लाइव टीवी

रेलवे ने दिल्ली सरकार को खाली ट्रेन देने से मना किया, 30 हजार बुर्जुगों की यात्रा पर लगा ब्रेक

Chandan Kumar | News18Hindi
Updated: December 11, 2019, 7:13 PM IST
रेलवे ने दिल्ली सरकार को खाली ट्रेन देने से मना किया, 30 हजार बुर्जुगों की यात्रा पर लगा ब्रेक
ये भर्ती मुंबई, भुसावल, पुणे, नागपुर, सोलापुर के विभिन्न यूनिट्स में की जाएगी.

दिल्ली डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया (Delhi Deputy CM Manish Sisodia) ने कहा कि तीर्थ यात्रा योजना के तहत दिल्ली सरकार (Delhi Government) करीब 31 हजार बुर्जुगों को यात्रा कराने जा रही है, लेकिन ऐन वक्त पर रेलवे (Railway) ने हाथ खड़े कर दिए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2019, 7:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रेलवे (Railway) ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) को खाली ट्रेन देने से इनकार कर दिया है. रेलवे की ओर से कहा गया है कि अभी ट्रेन (Train) उपलब्ध नहीं करा पाएंगे. रैक खाली नहीं है. आगे कब तक खाली ट्रेन उपलब्ध करा दी जाएगी इस बारे में भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया है. ये कहना है डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया (Manish Sisodia) का. एक प्रेस कांफ्रेंस में ये जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि तीर्थ यात्रा योजना के तहत सरकार करीब 31 हजार बुर्जुगों को यात्रा कराने जा रही है, लेकिन ऐन वक्त पर रेलवे ने हाथ खड़े कर दिए हैं.

डिप्टी सीएम बोले- 12 रूट्स पर जाने थे 31 हजार तीर्थ यात्री

प्रेस कांफ्रेंस में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताया, दिल्ली सरकार की तरफ से शुरू की गई मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना सफलता पूर्वक चल रही है. दिल्ली के वरिष्ठ नागरिकों को तीर्थ यात्रा कराने के लिए योजना शुरू की गई है. अगर हम डेटा देखें तो अब तक 12 रूट्स पर दिल्ली सरकार ने तीर्थ यात्रा की शुरुआत की है. इसमें से सबसे ज्यादा पॉपुलर 10 रूट्स हुए हैं. अब तक 32828 यात्री यात्रा कर चुके हैं. अब तक कुल 63432 लोगों ने तीर्थ यात्रा के लिए रजिस्ट्रेंशन कराया है.

डिप्टी सीएम ने की ये अपील

डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया ने बताया, दिल्ली सरकार मीडिया के माध्यम से तीर्थ यात्रा पर जाने वाले लोगों को यह आवश्यक सूचना देना चाहती है कि रेलवे ने मंगलवार को दिल्ली सरकार को पत्र लिखा है कि वे अभी तीर्थ यात्रा योजना के लिए ट्रेन उपलब्ध नहीं करा पाएंगे. दिल्ली सरकार तीर्थ यात्रा योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुके उन तमाम लोगो को जानकारी देना चाहती है कि फिलहाल यह यात्रा कुछ समय के लिए स्थगित रहेगी. सीएम अरविंद केजरीवाल भी मामले पर पूरी निगाह रखे हुए हैं.



पहली ट्रेन 12 जुलाई 2019 को यात्रियों को लेकर गई थी. तब से लेकर अब तक 34 ट्रेन यात्रियों को लेकर तीर्थ यात्रा पर जा चुकी हैं और अभी 30 ट्रेन अगले दो महीने में जाने वाली थीं. इसमे से 18 ट्रेन इसी महीने जाने वाली थीं. इसमे से कुछ ट्रेन गई भी हैं.ये है खाली ट्रेनों की मौजूदा स्थिति

>>कुहरे की वजह से 13 दिसंबर से 31 जनवरी तक रेलवे ने 124 ट्रेनें रद्द की है.
>>इसमे से सिर्फ 92 ट्रेनें नॉर्दन रेलवे की है. मतलब रेलवे के पास खाली रैक की कमी नहीं है.
>>इस दौरान कोई बड़ा चुनाव भी नहीं है जिसके चलते ट्रूप्स मूवमेंट के लिए ट्रेन की जरूरत हो.
>>रेलवे के लिए ये वक्त त्योहार या छुट्टियों का सीजन भी नहीं है कि स्पेशल ट्रेनों के लिए रैक की जरूरत हो.
>>ज्यादातर तीर्थयात्री रामेश्वरम की ओर जाने वाले हैं. मतलब ऐसा इलाका जहां कुहरे का असर नहीं होता है.


फिलहाल तो उत्तर भारत में भी कुहरे ने प्रकोप दिखाना शुरू नहीं किया है. रेलवे के पास एक वजह असम में पैरामिलिट्री फोर्स को भेजने के लिए ट्रेन की जरूरत हो सकती है. लेकिन दिल्ली सरकार के लिए चल रही ट्रेन पूरी तरह एसी ट्रेन होती है. जबकि पैरामिलिट्री को ले जाने के लिए नॉन एसी ट्रेन का इस्तेमाल होता है.

ये भी पढ़ें:- 

अयोध्या मामलाः अजित डोभाल ने योगी सरकार को लिखा लैटर, UP में हो रही चर्चा
कार पर लिखे 'L' ने ले ली 23 हजार लोगों की जान!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 5:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर