Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    कपिल मिश्रा ने केजरीवाल सरकार से पूछा - हिंदू त्यौहारों पर ही प्रतिबंध क्यों?

    कपिल मिश्रा के मुताबिक, यह फैशन बन गया है कि जब हिंदुओं का कोई त्यौहार आए तो उस पर प्रतिबंध लगा दो. दिवाली आए तो पटाखे बंद कर दो. होली आए तो पानी की कमी कर दो. जन्माष्टमी पर दही हांडी हो तो उसका मजाक उड़ाना शुरू कर दो. (फाइल फोटो)
    कपिल मिश्रा के मुताबिक, यह फैशन बन गया है कि जब हिंदुओं का कोई त्यौहार आए तो उस पर प्रतिबंध लगा दो. दिवाली आए तो पटाखे बंद कर दो. होली आए तो पानी की कमी कर दो. जन्माष्टमी पर दही हांडी हो तो उसका मजाक उड़ाना शुरू कर दो. (फाइल फोटो)

    कपिल मिश्रा ने कहा, मुझे लगता है कि सरकार को हिंदू धर्म के त्यौहारों पर तो बैन लगाना आता है. क्या सरकार कभी ईद कैसे मनाई जाएगी, क्रिसमस कैसे बनाई जाएगी, इस पर आर्डर दे सकती है क्या...

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 6, 2020, 10:13 PM IST
    • Share this:
    नोएडा. बढ़ते वायु प्रदूषण (air pollution) को देखते हुए दिल्ली सरकार (delhi government) ने पटाखों पर प्रतिबंध (ban) लगा दिया है. दिवाली के मौके पर 7 नवंबर से 30 नवंबर तक पटाखों पर लगाए गए प्रतिबंध पर बीजेपी (BJP) नेता कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) ने दिल्ली सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा 'मैं केजरीवाल जी से यह पूछना चाहता हूं कि दिल्ली में प्रदूषण को कम करने के लिए और क्या क्या किया जाता है. हर साल दिवाली पर पटाखों को प्रतिबंधित (Firecrackers banned) किया जाए क्या यह उचित है? दिल्ली में प्रदूषण का स्तर तो आज भी है, आज तो पटाखे नहीं जल रहे हैं? करवा चौथ पर महिलाओं को एक-एक घंटे चांद देखने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ी और प्रदूषण अपने चरम पर था लेकिन तब तो पटाखे नहीं चल रहे थे.. तो केजरीवाल जी बताएं कि वह प्रदूषण कम करने के लिए वह क्या करेंगे और कब करेंगे.. हर साल का यही तमाशा है कि दिवाली पर तो पटाखों पर प्रतिबंध लगा देते हैं... पूरे साल तो पटाखों पर कोई प्रतिबंध नहीं है. और पटाखों से कोई अलग प्रदूषण होता है इसकी कोई रिपोर्ट भी नहीं है. अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान सभी जगह पटाखे जलते हैं तो क्या उन देशों को नहीं पता कि प्रदूषण से कैसे डील करना है? मुझे लगता है कि सरकार को हिंदू धर्म के त्योहारों पर तो बैन लगाना आता है. क्या सरकार कभी ईद कैसे मनाई जाएगी, क्रिसमस कैसे बनाई जाएगी, इस पर आर्डर दे सकती है क्या.. लेकिन दिवाली कैसे मनाई जाएगी यह आर्डर देने में सरकार को बड़ा मजा आता है.'

    कोरोना और प्रदूषण को गंभीरता से लेना चाहिए

    कल हाई कोर्ट ने भी कहा कि दिल्ली कोरोना कैपिटल है. तो मुझे लगता है कि सरकार को इनसे निपटने के लिए सही कदम उठाने की जरूरत है. सरकार बताए कि उसके लिए क्या कर रही है. क्या पटाखे बंद करने से कोरोना खत्म हो जाएगा? मुझे लगता है कि गंभीरता की कमी है. हिंदू त्योहारों को हल्के में लिया जाता है और उसे बार-बार बंद करने की कोशिश की जाती है. केजरीवाल सरकार के 7 साल निकल गए लेकिन प्रदूषण को कम करने के लिए उनकी तरफ से कोई भी ऐसा कदम नहीं उठाया गया कि बार-बार प्रदूषण की समस्या से जूझने के लिए लोगों को मजबूर न होना पड़े.

    पटाखे प्रतिबंधित होने का असर व्यापारियों पर पड़ेगा

    आगे पढ़ें
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज