Home /News /delhi-ncr /

Delhi: तालिबानियों ने आंखें नोचीं, अफगानी पूर्व महिला पुलिस अधिकारी ने बयां किया वो खौफ

Delhi: तालिबानियों ने आंखें नोचीं, अफगानी पूर्व महिला पुलिस अधिकारी ने बयां किया वो खौफ

तालिबानियों ने नोच ली आंखें, भारत इलाज कराने आई पूर्व पुलिस अधिकारी खातिरा को अब वहां फंसे परिवार की चिंता.

तालिबानियों ने नोच ली आंखें, भारत इलाज कराने आई पूर्व पुलिस अधिकारी खातिरा को अब वहां फंसे परिवार की चिंता.

अफगानिस्तान में पुलिस अधिकारी रह चुकीं खातिरा बताती हैं कि उस मुल्क़ में महिला पुलिस अधिकारियों को बुरी नज़र से देखा जाता है. उनके चारित्र पर सवाल खड़े किए जाते हैं. अगर कोई बात न मानी जाए तो उसके साथ बुरा सलूक किया जाता है. मेरी आंखें निकाल दी गईं अब मैं देख नहीं सकती.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. खातिरा (Khatira) 10 महीने पहले इलाज के लिए भारत (India) आई थी. फिलहाल वह अपने परिवार और अपने बच्चों को लेकर गहरी चिंता में हैं, लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि खातिरा अफगानिस्तान (Afghanistan) में पुलिस अधिकारी रह चुकी हैं. आखिरकार एक पुलिस अधिकारी को अपना मुल्क़ छोड़ने की नौबत कैसे आ गई. इसकी वजह परेशान करने वाली है.

दरअसल, अफगानिस्तान में तालिबानियों के कब्जे के बाद वहां के हालात खराब हैं. वहां अफरा तफरी का माहौल है. महिलाओं पर जुल्म हो रहे हैं. अफगानिस्तान में पुलिस अधिकारी रह चुकीं खातिरा बताती हैं, उस मुल्क़ में महिला पुलिस अधिकारियों को बुरी नज़र से देखा जाता है. उनके चारित्र पर सवाल खड़े किए जाते हैं. वे कहती हैं कि महिलाओं को वहां जीने का अधिकार नहीं है. हर औरत वहां से निकल जाना चाहती है. उन्होंने बताया कि अगर कोई बात न मानी जाए तो उसके साथ बुरा सलूक किया जाता है. मेरी आंखें निकाल दी गईं अब मैं देख नहीं सकती. मेरे बच्चे और परिवार अफगानिस्तान में फंसा हुआ है.

पूर्व पुलिस अधिकारी के मुताबिक तालिबानी किसी भी परिवार की लड़की को अगवा कर ले जाते हैं. किसी भी घर में घुस कर उनकी बेटी या औरतों को मांगते हैं. मना करने पर गोलियों से सज़ा मिलती है. तालिबानी लड़कियों को अगवा कर ताबूत में बन्द कर पाकिस्तान भेज देते हैं. वहां लड़कियां महज़ एक स्लेव हैं.

वहां की औरतें बलात्कार से आज़ादी चाहती हैं. अगर मैं वहां वापस गई तो मुझे एयरपोर्ट से ही उठा कर ले जाएंगे और मेरा क्या हश्र होगा, मुझे भी नहीं पता. मेरा परिवार वहां है, मुझे तकलीफ है कि वो महफूज नहीं हैं. फिलहाल खातिर अपनी छोटी सी बच्ची और पति के साथ लाजपत नगर पार्ट 2 में रह रही हैं. उनका कहना है कि वह अफगानिस्तान नहीं जाना चाहती. मैं चाहती हूं जो परिवार वहां पर फंसा हुआ है वह यहां आ जाए.

Tags: Afghan women Khatira, Afghan women police officers, Afghanistan, India afghanistan, New Delhi, Taliban, Taliban punishment, अफगानिस्तान, नई दिल्ली

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर