• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • मिसालः जामिया नगर के मंदिर को बचाने के लिए मुस्लिम पहुंचे हाईकोर्ट, फिर ऐसे जीती कानूनी लड़ाई

मिसालः जामिया नगर के मंदिर को बचाने के लिए मुस्लिम पहुंचे हाईकोर्ट, फिर ऐसे जीती कानूनी लड़ाई

जामिया नगर के मुसलमानों ने मंदिर को नुकसान से बचाने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया.

जामिया नगर के मुसलमानों ने मंदिर को नुकसान से बचाने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया.

Muslims Save Temple: राजधानी दिल्‍ली के मुस्लिमों ने जामिया नगर इलाके के नूर नगर में बने एक मंदिर को संरक्षित करने के लिए दिल्‍ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाकर एक मिसाल पेश की है. यही नहीं, इस कानूनी लड़ाई में वह सफल भी रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. राजधानी दिल्ली के मुस्लिमों ने जामिया नगर के नूर नगर स्थित एक मंदिर को संरक्षित कराने के लिए दिल्‍ली हाईकोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़कर मिसाल पेश की है. दरअसल कुछ समय पहले जमीन पर कब्जा करने के इरादे से मंदिर की देखरेख करने वाले ने बगल में स्थित धर्मशाला के एक हिस्से को तोड़ दिया था. जबकि जामिया नगर वार्ड 206 कमेटी के अध्यक्ष सैयद फौजुल अजीम (अर्शी) की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्‍ली हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा की पीठ ने कहा कि ले-आउट प्लान के हिसाब से उक्त स्थान पर मंदिर है और इस पर अतिक्रमण करने की अनुमति नहीं है.

    इसके अलावा दिल्‍ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार, पुलिस आयुक्त , साउथ एमसीडी और जामिया नगर के थाना प्रभारी को आदेश दिया,’ वे सुनिश्चित करें कि भविष्य में मंदिर परिसर में कोई अवैध अतिक्रमण नहीं हो. वहीं, कानून-व्यवस्था की भी कोई समस्या नहीं आए. वहीं, दिल्‍ली पुलिस और साउथ एमसीडी ने कोर्ट को मंदिर पर किसी भी प्रकार का अतिक्रमण नहीं होने देने का भरोसा दिलाया है.

    जानें क्‍या है मामला

    इस मामले में सैयद फौजुल अजीम (अर्शी) के अधिवक्ता नितिन सलूजा की तरफ से कोर्ट में कहा गया कि मंदिर की धर्मशाला को रातों-रात गिरा कर जमीन को लेवल कर दिया गया, ताकि बिल्डरों द्वारा इस पर कब्जा किया जा सके. इसके अलावा धर्मशाला को तोड़ने से जुड़ी तस्वीरें पेश की गई हैं. वहीं, दिल्ली सरकार के शहरी विकास की वेबसाइट पर उपलब्ध ले-आउट प्लान का भी हवाला दिया गया, जिसमें नूर नगर एक्सटेंशन जामिया नगर में उक्त स्थान पर मंदिर है.

    हरियाणा के सुल्तान झोटे की मौत, राजस्थान में पशु मेले में 21 करोड़ रुपये लगी थी कीमत

    50 साल से हो रही है पूजा

    वहीं, सैयद फौजुल अजीम (अर्शी) की तरफ से दायर याचिका में कहा गया था कि जामिया नगर के नूर नगर स्थित मंदिर की धर्मशाला की जमीन माखन लाल के पुत्र जौहरी लाल की थी. जबकि इस मंदिर को 1970 में माखन लाल ने बनवाया था. मुस्लिम बहुल क्षेत्र होने के बावजूद भी यहां 50 साल से लोग पूजा करने आते थे. इस इलाके में सिर्फ 40 से 50 हिंदू परिवार ही अब रहते हैं. जबकि मंदिर की देखरेख करने वाले ने पहले धर्मशाला और फिर मंदिर को भी गिरा दिया, ताकि वहां रिहायशी काम्प्लेक्स बन सके. अर्शी ने इसी साल 20 सितंबर को पुलिस और साउथ एमसीडी को भी शिकायत दी थी, लेकिन जब वहां से कार्रवाई मदद नहीं मिली तो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज