लाइव टीवी

जामिया प्रशासन ने विश्वविद्यालय परिसर में प्रदर्शनों पर लगाई रोक, ये है वजह
Delhi-Ncr News in Hindi

भाषा
Updated: February 1, 2020, 8:49 PM IST
जामिया प्रशासन ने विश्वविद्यालय परिसर में प्रदर्शनों पर लगाई रोक, ये है वजह
विश्वविद्यालय प्रशासन ने ‘शांति भंग होने से’ रोकने के लिए छात्रों को परिसर में किसी भी बाहरी व्यक्ति के अनधिकृत प्रवेश की सूचना देने का निर्देश दिया. (प्रतीकात्मक फोटो)

रजिस्ट्रार (Registrar) ने कहा कि छात्रों से उम्मीद की जाती है कि वे परीक्षाओं और कक्षाओं के संचालन के लिये अनुशासन बनाए रखने में सक्रिय रूप से सहयोग देंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) ने शनिवार को विश्वविद्यालय परिसर के भीतर किसी भी तरह की विरोध सभा या धरने पर रोक लगाते हुए छात्रों को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी. अधिकारियों ने यह जानकारी दी है. विश्वविद्यालय प्रशासन (University Administration) ने ‘शांति भंग होने से’ रोकने के लिए छात्रों (Students) को परिसर में किसी भी बाहरी व्यक्ति के अनधिकृत प्रवेश की सूचना देने का निर्देश दिया. विश्वविद्यालय क्षेत्र के आसपास हाल की घटनाओं के मद्देनजर ये निर्देश सामने आये हैं.

जामिया के रजिस्ट्रार ने आधिकारिक आदेश में कहा कि जामिया मिल्लिया इस्लामिया परिसर में केन्द्रीय कैंटीन या किसी और जगह के आसपास ऐसी किसी भी तरह की विरोध सभा, धरना, भाषण, जनसभा या गैरकानूनी गतिविधि की अनुमति नहीं दी जाएगी, जिससे दैनिक शैक्षणिक गतिविधियां बाधित हों.

सक्रिय रूप से सहयोग देंगे
रजिस्ट्रार ने कहा कि छात्रों से उम्मीद की जाती है कि वे परीक्षाओं और कक्षाओं के संचालन के लिये अनुशासन बनाए रखने में सक्रिय रूप से सहयोग देंगे. उनसे शांति भंग होने से रोकने के लिए परिसर में किसी भी बाहरी व्यक्ति के अनधिकृत प्रवेश की सूचना देने की भी उम्मीद की जाती है. यदि कोई ऐसी गतिविधियों में संलिप्त पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.



प्रदर्शनकारियों को गोली चला दी थी
बता दें बीते दिनो जामिया इलाके में एक नाबालिग लड़का ने प्रदर्शनकारियों को गोली चला दी थी. इस हादसे में एक युवक घायल हो गया था. हालांकि, पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था. गिरफ्तारी के बाद पिस्टल से फायरिंग करने वाले नाबालिग लड़के ने कहा था कि उसको घटना पर कोई मलाल नहीं है. न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार आरोपी ने पुलिस की पूछताछ में अब तक किसी भी संगठन से जुड़े होने की बात नहीं स्वीकारी है. दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि आरोपी सोशल मीडिया पर वीडियो देखने के बाद कट्टर हुआ. सूत्रों ने बताया कि आरोपी नाबालिग जनवरी 2018 में यूपी के कासगंज में चंदन गुप्ता की हुई हत्या का बदला लेना चाहता था.

ये भी पढ़ें- 

निर्भया गैंगरेप केस: राष्ट्रपति ने दोषी विनय की भी दया याचिका की खारिज

नोएडा में पालतू कुत्ते के लिए होगा I-CARD, नहीं पहनने पर देना पड़ सकता है फाइन

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 1, 2020, 8:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर