दिल्ली: फर्जी बिल मामले का भंडाफोड़, 17 कंपनियों ने सरकार को लगाई 436 करोड़ की चपत

अधिकारियों ने धोखाधड़ी के इस मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

अधिकारियों ने धोखाधड़ी के इस मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

दिल्ली में माल एवं सेवाकर (GST) अधिकारियों ने फर्जी बिल जारी कर धोखाधड़ी के मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के अनुसार, इन लोगों पर 17 फर्जी कंपनियां बनाकर 436 करोड़ रुपये का माल खरीदने-बेचने के लिए फर्जी बिलों पर कर लाभ लेने का आरोप है.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली में माल एवं सेवाकर (GST) अधिकारियों ने फर्जी बिल जारी कर धोखाधड़ी के मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के अनुसार, इन लोगों पर 17 फर्जी कंपनियां बनाकर 436 करोड़ रुपये का माल खरीदने-बेचने के लिए फर्जी बिलों पर कर लाभ लेने का आरोप है. आधिकारिक बयान के अनुसार, केन्द्रीय जीएसटी दिल्ली पूर्व आयुक्तालय के अधिकारियों ने इस मामले का पता लगाया है. उनके मुताबिक, इन कंपनियों ने फर्जी तरीके से इनपुट टैक्स क्रेडिट के तहत 11.55 करोड़ रुपये के कर रिफंड का दावा किया था.

बैंक कर्मचारियों की मिली भगत आई सामने

सीजीएसटी दिल्ली पूर्व द्वारा जारी बयान के अनुसार, 'जांच पड़ताल के दौरान यह मामला प्रकाश में आया कि आरोपी व्यक्तियों द्वारा कुछ बैंक कर्मचारियों के साथ मिली भगत से एक बड़ा हवाला कारोबार चलाया जा रहा था.'

कागजों पर हैं ये कंपनियांइस मामले में संलिप्त बैंक कर्मचारियों की भी जांच की जा रही है. जांच में पता चला है कि 17 कंपनियां केवल कागजों पर ही हैं. ये कंपनियां केवल फर्जी बिल जारी करती हैं, ताकि उन पर इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का लाभ हासिल किया जा सके.आरोपी न्यायिक हिरासत में भेजे गए जेलइस मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. इसमें असिफ खान, राजीव छटवाल और अर्जुन शर्मा का नाम शामिल है. बताया जा रहा है कि इन आरोपियों को 1 मार्च को गिरफ्तार किया गया. इसके बाद इन्हें 13 मार्च तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.आरोपी चला रहे थे कंपनियांविज्ञप्ति के अनुसार, तीनों आरोपी 17 फर्जी कंपनियों को मिलकर चला रहे थे. इन पर माल की आपूर्ति किये बिना ही फर्जी बिल जारी किये गये, जिनमें 436 करोड़ रुपये का इनपुट टैक्स क्रेडिट आगे पास किया गया.
आयकर विभाग के एंटी इवेजन विंग के दिल्‍ली वेस्‍ट के कमिश्‍नर ने नकली चालान के एक बड़े रैकेट का पर्दाफाश किया है. न्‍यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, विभाग ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है. दरअसल, 23 शेल कंपनियों का इस्‍तेमाल करके फर्जी तरीके से 7,896 करोड़ रुपये का नकली चालान जारी किया गया था. जिसमें से 1709 करोड़ रुपये का एनपुट टैक्‍स क्रेडिट का फ्रॉड हुआ है.



 

ये भी पढ़ें:

दिल्ली एम्स के हॉस्टल से कूद कर अधेड़ ने दी जान, घटना के बाद मची अफरातफरी

 

दिल्ली हिंसा के बाद शाहीन बाग: किसी अनिष्ट की आशंका, जज्बा फिर भी बरकरार

 

 

 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज