लाइव टीवी

जामिया की छात्राओं का आरोप- प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने गुप्तांगों पर मारी लात, फाड़े हिजाब
Delhi-Ncr News in Hindi

भाषा
Updated: February 12, 2020, 9:59 PM IST
जामिया की छात्राओं का आरोप- प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने गुप्तांगों पर मारी लात, फाड़े हिजाब
जामिया मिल्लिया इस्लामिया की छात्राओं ने पुलिस पर लगाया आरोप. (फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने इन आरोपों पर फौरन कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया.

  • Share this:
नई दिल्ली. जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय (Jamia Millia Islamia University) की छात्रों के एक समूह ने बुधवार को आरोप लगाया कि सोमवार को जब वे संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ संसद तक मार्च निकालने की कोशिश कर रहे थे तब पुलिस ने छात्राओं के गुप्तांगों पर लात मारी, कपड़े और हिजाब तक फाड़ दिए एवं गालियां दीं. हालांकि, पुलिस ने इन आरोपों पर फौरन कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया.

सुरक्षाकर्मियों और प्रदर्शनकारियों में हुई थी झड़प
बता दें कि सोमवार को सीएए और प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिकता पंजीकरण (NRC) के खिलाफ जामिया के सैकड़ों छात्रों और आसपास के लोग संसद तक मार्च करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन पुलिस ने रास्ते में ही उन्हें रोक दिया था, जिसके बाद सुरक्षाकर्मियों और प्रदर्शनकारियों में झड़प हो गई थी.

20 छात्रों ने मीडिया के सामने बताया...



जामिया समन्वय समिति (जेसीसी) के बैनर तले करीब 20 छात्र बुधवार को मीडिया के सामने आए और उस दिन पुलिस द्वारा कथित तौर पर बरती गई बर्बरता को बयां किया. इन छात्रों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने सोमवार को उन्हें होली फैमिली अस्पताल के पास रोका और जूते, डंडे, छड़ और लोहे के बने कवच से पिटाई की.

छात्राओं ने लगाया ये आरोप
उल्लेखनीय है कि सोमवार की झड़प के बाद कम से कम 23 लोगों को अल शिफा और अंसारी अस्पताल में इलाज के लिए ले जाया गया था. ये विद्यार्थी अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद मीडिया से बात कर रहे थे. छात्राओं ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके गुप्तांगों पर लात मारी, उनकी जांघ पर चढ़ गए और उनका हिजाब फाड़ दिया.

सीएए के खिलाफ दो महीने से चल रहा है प्रदर्शन
उल्लेखनीय है कि सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने विश्वविद्यालय के द्वार संख्या 7 से दोपहर में संसद तक मार्च निकालना शुरू किया था. सीएए के खिलाफ करीब दो महीने से प्रदर्शन चल रहा है लेकिन गत शुक्रवार और शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने चुनाव के चलते प्रदर्शन स्थल को बदल दिया था. प्रदर्शनकारी जब दो किलोमीटर का रास्ता तय कर चुके थे तब पुलिस ने उन्हें रोका और अनुमति नहीं होने और निषेधाज्ञा लागू होने का हवाला देते हुए उनसे आगे नहीं बढ़ने की अपील की.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 8:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर