Home /News /delhi-ncr /

JNU छात्र संघ के उपाध्यक्ष ने बाबरी मस्जिद के पुनर्निर्माण की उठाई मांग, विवादित Video वायरल

JNU छात्र संघ के उपाध्यक्ष ने बाबरी मस्जिद के पुनर्निर्माण की उठाई मांग, विवादित Video वायरल

 जेएनयूएसयू ने बाबरी मस्जिद विध्वंस (Babri Masjid Demolition) और बी. आर. आंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर सोमवार रात को एक सद्भावना मार्च का आयोजन किया था.

जेएनयूएसयू ने बाबरी मस्जिद विध्वंस (Babri Masjid Demolition) और बी. आर. आंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर सोमवार रात को एक सद्भावना मार्च का आयोजन किया था.

Delhi News: जेएनयूएसयू के महासचिव सतीशचंद्र यादव ने कहा, ‘‘जेएनयूएसयू ने ऐसी मांग नहीं की. उन्होंने कहा कि किस तरह अदालत ने यह स्वीकार किया कि बाबरी मस्जिद को गिराया जाना गलत था और कहा था कि इसे फिर से बनाया जाना चाहिए.’’ विश्वविद्यालय प्रशासन ने अभी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (JNU) के उपाध्यक्ष साकेत मून (Vice President Saket Moon) ने एक विरोध प्रदर्शन के दौरान बाबरी मस्जिद के पुनर्निर्माण की मांग की. हालांकि, जेएनयूएसयू के एक पदाधिकारी ने मून की टिप्पणी से दूरी बना ली. जेएनयूएसयू ने बाबरी मस्जिद विध्वंस (Babri Masjid Demolition) और बी. आर. आंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर सोमवार रात को एक सद्भावना मार्च का आयोजन किया था. एक कथित वीडियो में मून को यह कहते हुए सुना जा सकता है, ‘‘…मुआवजा दिया जाना चाहिए. यह स्वीकार किया जाना चाहिए कि बाबरी मस्जिद का विध्वंस गलत था और इसका पुनर्निर्माण होना चाहिए.’’

    जेएनयूएसयू के महासचिव सतीशचंद्र यादव ने कहा, ‘‘जेएनयूएसयू ने ऐसी मांग नहीं की. उन्होंने कहा कि किस तरह अदालत ने यह स्वीकार किया कि बाबरी मस्जिद को गिराया जाना गलत था और कहा था कि इसे फिर से बनाया जाना चाहिए.’’ विश्वविद्यालय प्रशासन ने अभी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. जेएनयूएसयू ने शनिवार रात को ‘राम के नाम’ डॉक्यूमेंटरी का प्रसारण किया था जबकि प्रशासन ने आशंका जताई थी कि ‘‘इस तरह की अनाधिकृत गतिविधि से विश्वविद्यालय परिसर में सांप्रदायिक सद्भाव बिगड़ सकता है.’’

    अधिकारियों को ड्यूटी पर तैनात कर दिया गया था
    बता दें कि अयोध्या (Ayodhya) में 6 दिसंबर को बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी थी. ऐसे में इसको देखते हुए हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया था. प्रशासनिक अधिकारियों की ओर से अयोध्या में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे. खुफिया विभाग की टीमें भी सक्रिय थीं. अयोध्या में शाम से ही सेक्टर मजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारियों को ड्यूटी पर तैनात कर दिया गया था.

    पीएससी और कई एजेंसियां लगी हुई थीं
    6 दिसंबर 1992 को विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद इसकी बरसी पर अयोध्या में अलर्ट था. अयोध्या की सुरक्षा को लेकर एसएसपी शैलेश पांडे ने कहा था कि अयोध्या में श्रद्धालुओं का आगमन बढ़ा है, ऐसे में पहले से ही अयोध्या की व्यापक सुरक्षा व्यवस्था की गई है. पुलिस प्रशासनिक व्यवस्था दो चीजों पर होती है इसमें कंसंट्रेट. सुरक्षा से कोई समझौता नहीं हो सकता. सुरक्षा के लिए सुरक्षाबलों को डेप्लॉयमेंट किया गया है. सुरक्षा व्यवस्था में सिविल पुलिस, पीएससी और कई एजेंसियां लगी हुई थीं.

    Tags: Babri Masjid demolition 29 years, Babri Masjid demolition anniversary, Delhi news, Jnu

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर