दिल्ली में 5 माह में सिर्फ 5 फीसदी को लगी कोरोना डोज, कांग्रेस बोली-प्राइवेट से लगवाने को मजबूर कर रही सरकार

दिल्ली सरकार 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन अभियान में केवल 5 महीने में मात्र 5% दिल्लीवासियों को ही वैक्सीन की दोनों डोज लगा पाई है (File Photo)

दिल्ली सरकार 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन अभियान में केवल 5 महीने में मात्र 5% दिल्लीवासियों को ही वैक्सीन की दोनों डोज लगा पाई है (File Photo)

कांग्रेस ने दिल्ली सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन अभियान में केवल 5 महीने में मात्र 5% दिल्लीवासियों को ही वैक्सीन की दोनों डोज लग पाई हैं जबकि हर रोज एक लाख टीकाकरण की घोषणा जोर शोर से की गई थी.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना वैक्सीन की भारी कमी को लेकर अब प्रदेश कांग्रेस ने भी केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) पर हमला बोला है.  कांग्रेस ने दिल्ली सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन अभियान में केवल 5 महीने में मात्र 5% दिल्लीवासियों को ही वैक्सीन की दोनों डोज लग पाई हैं जबकि हर रोज एक लाख टीकाकरण की घोषणा जोर शोर से की गई थी.

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह 16 जनवरी से अब तक मात्र 5 फीसदी ही लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज दे पाई है, यह उसकी नाकामी का सबसे बड़ा उदाहरण है.

चौधरी अनिल कुमार ने मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) पर आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली सरकार ने राज्य स्तर की 25 प्रतिशत वैक्सीन की हिस्सेदारी नही खरीदी है. जबकि निजी क्षेत्र और दिल्ली सरकार (Delhi Government) को 25-25 प्रतिशत कुल 50 प्रतिशत वैक्सीन स्वयं खरीदनी थी और बाकी 50 प्रतिशत वैक्सीन केन्द्र सरकार (Central Government) द्वारा खरीदी जानी है.

आर्थिक संकट से जूझ रहे गरीबाें को लगवाने पड़ रहे पेड टीके 
चौ. अनिल कुमार ने कहा कि कोविड महामारी के कारण आर्थिक संकट से जूझ रहे गरीब लोग वैक्सीन की भारी कमी के कारण निजी केन्द्रों पर 900-1250 रुपये में टीका लगवाने को मजबूर है. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार निजी अस्पतालों को फायदा पहुंचाने के लिए गरीबों के साथ सजिश कर रही, जबकि उनका नि:शुल्क टीकाकरण होना चाहिए.

400 टीका केन्द्र बंद हुये, लेकिन निजी टीका केन्द्रों पर वैक्सीन उपलब्ध 

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि 18-44 वर्ष के लोगों के 400 टीका केन्द्र बंद हो गए है, जबकि 45 वर्ष से उपर के लोगों के लिए कोवाक्सिन (Covaxin) के टीके खत्म है, जबकि निजी टीका केन्द्रों पर वैक्सीन उपलब्ध है. उन्होंने मांग की कि दिल्ली सरकार वैक्सीन के प्राईवेट कोटे को सरकारी कोटे में परिवर्तित करके जनता को नि:शुल्क वैक्सीन मुहैया कराये.



पत्रकारों को कोरोना योद्धा घोषित करे दिल्ली सरकार

प्रदेश अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने दिल्ली सरकार से मांग की कि फ्रंटलाइन पर आकर काम करने वाले पत्रकारों को कोरोना योद्धा (Corona Warriors) घोषित करें. पत्रकारों की सुविधा के लिए विशेष वैक्सीनेशन केन्द्र (Vaccination Centre) बनाकर नि:शुल्क वैक्सीन लगाने की व्यवस्था की जाए या निजी केन्द्रों पर पहचान दिखाकर नि:शुल्क वैक्सीन लगाई जाए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज