Home /News /delhi-ncr /

कौन हैं इंस्पेक्टर रैंगो, विक्टर, ब्रावो और सुल्तान, जिनसे अपराधी खाते हैं खौफ!

कौन हैं इंस्पेक्टर रैंगो, विक्टर, ब्रावो और सुल्तान, जिनसे अपराधी खाते हैं खौफ!

इंस्पेक्टर रैंगो और उनकी टीम रेलवे ट्रैक का चप्पा-चप्पा छानते हैं.

इंस्पेक्टर रैंगो और उनकी टीम रेलवे ट्रैक का चप्पा-चप्पा छानते हैं.

पांच साल से इंस्पेक्टर रैंगो और उसकी टीम रेलवे (Indian Railways) में अपराधियों को पकड़ने के काम में जुटी हुई है. कुछ खास मामलों में सिविल पुलिस भी इनकी मदद लेती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
    नई दिल्ली. सब इंस्पेक्टर (Sub Inspector) रैंगो और उनकी टीम के विक्टर, ब्रावो का क्लीयरेंस मिलने के बाद ही दिल्ली-मुंबई (Delhi-Mumbai) रेलवे (Indian Railway) रूट पर ट्रेन आगे बढाई जाती है. इंस्पेक्टर रैंगो और उनकी टीम रेलवे ट्रैक का चप्पा-चप्पा छानते हैं, जबकि सुल्तान का काम रेलवे की प्रॉपर्टी चुराने वालों को पकड़ना है. एक बार अगर सुल्तान ने अपराधियों की गंध पकड़ ली तो फिर उनका बचना मुश्किल है. बीते 5 साल से इंस्पेक्टर रैंगो रेलवे पुलिस फोर्स (RPF) के डॉग स्क्वायड में बखूबी इस काम को अंजाम दे रही है. कुछ खास केस खोलने के लिए सिविल पुलिस भी रेलवे के डॉग स्क्वायड की मदद लेती है.

    RDX तलाशने की एक्सपर्ट

    इंस्पेक्टर रैंगो और उनकी टीम के सदस्य विक्टर और ब्रावो आरडीएक्स और उस जैसे दूसरे विस्फोटकों को तलाशने के एक्सपर्ट हैं. किसी भी तरह का विस्फोटक हो वो रैंगो और उनकी टीम से बच नहीं सकता. इस टीम में रैंगो सबसे ज्यादा 5 साल पुरानी है. उसकी रैंक सब इंस्पेक्टर की है. विक्टर और ब्रावो कुछ वक्त पहले ही उनकी टीम में शामिल हुए हैं.

    Indian Railway, criminal, dog squad, mumbai, delhi, Railway police force, भारतीय रेलवे, आपराधी, डॉग स्क्वायड, मुंबई, दिल्ली, रेलवे पुलिस बल
    तमिलनाडु में है डॉग स्क्वायड की ट्रेनिंग एकेडमी


    इसे भी पढ़ें: नशाखोरी में यूपी और राजस्थान ने पंजाब को भी पीछे छोड़ा, NCB की रिपोर्ट

    टीम के हैंडलर की मानें तो जब ट्रैक पर कोई विस्फोटक छिपा होता है तो यह उसे सूंघ लेते हैं. कहां विस्फोटक छिपाया गया है, यह इशारा देने के लिए रैंगो और उनकी टीम के सदस्‍य विस्फोटक के पास बैठ जाते हैं.

    सुल्तान की यह है जिम्मेदारी

    इंस्पेक्टर रैंगो की टीम में शामिल सुल्तान एक ट्रैकर है. सुल्तान रेलवे की प्रॉपर्टी चुराने वालों के लिए शामत है. सुल्तान के हैंडलर के मुताबिक जब भी कहीं रेलवे की प्रॉपर्टी चोरी होती है तो सुल्तान को ही याद किया जाता है. सुल्तान को क्राइम स्पॉट पर ले जाया जाता है. वो स्पॉट से अपराधी की गंध लेकर उसका पीछा शुरू कर देता है. कुछ ही केस ऐसे होंगे जहां सुल्तान अपराधी तक न पहुंचा हो वरना तो सुल्तान अपराधी के न मिलने तक उसकी गंध के साथ पीछा करता रहता है.

    इसे भी पढ़ें: बिना कार्ड और OTP के हैकर ऐसे निकाल रहे हैं आपके अकाउंट से पैसे

    तमिलनाडु में दी जाती है ट्रेनिंग

    जानकारों के मुताबिक तमिलनाडु में आरपीएफ के डॉग स्क्वायड की ट्रेनिंग एकेडमी है. इसी में इंस्पेक्टर रैंगो और उनकी टीम को भी ट्रेंड किया गया है. एकेडमी में स्निफर और ट्रैकर कैटेगरी में डॉग स्क्वायड तैयार किए जाते हैं. आमतौर पर यह ट्रेनिंग 9 महीने की होती है, लेकिन कुछ खास मामलों में यह एक साल तक की भी हो सकती है. आरपीएफ स्क्वायड के लिए अलग-अलग कमरे में रहने रहने और खाने का इंतजाम करता है.

    Tags: Crime News, Dog squad, Indian Railways, RPF

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर