Home /News /delhi-ncr /

उठ रहा सवाल, 26 जनवरी पर बढ़ जाती है लालकिले की सुरक्षा फिर कैसे घुसे किसान

उठ रहा सवाल, 26 जनवरी पर बढ़ जाती है लालकिले की सुरक्षा फिर कैसे घुसे किसान

किसान आंदोलनकारियों के लाल किला में घुसने को लेकर  सवाल उठाए जा रहे हैं .

किसान आंदोलनकारियों के लाल किला में घुसने को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं .

दिल्‍ली के लालि‍किले की देखभाल करने वाले आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के पूर्व अधिकारियों ने लाल किले में किसानों के घुसने पर सवाल उठाए हैं. उनका कहना है कि 15 अगस्‍त की तरह ही 26 जनवरी पर भी लालकिले में सुरक्षा बढ़ जाती है तो यह सब हुआ कैसे.

अधिक पढ़ें ...
नई दिल्‍ली. 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्‍ली में किए गए किसानों के उपद्रव से सभी सकते में हैं. वहीं लालकिले (Red Fort) में अंदर घुसने और प्राचीर पर चढ़कर तिरंगे के अपमान को लेकर लोग लालकिले की सुरक्षा पर भी सवाल उठा रहे हैं. यहां तक कि खुद आर्कियोलॉजिकरल सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) के पूर्व अधिकारी इस पर अचंभित हैं. एएसआई के पूर्व एडिशनल डायरेक्‍टर रामनाथ फोनिया का कहना है कि 26 जनवरी को लालकिला में अन्‍य दिनों के मुकाबले भारी सुरक्षा रहती है. यहां तक कि इस दिन एएसआई के अधिकारी और कर्मचारी भी बिना अनुमति के लालकिला में प्रवेश नहीं कर सकते तो फिर किसानों (Farmers) का जत्‍था उसमें अंदर कैसे घुस गया.

रामनाथ कहते हैं कि 15 अगस्‍त के अलावा 26 जनवरी को भी लालकिला में रक्षा मंत्रालय की सिक्‍योरिटी रहती है. इतना ही नहीं गृहमंत्रालय के अधीन आने वाली दिल्‍ली पुलिस लाल किले के बाहरी गेट पर तैनात रहती है. इस दिन एएसआई का कोई भी अधिकारी जिसके पास उसका पहचान पत्र और प्रवेश संबंधी दस्‍तावेज नहीं है तो वह अंदर नहीं घुस सकता क्‍योंकि इस दिन इंडिया गेट (India Gate) पर पहुंचने वाली झांकियां लौटकर लाल किला ही आती हैं. ऐसे में राजपथ की तरह ही यह पूरा इलाका भी हाई अलर्ट पर रहता है. अब सवाल उठता है कि वहां किसान कैसे घुस गए.

ये भी पढ़ें. Exclusive: ये हैं पुलिस से भिड़ने वाले लालूराम, बोले- कोई लाठी मारेगा तो मैं भी मारूंगा

वहीं डॉ. सइयद जमाल हसन, पूर्व डायरेक्‍टर एएसआई कहते हैं कि वे खुद भी आश्‍चर्यचकित हैं कि किसान घुसे कैसे. लालकिले का बाहरी गेट बहुत मजबूत है. जब किसान लालकिला में घुस रहे थे तो उसे तत्‍काल बंद क्‍यों नहीं किया गया.जबकि ऐसी किसी भी आपात स्थिति में गेट को बंद किया जाना होता है. इसके साथ ही इस दिन लाल किला पर आर्मी का पहरा रहता है. यहां तक कि कड़ी सुरक्षा व्‍यवस्‍था को देखते हुए एएसआई के सिक्‍योरिटी गार्ड को भी नहीं रखा जाता. तो फिर किसान प्राचीर तक कैसे जाने दिए गए. यह लालकिला की सुरक्षा में सेंध के साथ ही सुरक्षा व्‍यवस्‍था पर बड़ा सवाल है.

डॉ. हसन कहते हैं कि लालकिला सिर्फ स्‍मारक नहीं है, बल्कि इसका महत्‍व आजादी की जंग से जुड़ा हुआ है. यही वजह है कि यहां तिरंगा लहराता रहता है और स्‍वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री तिरंगा लहराते हैं.undefined

Tags: Bhartiya Kisan Union, Delhi riots, Kisan Aandolan, Red Fort

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर