छात्रों के विरोध प्रदर्शन पर जामिया प्रशासन ने किया साफ, नहीं कैंसल होंगी यूनिवर्सिटी परीक्षाएं

दिल्‍ली की जामिया मिल्लिया इस्‍लामिया यूनिवर्सिटी में चार जून से ओपन बुक एक्‍जाम शुरू होने जा रहे हैं.

दिल्‍ली की जामिया मिल्लिया इस्‍लामिया यूनिवर्सिटी में चार जून से ओपन बुक एक्‍जाम शुरू होने जा रहे हैं.

जामिया प्रशासन की ओर से बताया गया कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने देशभर में तबाही मचाई है लेकिन जामिया विश्‍वविद्यालय में ऑनलाइन ओपन बुक एक्‍जाम होंगे, लिहाजा छात्रों के लिए चिंता की बात नहीं है. वे अपने-अपने घरों से ये परीक्षाएं दे सकते हैं. अभी तक छात्र इसी तरह ऑनलाइन क्‍लासेज भी लेते आए हैं.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. कोरोना की दूसरी लहर के कारण देशभर में मचे हाहाकार के बाद छात्रों की ओर से जामिया मिल्लिया इस्‍लामिया यूनिवर्सिटी में होने जा रही परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की जा रही हैं. हालांकि अब जामिया प्रशासन की ओर से कहा गया है कि छात्र परीक्षाओं के लिए तैयार रहें. परीक्षाओं को कैंसल नहीं किया जाएगा. चार जून से सभी छात्र परीक्षाएं देंगे.

इस बारे में जामिया प्रशासन की ओर से बताया गया कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर (Covid second Wave) ने देशभर में तबाही मचाई है लेकिन जामिया विश्‍वविद्यालय (Jamia University) में ऑनलाइन ओपन बुक एक्‍जाम (Open Book Exams) होंगे, लिहाजा छात्रों के लिए चिंता की बात नहीं है. वे अपने-अपने घरों से ये परीक्षाएं दे सकते हैं. अभी तक छात्र इसी तरह ऑनलाइन क्‍लासेज (Online Classes) भी लेते आए हैं.

जामिया (Jamia) की ओर से कहा गया कि पिछले साल भी कोरोना की पहली लहर के दौरान काफी हालात खराब थे लेकिन जामिया में कई सेमेस्‍टर में ओपन बुक एक्‍जाम कराया गया और इसका फायदा भी छात्रों को मिला. इसी तरह इस बार भी छात्रों को विवि की परीक्षाओं में फिजिकली नहीं आना. ऐसे में छात्रों को परेशान होने की जरूरत नहीं है.

गौरतलब है कि छात्रों की ओर से लगातार परीक्षाएं रद्द करने की मांग की जा रही है. छात्रों का कहना है कि जामिया विवि में देश के कोने-कोने से छात्र पढ़ने आते हैं लेकिन कोरोना की दूसरी लहर और देश के कई हिस्‍सों में आए तूफान और चक्रवात के चलते छात्रों की पढ़ाई भी प्रभावित हुई है. इतना ही नहीं किसी ने अपने परिजन को खोया है तो कोई अभी भी स्‍वास्‍थ्‍य की परेशानियों से जूझ रहा है. लिहाजा परीक्षाओं में शामिल होने में मुश्किलें आ रही हैं.
जामिया में चार जून से शुरू होने जा रही परीक्षाओं को लेकर ऑल इंडिया स्‍टूडेंट्स एसोसिएशन की ओर से मांग की गई कि परीक्षाओं को रद्द करने के साथ ही असेसमेंट के अन्‍य तरीकों को अपनाया जाए. आईसा की ओर से कहा गया है कि महामारी के इस दौर में जबकि छात्रों के मानसिक और शारीर‍िक स्‍वास्‍थ्‍य की सुरक्षा भी करना जरूरी है. न केवल छात्र बल्कि शिक्षक और फैकल्‍टी भी इस समय परीक्षाओं में शामिल होने की स्थिति में नहीं हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज