Home /News /delhi-ncr /

Yamuna River: यमुना में जलस्‍तर बढ़ा तो बजेगा अलार्म, नहीं पैदा होंगे बाढ़ जैसे हालात, बैराज पर लगेंगे ये ऑटोमेटिक सिस्टम

Yamuna River: यमुना में जलस्‍तर बढ़ा तो बजेगा अलार्म, नहीं पैदा होंगे बाढ़ जैसे हालात, बैराज पर लगेंगे ये ऑटोमेटिक सिस्टम

वजीराबाद के पुराने बैराज को अत्‍याधुन‍िक तकनीक के साथ अपग्रेड करने की योजना तैयार की है. (File Photo)

वजीराबाद के पुराने बैराज को अत्‍याधुन‍िक तकनीक के साथ अपग्रेड करने की योजना तैयार की है. (File Photo)

Yamuna River Wazirabad Barrage: द‍िल्‍ली सरकार ने करीब 60 साल पहले यमुना में बनाए गए वजीराबाद के पुराने बैराज को अत्‍याधुन‍िक तकनीक के साथ अपग्रेड करने की योजना तैयार की है. इससे ग्राउंड वाटर लेवल को बढ़ाने, पानी की सप्‍लाई में बढ़ोत्‍तरी, और बाढ़ न‍ियंत्र‍ण करने में भी बड़ी मदद म‍िल सकेगी. सरकार का मानना है क‍ि वजीराबाद बैराज 1959 में उत्तरी दिल्ली में यमुना नदी पर बनाया गया था. यमुना में कुल 6 बैराज हैं, जिनमें से एक वजीराबाद बैराज है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. द‍िल्‍ली में यमुना नदी (Yamuna River) को साफ और स्‍वच्‍छ बनाने के ल‍िए द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) ने योजना तैयार की है. सरकार की ओर से 2025 में होने वाले व‍िधानसभा चुनावों से पहले केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) ने यमुना को स्‍वच्‍छ बनाने का लक्ष्‍य न‍िर्धार‍ित क‍िया है.

    इस द‍िशा में एक कदम और आगे बढ़ाते हुए सरकार ने करीब 60 साल पहले यमुना में बनाए गए वजीराबाद के पुराने बैराज (Wazirabad Old Barrage) को अत्‍याधुन‍िक तकनीक के साथ अपग्रेड करने की योजना तैयार की है. इससे ग्राउंड वाटर लेवल को बढ़ाने, पानी की सप्‍लाई में बढ़ोत्‍तरी, और बाढ़ न‍ियंत्र‍ण (Flood Control) करने में भी बड़ी मदद म‍िल सकेगी.

    इस संबंध में दिल्ली के जल मंत्री एवं दिल्ली जल बोर्ड (Delhi Jal Board) के अध्यक्ष सत्येंद्र जैन ने डीजेबी और सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अहम बैठक भी की है. सरकार का मानना है क‍ि वजीराबाद बैराज (Wazirabad Barrage) 1959 में उत्तरी दिल्ली में यमुना नदी (Yamuna River) पर बनाया गया था. बैराज एक विशेष प्रकार का बांध होता है, जिसमें बड़े-बड़े द्वारों की श्रंखला होती है. बैराज द्वारा नदियों के प्रवाह तथा उनके जलस्तर को नियंत्रित किया जाता है. यमुना में कुल 6 बैराज हैं, जिनमें से एक वजीराबाद बैराज है.

    ये भी पढ़ें: Delhi Yamuna River: यमुना सफाई का 2025 तक पूरा होगा काम, CM केजरीवाल ने बनाया यमुना क्लीनिंग सेल

    किसी भी तरह के बाढ़ के खतरे से पहले अलार्म द्वारा अलर्ट जारी होगा.
    दिल्ली सरकार वजीराबाद बैराज को अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करके बनाने जा रही है. बैराज में ऑटोमेटिक अलार्म सिस्टम होगा, जिससे कि किसी भी तरह के बाढ़ के खतरे से पहले अलार्म के द्वारा अलर्ट जारी किया जा सकेगा. यह आस-पास के क्षेत्रों में बाढ़ को रोकने के लिए एक क्रांतिकारी कदम साबित होगा. जिससे बाढ़ के समय जान-माल की क्षति की संभावना न के बराबर रह जाएगी. इस नए बैराज के द्वारा गैर-मानसून सीजन में अधिक से अधिक पानी का भंडारण किया जा सकेगा. जिससे शहर के भूजल स्तर को और बढ़ाने में मदद मिलेगी.

    मानसून में लाखों क्‍यूसेक पानी बहने से रोका जा सकेगा
    मंत्री सत्येंद्र जैन का कहना है कि इन बैराजों को नए तरीके से अपग्रेड करने की जरूरत है, ताकि ये आज की जरूरतों के अनुसार काम कर सकें. हर साल मानसून के दौरान, यमुना नदी से लाखों क्यूसेक पानी बह कर चला जाता है. इसे नियंत्रित करने के लिए बैराज सिस्टम को नए सिरे से लेटेस्ट टेक्नोलॉजी के साथ बनाना जरूरी है.

    वाटर ट्रीटमेंट प्लांट मं पानी भेजना होगा और आसान
    उन्होंने आगे कहा कि नया बैराज भूजल स्तर को बेहतर बनाने और नदी के जल स्तर को स्थिर करने में मदद करेगा, ताकि दिल्ली जल बोर्ड के जल उपचार संयंत्रों में आसानी से पानी भेजा जा सके. बरसात के मौसम में लाखों गैलन पानी यमुना से कुछ दिनों के भीतर ही बहकर निकाल जाता है. नए बैराज के बनने से बैराज की पानी रोकने की ताकत बढ़ जाएगी.

    ये भी पढ़ें: Yamuna River Action Plan: 2025 तक यमुना होगी साफ, छह प्‍वाइंट पर तैयार क‍िया ये एक्‍शन प्‍लान- अरव‍िंद केजरीवाल

    ग्राउंड वॉटर रीचार्ज सिस्टम बनकर तैयार होगा
    नए बैराज गैर-बरसाती सीजन में अधिक पानी रोकने में सक्षम होंगे. इससे पानी का रिसाव भूजल की तरफ बढ़ेगा, जिससे कि भूमिगत जल स्तर में बढ़ोतरी होगी. यानि के बहुत कम कीमत में एक सुदृढ़ ‘ग्राउंड वॉटर रीचार्ज सिस्टम’ बनकर तैयार हो जाएगा. इससे गर्मी के मौसम में दिल्ली में आने वाली पानी की समस्या से निजात मिलेगी.

    अमोन‍िया लेवल को कम करने में म‍िलेगी मदद
    इसके अलावा, हर साल हरियाणा द्वारा छोड़े गए पानी में अमोनिया की मात्रा अधिक होने के कारण दिल्ली में पेयजल की सप्लाई बाधित होती है. दिल्ली सरकार द्वारा बनाए जा रहे इस नए बैराज के पानी का उपयोग दूषित पदार्थों को साफ करने में किया जाएगा, ताकि दिल्ली में पीने के पानी की सप्लाई सुचारु रूप से जारी रहे.

    सरकार का लक्ष्य उचित मापदंडो के साथ वजीराबाद तालाब में जमा होने वाली गाद को कम करना है, ताकि पीने के पानी को रोकने की क्षमता को भी साथ-साथ बढ़ाया जा सके.

    Tags: Delhi news, Kejriwal Government, Satyendra jain, Yamuna River

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर