब्याज देना होगा. कार्ड के माध्यम से कृषि निवेश की खरीद पर दुर्घटना बीमा की व्यवस्था भी शामिल है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 24, 2017, 10:59 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर