होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /DJB: द‍िल्‍लीवालों को RO का पानी प‍िलाने की तैयारी में केजरीवाल सरकार, यहां तैयार हो रहे प्‍लांट

DJB: द‍िल्‍लीवालों को RO का पानी प‍िलाने की तैयारी में केजरीवाल सरकार, यहां तैयार हो रहे प्‍लांट

द‍िल्‍ली जल बोर्ड की ओर से ओखला में आरओ प्‍लांट बनाए जाने की योजना है.(सांकेतिक तस्वीर)

द‍िल्‍ली जल बोर्ड की ओर से ओखला में आरओ प्‍लांट बनाए जाने की योजना है.(सांकेतिक तस्वीर)

RO water Supply in Delhi: द‍िल्‍ली जल बोर्ड की ओखला में RO Plant बनाए जाने की योजना है. 20 एमजीडी की क्षमता वाले इस प्‍ ...अधिक पढ़ें

    नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली की आम आदमी पार्टी सरकार (AAP Government) राजधानीवास‍ियों को 24 घंटे सातों द‍िन पानी (Water) मुहैया कराने की योजना पर तेजी से काम कर रही है. द‍िल्‍लीभर में पानी की नई पाइपलाइन ब‍िछाने से लेकर कुओं आद‍ि का भी तेजी से न‍िर्माण कराने में जुटी है. सरकार की इच्‍छा है क‍ि द‍िल्‍लीवालों को 24×7 द‍िन टूंटी से पानी उपलब्‍ध हो. साथ ही सरकार साफ और स्‍वच्‍छ पानी ही नहीं बल्‍क‍ि आरओ को फ‍िल्‍टर पानी पाइपलाइन के जर‍िए सप्‍लाई करने की योजना पर काम कर रही है.

    द‍िल्‍ली जल बोर्ड की ओर से ओखला स्‍वच्‍छ पानी की सप्‍लाई के ल‍िए भी बड़ी योजना पर काम क‍िया जा रहा है. द‍िल्‍ली जल बोर्ड (Delhi Jal Board) की ओर से ओखला (Okhla) में आरओ प्‍लांट (RO Plant) बनाए जाने की योजना है. ओखला में बनाए जाने वाले इस आरओ प्‍लांट की क्षमता फ‍िलहाल 20 एमजीडी (मिलियन गैलन प्रति दिन) की होगी ज‍िसको आने वाले समय में 100 एमजीडी तक करने की योजना है. इस पर‍ियोजना को जल मंत्री और जल बोर्ड के चेयरमैन सत्‍येंद्र जैन (Satyendar Jain) की ओर से भी मंजूरी दे दी गई है.

    ये भी पढ़ें: Delhi Jal Board खुद देगा पानी का कनेक्‍शन और मीटर, तय क‍िए गए ये नए रेट 

    जानकारी के मुताब‍िक इस आरओ प्‍लांट (RO Plant) से हर रोज 20 एमजीडी पीने योग्य पानी का वितरण किया जा सकेगा. यह पानी द‍िल्‍लीवालों को पाइप लाइन के जर‍ि‍ए घरों तक पहुंचाया जाएगा. इस आरओ प्लांट में पानी की आपूर्ति झीलों और भूजल से की जाएगी. जमीन से पानी सिर्फ उन इलाकों से निकाला जाएगा, जहां पानी का स्तर काफी ऊपर है. इस परियोजना को मई, 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.

    आरओ वाटर की सप्‍लाई से 8-10 व‍िधानसभाओं को म‍िलेगी राहत
    बताया जाता है क‍ि इस परियोजना के पूरा होने के बाद दिल्ली की 8-10 व‍िधानसभाओं को तत्काल राहत मिल सकेगी. इस परियोजना में निजी निवेशक निवेश करेंगे तथा आरओ प्लांट को 15 साल तक चलाएंगे. डीजेबी इन निवेशकों से स्वच्छ पेयजल खरीदेगा. इसके अलावा, डीजेबी अगले 8 महीनों में आरओ प्लांट की कुल 100 एमजीडी क्षमता बनाने की परियोजनाओं पर भी काम कर रहा है.

    दिल्ली के भूजल में 22 लाख मिलियन गैलन लीटर से अधिक खारा पानी
    केंद्रीय भूजल बोर्ड की रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली के भूजल में 22 लाख मिलियन गैलन लीटर से अधिक खारा पानी है. इस पानी को पीने योग्य बनाने के लिए इसे आरओ से ट्रीट करने की जरूरत है, जिसके बाद इसे घरों तक पहुंचाया जा सकेगा. इस परियोजनाओं को लागू करने के लिए स्थानों को रणनीतिक रूप से चुना गया है, ताकि मौजूदा प्रणाली का उपयोग किया जा सके और नई पाइपलाइन बिछाने की भारी लागत को बचाया जा सके.

    इन जगहों पर है आरओ प्‍लांट लगाने की योजना
    ओखला के अलावा जल बोर्ड ने द्वारका, नीलोठी- नांगलोई, चिल्ला और नजफगढ़ से 363 एमएलडी जल उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है. इस परियोजना को एक साल के भीतर पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. दिल्ली जल बोर्ड 5130 एमएलडी पानी की मांग के मुकाबले 4230 एमएलडी पानी की आपूर्ति कर रहा है. इस परियोजना से अतिरिक्त 363 एमएलडी पानी बढ़ेगा, जिससे राजधानी का 900 एमएलडी पानी का घाटा घटकर 540 एमएलडी हो जाएगा.

    रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम पर होंगी अब स‍िर्फ दो कैटेगरी
    इसके अलावा सरकार द‍िल्‍ली के ग्राउंड वाटर लेवल (Ground Water Level) को बढ़ाने को लेकर भी लगातार कदम उठा रही है. इसके ल‍िए सरकार रेन वॉटर हार्वेस्‍ट‍िंग स‍िस्‍टम (Rain Water Harvesting System) को बढ़ावा देने की पुरजोश कोश‍िश में जुटी है. सरकार की ओर से इस सिस्टम के तहत दी जाने वाली वित्तीय सहायता के स्लैब में भी बदलाव करने की तैयारी की है. साथ ही सभी श्रेण‍ियों को हटाकर स‍िर्फ इसमें दो कैटेगरी को ही रखने का फैसला क‍िया है. इससे लोगों को ज्‍यादा फायदा म‍िल सकेगा.

    रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के व‍ित्‍तीय मदद के स्‍लैब में होगा बदलाव
    द‍िल्‍ली के जल मंत्री सत्‍येंद्र जैन की ओर से द‍िल्‍ली जल बोर्ड को रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम में दी जाने वाली वित्तीय सहायता के स्लैब में बदलाव करने के निर्देश दिए हैं. इसके तहत अब सभी श्रेणियों को हटाकर केवल दो श्रेणियों को ही रखा गया है. बताया जाता है क‍ि अब 500 वर्ग मीटर से कम क्षेत्रफल वाले घरों के लिए 25,000 रुपए की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी. वहीं 500 वर्ग मीटर या इससे अधिक क्षेत्रफल वाले मकानों के लिए 50,000 रुपए की वित्तीय सहायता दी जाएगी.

    ये भी पढ़ें: केजरीवाल सरकार का बड़ा ऐलान- अब दिल्ली के हर घर में पहुंचेगा RO का पानी, इन जगहों पर लगेंगे प्लांट 

    इन राज्‍यों के साथ बनी रहती है पानी पर टकराव की स्‍थ‍ित‍ि
    बताते चलें क‍ि गर्म‍ियों के दौरान द‍िल्‍ली में पानी की भीषण समस्‍या से हर साल जूझना पड़ता है. वहीं हर‍ियाणा की ओर से द‍िल्‍ली को पर्याप्‍त पानी सप्‍लाई नहीं क‍िए जाने को लेकर लगातार टकराव बना रहता है. वहीं, हर‍ियाणा के अलावा पंजाब और यूपी से भी द‍िल्‍ली को कच्‍चे पानी की सप्लाई की जाती है. लेक‍िन पानी को लेकर इन राज्‍यों के साथ हमेशा द‍िल्‍ली के साथ टकराव बना रहता है.

    द‍िल्‍ली को ड‍िमांड के मुताब‍िक नहीं म‍िलता राज्‍यों से पानी
    इस सभी के चलते द‍िल्‍ली सरकार काफी समय से इस प्रयास में जुटी है क‍ि वह यहां पर ज्‍यादा से ज्‍यादा पानी का उत्‍पाद अपने ह‍िस्‍से में कर सके. द‍िल्‍ली को दैन‍िक तौर पर करीब 1100 एमजीडी पानी की आवश्‍यकता होती है लेक‍िन उसके पास यह 950 एमजीडी तक ही होता है. इसकी वजह से द‍िल्‍ली के कई इलाकों में पानी की समस्‍या लगातार बनी रहती है. इस कमी को आने वाले समय में पूरा करने का प्रयास सरकार कर रही है.

    Tags: Clean water, Delhi Government, Delhi news, Drinking Water, Satyendra jain, Water, Water Crisis

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें