दिल्ली में कौन-सा कोरोना वेरिएंट? सरकार लगा सकेगी इसका पता, इन अस्पतालों में बनेंगी जीनोम सीक्वेंस लैब्स!

वेरिएंट की पहचान करने के लिए दिल्ली सरकार कई अस्पतालों में जीनोम अनुक्रम लैब्स स्थापित कर रही है. (प्रतीकात्‍मक)

वेरिएंट की पहचान करने के लिए दिल्ली सरकार कई अस्पतालों में जीनोम अनुक्रम लैब्स स्थापित कर रही है. (प्रतीकात्‍मक)

दिल्ली सरकार की ओर से दो बड़े अस्पतालों में जीनोम (Genome) अनुक्रम लैब स्थापित किए जाएंगे. इन लैब के जरिए दिल्ली में आने वाली कोरोना की लहर और उसके वेरिएंट के बारे में पता लगाया जा सकेगा कि यह कोरोना का वेरिएंट पुराना है या नया है. यह लैब्स LNJP और ILBS अस्पताल में स्थापित किए जाएंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की दूसरी लहर (Second Wave) के दौरान अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड्स, दवाइयों और तमाम चिकित्सा संसाधनों की किल्लत के चलते बड़ी संख्या में लोगों की जान चली गई है. लेकिन अब राजधानी में हालात सुधरने के साथ कोरोना की तीसरी लहर (Third wave of Corona) आने की संभावना जताई जा रही है.

ऐसे में दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने जहां कोरोना से निपटने के लिए फुलप्रूफ रणनीति तैयार की है. वहीं, कोरोना वेरिएंट (Corona Variant) को लेकर वेरिएंट की पहचान करने की भी योजना बनाई है. दिल्ली सरकार (Delhi Government) इसके लिए कई अस्पतालों में जीनोम अनुक्रम लैब्स (Genome Sequence Labs) स्थापित कर रही है.

दिल्ली सरकार का मानना है कि देश में कोरोना की यह दूसरी लहर थी. लेकिन वह इसको दिल्ली में चौथी लहर के रूप में देखती है. अब जब देश और दुनिया के एक्सपर्ट कोरोना वायरस की तीसरी लहर आने की संभावना जता रहे हैं. ऐसे में दिल्ली सरकार ने इससे निपटने की पहले ही रणनीति तैयार करना शुरू कर दिया है.

दिल्ली सरकार की ओर से दो बड़े अस्पतालों में जीनोम (Genome) अनुक्रम लैब स्थापित किए जाएंगे. इन लैब के जरिए दिल्ली में आने वाली कोरोना की लहर और उसके वेरिएंट के बारे में पता लगाया जा सकेगा कि यह कोरोना का वेरिएंट पुराना है या नया है.
कोरोना के आने वाले मरीजों का इन लैब के जरिए पता लगाया जा सकेगा कि जो मरीज आ रहे हैं, उनका वेरिएंट पुराना है या नया है? इससे सरकार उन मरीजों के इलाज के लिए किस तरीके कि एहतियात बरतती है और इसकी रोकथाम में किस तरीके से आगे काम किया जाए, इसकी स्थिति स्पष्ट हो सकेगी.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) का कहना है कि कोरोना की तीसरी लहर आने से पहले दिल्ली सरकार ने लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल (Lok Nayak Jai Prakash Hospital) और आईएलबीएस अस्पताल (ILBS Hospital) में जीनोम सीक्वेंस लैब स्थापित करने का फैसला किया है. तीन लैब्स के जरिए कोरोना मरीजों में नये-पुराने वेरिएंट का आसानी से पता किया जा सकेगा. इससे कोरोना संक्रमण की रोकथाम में बड़ी मदद मिल सकेगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज