लाइव टीवी

JNU हिंसा: छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष बोलीं- मुझे खासतौर पर निशाना बनाया गया

News18Hindi
Updated: January 6, 2020, 3:13 PM IST
JNU हिंसा: छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष बोलीं- मुझे खासतौर पर निशाना बनाया गया
जएनयू परिसर में किए गए हमले में घायल हुईं आईशी घोष ने कहा है कि हमले में उन्हें खासतौर पर निशाना बनाया गया. (फाइल फोटो)

JNUSU अध्यक्ष आईशी घोष (Aishi Ghosh) ने सोमवार को कहा कि विश्वविद्यालय परिसर में शांति मार्च के दौरान उन्हें विशेष तौर पर निशाना बनाया गया. गौरतलब है कि विश्वविद्यालय परिसर में हुए हमले में घोष घायल हो गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 6, 2020, 3:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) छात्रसंघ की अध्यक्ष आईशी घोष (Aishi Ghosh) ने सोमवार को कहा कि परिसर में शांति मार्च के दौरान उन्हें विशेष तौर पर निशाना बनाया गया. गौरतलब है कि विश्वविद्यालय परिसर में हुए हमले में घोष घायल हो गई थी. आईशी घोष ने कहा कि रविवार को 20 से 25 नकाबपोश लोग शांति मार्च में घुस आए और उन पर लोहे के सरियों से हमला किया. इस हमले में घोष के सिर में चोट आई और उन्हें एम्स में भर्ती करवाया गया. घोष को सोमवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.

जेएनयूएसयू की अध्यक्ष ने बताया कि, ‘जेएनयू परिसर में रविवार को शांति मार्च के दौरान मुझे विशेष तौर पर निशाना बनाया गया. 20 से 25 नकाबपोश लोग शांति मार्च में घुस आए और उन्होंने मुझ पर सरियों से हमला किया.’

जेएनयूएसयू ने किया था पंजीयन का बहिष्कार
घोष ने आरोप लगाया कि शनिवार को जेएनयूएसयू द्वारा पंजीयन बहिष्कार का जायजा लेने वह स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज गई थीं, तब एक प्रोफेसर ने उन्हें सबक सिखाने की धमकी दी थी. छात्र संघ ने एक जनवरी से पांच जनवरी तक चलने वाली सेमेस्टर पंजीयन प्रक्रिया के बहिष्कार का आह्वान किया था.

जेएनयू के छात्रों पर सोच-समझकर किया गया कायराना हमला: शरद पवार
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने सोमवार को कहा कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों पर ‘सोच-समझकर कायराना हमला’ किया गया. उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक मूल्यों को दबाने के लिए हिंसा का इस्तेमाल कारगर साबित नहीं होगा. पवार की टिप्पणी ऐसे वक्त आई है जब महाराष्ट्र सरकार में उनकी पार्टी के मंत्री जितेन्द्र अवहाद ‘गेट वे ऑफ इंडिया’ पर हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों का साथ देने पहुंचे.

पवार ने ट्वीट में यह लिखा थापवार ने ट्वीट किया, ‘जेएनयू के छात्रों और प्रोफेसरों पर सोच-समझकर कायराना हमला किया गया. मैं हिंसा और तोड़-फोड़ की इस अलोकतांत्रिक घटना की कड़े शब्दों में निंदा करता हूं. लोकतांत्रिक मूल्यों और विचारों को दबाने के लिए हिंसा का उपयोग कारगर साबित नहीं होगा.’

छात्रों और शिक्षकों पर किया गया था हमला, 28 लोग हुए थे घायल
जेएनयू परिसर में रविवार रात उस वक्त हिंसा भड़क गई थी, जब लाठियों से लैस कुछ नकाबपोश लोगों ने छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला कर दिया था और परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था, इसके बाद प्रशासन ने पुलिस को बुलाया. इस हमले में जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष सहित कम से कम 28 लोग घायल हुए हैं.

ये भी पढ़ें - 

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने पुलिस को जारी किया समन

महाराष्ट्र में ’ऑपरेशन लोटस’ की कोई योजना नहीं: प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 6, 2020, 3:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर