लाइव टीवी

इन शहरों को भी जल्द जोड़ा जा सकता है 6 हाईस्पीड रेल कॉरिडोर से
Delhi-Ncr News in Hindi

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: March 6, 2020, 10:50 AM IST
इन शहरों को भी जल्द जोड़ा जा सकता है 6 हाईस्पीड रेल कॉरिडोर से
Demo Pic

अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो सभी 6 हाईस्पीड रेल कॉरिडोर (High speed rail corridor) को पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra modi) की हरी झंडी मिल जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 6, 2020, 10:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देशवासियों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है. यूपी (UP), दिल्ली (Delhi), चंडीगढ़, मुम्बई (Mumbai) आदि सहित कई शहरों को हाईस्पीड रेल कॉरिडोर (High speed rail corridor) से जोड़ा जा सकता है. रेल मंत्रालय इस पर काम कर रहा है. कॉरिडोर बनाए जाने की संभावना को देखते हुए इसकी डीपीआर तैयार कराई जा रही है. पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra modi) की हरी झंडी मिलते ही मुम्बई-अहमदाबाद रेल कॉरिडोर पर पहले से ही काम चल है. अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो सभी 6 हाईस्पीड रेल कॉरिडोर को पीएम की हरी झंडी मिल जाएगी.

इन 6 हाईस्पीड रेल कॉरिडोर की डीपीआर पर चल रह है काम

हाल ही में रेल मंत्रालय ने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में बताया है कि वह इस वक्त 6 हाईस्पीड रेल कॉरिडोर पर काम कर रहा है. यहां हाईस्पीड रेल कॉरिडोर बनाए जा सकते हैं या नहीं इसकी संभावनाएं तलाशी जा रही हैं.



रेल कॉरिडोर की डीपीआर तैयार करने की जिम्मेदारी नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड को दी गई है. गौरतलब है कि मुम्बई-अहमदाबाद के बीच बन रहे हाई स्पीड रेल कॉरिडोर को बनाने का काम भी नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड ही कर रही है.





रेल मंत्रालय ने यह भी जानकारी दी है कि नए रेल कॉरिडोर का बनना इस पर भी निर्भर करता है कि उस जगह पर यात्री मांग, बाजार संभावना सहित अन्य संभावना क्या हैं.

मुंबई-अहमदाबाद रेल कॉरिडोर का यह चल रहा है काम

कुछ दिन पहले ही नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड से आरटीआई में मिली जानकारी के मुताबिक बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट की कुल लागत 1.08 लाख करोड़ रुपये है. जिसमे से दिसम्बर 2019 तक 6247 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं. जबकि यह प्रोजेक्ट साल 2023 तक पूरा होना है. मुम्बई से अहमदाबाद के बीच चलने वाली यह बुलेट ट्रेन कुल 508 किमी की दूरी को तय करेगी. इस दूरी को तय करने और यात्रियों की सुविधा के लिए 24 ट्रेन चलाई जाएंगी. इसके बीच में आने वाले 1.17 लाख पेड़ों को काटा और हटाया जाएगा. 178 पेड़ ऐसे भी होंगे जिन्हें दूसरी जगह से हटाया जाएगा. बुलेट ट्रेन के इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए 297 गांवों की कुछ ज़मीन ली जाएगी. जिसमे से 281 गांवों के बीच से ज़मीन की नापतौल हो चुकी है. वहीं 715 हेक्टेयर ज़मीन का अधिग्रहण भी हो चुका है.

 

ये भी पढ़ें- 

संकट में पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन! उद्धव ठाकरे ने लगाई रोक, अब तक खर्च हुए इतने हजार करोड़

सरकार के पास नहीं बाघ-मोर को राष्ट्रीय पशु-पक्षी बताने वाले दस्तावेज, उठाया यह कदम

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 4, 2020, 4:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading