लाइव टीवी

Delhi Violence: नफरत को कुछ इस अंदाज में मिला मुंहतोड़ जवाब, CBSE की परीक्षा में बैठे 98 फीसदी बच्चे
Delhi-Ncr News in Hindi

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: March 3, 2020, 7:29 PM IST
Delhi Violence: नफरत को कुछ इस अंदाज में मिला मुंहतोड़ जवाब, CBSE की परीक्षा में बैठे 98 फीसदी बच्चे
कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए गुजरात सरकार ने उठाया बड़ा कदम.

सीबीएसई (CBSE) के मुताबिक हिंसा से प्रभावित इलाकों में 98 प्रतिशत विद्यार्थियों ने सोमवार को अपनी बोर्ड परीक्षाएं दीं.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में पिछले सप्ताह हुई हिंसा के बाद लोग धीरे-धीरे इस सदमे से उबरने लगे हैं. स्थानीय लोग अपने-अपने काम-धंधों पर लौट रहे हैं. खासतौर पर छात्र भी इस जख्म को समेटते हुए परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं. हिंसा की घटनाओं में कुछ छात्रों की किताबें जल गई हैं, ऐसे में उनके सामने कठिनाई है, फिर भी वे सदमे से उबरकर परीक्षा की तैयारियों में जुटे हैं. मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि छात्रों के सामने इस घटना का जिक्र बार-बार नहीं करना चाहिए. सोमवार को हिंसाग्रस्त इलाकों के छात्रों ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच परीक्षा दी. करीब 98 प्रतिशत उपस्थिति रही. इससे सीबीएसई अधिकारी खुश नजर आ रहे हैं. दिल्ली में हिंसा की घटनाओं को अंजाम देने वालों को छात्रों ने जिस अंदाज में जवाब दिया, वह काबिल-ए-तारीफ है.

अर्धसैनिक बलों की कई टुकड़ियां मौजूद
दिल्ली हिंसा के 8 दिन बाद भी दिल्ली पुलिस और अर्धसैनिक बलों की कई टुकड़ियां हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में मौजूद हैं. खजूरी खास, भजनपुरा. चांद बाग, जाफराबाद, यमुना विहार, मौजपुर, बाबरपुर, शिव विहार और मुस्तफाबाद में स्थानीय लोगों के साथ बैठकें भी की जा रही हैं. इसके साथ ही दिल्ली पुलिस हिंसा के आरोपियों के खिलाफ भी नकेल कस रही है. दिल्ली पुलिस ने अभी तक गिरफ्तार किए गए लोगों के बारे में पूरी जानकारी सार्वजनिक नहीं की है.

दिल्ली हिंसा, तिलक नगर मेट्रो स्टेशन, दिल्ली पुलिस, अफवाह, अजित पवार, सीएए, प्रस्तावित एनआरसी, एनपीआर, Delhi Violence, Tilak Nagar Metro Station, Delhi Police, Rumor, Ajit Pawar, CAA, Proposed NRC, NPR,
दिल्ली में शांति बहाल करने के लिए हिंसा प्रभावित इलाकों में बड़े पैमाने पर फोर्स तैनात की गई है. (फाइल फोटो)




सीबीएसई (CBSE) के मुताबिक उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में 98 प्रतिशत विद्यार्थियों ने सोमवार को अपनी बोर्ड परीक्षाएं दी हैं. इससे पहले सीबीएसई ने उत्तर पूर्वी दिल्ली और पूर्वी दिल्ली के कुछ इलाकों में सांप्रदायिक हिंसा के मद्देनजर 29 फरवरी तक बोर्ड परीक्षा स्थगित कर दी थी. इस हिंसा में अब तक 48 लोगों की मौत हो चुकी है. 334 एफआईआर (FIR) दर्ज हो चुकी हैं और करीब 1000 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया गया है.



हिंसा को देखते हुए ही सीबीएसई (CBSE) ने बीते गुरुवार को यानी 27 फरवरी को होने वाली 12वीं की अंग्रेजी परीक्षा टाल दी थी. सीबीएसई ने अंग्रेजी विषय की परीक्षा को उत्तर पूर्वी और पूर्वी दिल्ली के कुल 80 केंद्रों पर स्थगित कर दिया था.

Delhi violence, Psychologist, Cbse board exam, cbse news, exam english, delhi violence news, cbse delhi exam news, Education News in Hindi, delhi police, सीबीएसई, सीबीएसई दिल्ली बोर्ड, दिल्ली हिंसा, दिल्ली सांप्रदायिक हिंसा, उत्तर-पुर्व हिंसाग्रस्त इलाका, सीबीएसई ने शुरू की परीक्षा, मनोवैज्ञानिक क्या कहते हैं, दिल्ली हिंसा पर मनोवैज्ञानिक का क्या है सलाह,
दिल्ली में पिछले सप्ताह CAA और NRC के विरोध और समर्थन को लेकर हिंसा फैल गई थी.


बच्चों के मन में है दहशत
खजूरी खास ई-ब्लॉक के गली नंबर 4 की रहने वाली सुनीता यादव ने न्यूज 18 के साथ बातचीत में कहा "मेरा बेटा यमुना विहार के बी-1 ब्लॉक स्कूल में पढ़ता है. मेरे बेटे की पूरे साल की मेहनत खत्म हो गई है. बच्चों के मन में अभी भी खौफ है. यह गली हिंसा में सबसे ज्यादा प्रभावित गलियों में से एक है. मैं गली के अंदर रहती हूं इसलिए मेरे घर को दंगाइयों ने नहीं छुआ, लेकिन सड़क से सटे कई घरों को आग के हवाले कर दिया. बच्चे छत से इस मंजर को देख रहे थे. मेरे बेटे का नाम अभिषेक यादव है. वह 12वीं का छात्र है. हम लोग बिहार के हाजीपुर के रहने वाले हैं. मैं बिहार छोड़ को बेटे को पढ़ाने के लिए ही यहां रह रही हूं. पति प्राइवेट जॉब करते हैं. सोचा अगर बेटा बन जाएगा तो मेरा यहां रहना सार्थक हो जाएगा, लेकिन अब इस घटना से मन खिन्न है."

Delhi violence, Psychologist, Cbse board exam, cbse news, exam english, delhi violence news, cbse delhi exam news, Education News in Hindi, delhi police, सीबीएसई, सीबीएसई दिल्ली बोर्ड, दिल्ली हिंसा, दिल्ली सांप्रदायिक हिंसा, उत्तर-पुर्व हिंसाग्रस्त इलाका, सीबीएसई ने शुरू की परीक्षा, मनोवैज्ञानिक क्या कहते हैं, दिल्ली हिंसा पर मनोवैज्ञानिक का क्या है सलाह,
दिल्ली हिंसा को लेकर स्वंयसेवी संगठनों की तरफ से कांउसलिंग किया जा रहा है.


बच्चों की हो रही है काउंसिलिंग
दिल्ली हिंसा को लेकर स्वयंसेवी संगठनों की तरफ से भी काउंसलिंग की जा रही है. काउंसलर्स घर-घर जाकर माता-पिता के साथ बच्चों से भी बात कर रहे हैं और उनको सदमे से उबरने के तरीके सुझा रहे हैं. ब्रेन विहेवियर रिसर्च फाउंडेशन ऑफ इंडिया (BBRFI) के एक सीनियर मनोवैज्ञानिक कहते हैं, "इस घटना के बाद लोगों में विश्वास पैदा करने की जरूरत है. खासकर बच्चों के सामने अभिभावक इस घटना का जिक्र बार-बार न करें. टीवी चैनल्स और सोशल मीडिया से दूर रहें."

उन्होंने कहा, "हर बच्चे का डिफेंस मैकनिज्म अलग-अलग होता है. कोई बच्चा घटना से तुरंत उबर जाता है तो किसी को उबरने में थोड़ा वक्त लगता है. कुछ बच्चे अगर बाहर जाना चाहें तो उनको यह नहीं कहना चाहिए कि बेटा बाहर मत जाओ. जिन बच्चों को रात में डर लगे उसको काउंसलिंग की जरूरत है. वहीं कुछ बच्चे विपरित परिस्थिति में भी अपने-आपको ढाल लेते हैं."

ये भी पढ़ें: 

Delhi Violence: 7 दिन बाद भी जरूरतमंदों को नहीं मिल पा रही मदद! जानिए पूरा मामला
First published: March 3, 2020, 5:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading