केजरीवाल ने अमर शहीदों को किया नमन, कहा-सभी को मिलकर बनाना है भारत को दुनिया का नंबर वन देश


सीएम अरविंद केजरीवाल ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि अर्पित की.

सीएम अरविंद केजरीवाल ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि अर्पित की.

सीएम अरविंद केजरीवाल ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि अब यहां से देश को आगे ले जाने की जिम्मेदारी हम सभी को मिलकर निभानी होगी. भारत को दुनिया का नंबर वन देश बनाना है. देश आपके अदम्य साहस और चिर स्मरणीय बलिदान का हमेशा कृतज्ञ रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 7:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश को अंग्रेजो की गुलामी से मुक्त कराने के लिए हंसते-हंसते अपने प्राणों को न्यौछावर करने वाले तीनों अमर शहीदों को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने नमन किया‌.

दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly) में तीनों शहीदों की प्रतिमा को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हम आजादी के 75वें साल के शहीदी दिवस (Shaheed Divas) पर देश के अमर शहीदों को सलाम कर रहे हैं. इनकी शहादत की बदौलत ही आज हम आजाद भारत का हिस्सा है.

सीएम केजरीवाल ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए यह भी कहा कि अब यहां से देश को आगे ले जाने की जिम्मेदारी हम सभी को मिलकर निभानी होगी. उन्होंने कहा कि भारत को दुनिया का नंबर वन देश बनाना है. देश आपके अदम्य साहस और चिर स्मरणीय बलिदान का हमेशा कृतज्ञ रहेगा.

Youtube Video

विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल (Speaker Ram Niwas Goel) ने कहा कि 23 मार्च 1931 को भारत को अंग्रेजी हुकूमत से मुक्त कराने वाले 3 युवाओं ने राष्ट्र मुक्ति की धारा में महज 22-23 वर्ष की उम्र में प्राण न्यौछावर कर दिए. उन्होंने यह भी कहा कि शहीदे आजम भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव ऐसे महान युवा आंदोलनकारी थे जिनकी दृढ़ता, त्याग, तपस्या और बलिदान से भारत आजाद हुआ.

गोयल ने कहा कि आज के युवाओं को उन महान क्रांतिकारियों के विचारों से प्रेरणा लेनी होगी और उनके दिखाएं कदमों पर चलना होगा. गोयल ने यह भी कहा कि सचमुच देश भक्ति का कैसा जुनून था भारत के उन तीन लाडलो में कि मौत को गले लगाते वक्त भी उनके होटों और दिलों में अपने वतन के लिए प्यार और देशभक्ति के गीत थे. मौत का भय भी उनको अपने पद से भ्रमित नहीं कर सका.

उन्होंने आगे कहा कि अंग्रेजी क्रूरता के आगे तीनों क्रांतिकारी सीना तान के अडिग खड़े रहे आज भी उसी जुनून और जज्बे की आवश्यकता है. इन तीनों क्रांतिकारियों का जीवन आज के लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत है.



इस अवसर पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन, समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम, विधानसभा की उपाध्यक्षा राखी बिरला और कई विधायक भी उपस्थित थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज