अपना शहर चुनें

States

Kisan Andolan: चिल्ला और गाजीपुर बॉर्डर बंद, दिल्ली जाने के लिए इन रास्तों का करें उपयोग

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की तरफ से यह जानकारी दी गई है.
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की तरफ से यह जानकारी दी गई है.

Kisan Andolan Traffic Update: आनंद विहार, डीएनडी, भोपुरा और लोनी बॉर्डर से दिल्ली में प्रवेश कर सकते हैं. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस (Delhi Police) की तरफ से यह जानकारी दी गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 11, 2021, 10:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली/नोएडा. नए कृषि कानून (New Agricultural Law) के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Kisan Andolan) पिछले कई दिनों से जारी है. भीषण ठंड के बावजूद भी किसान दिल्ली के कई बॉर्डरों पर डटे हुए हैं. इससे यातायात प्रभावित हुआ है. इसी बीच खबर है कि किसान विरोध प्रदर्शन के कारण नोएडा और गाजियाबाद से दिल्ली की तरफ आने वाले क्रमश: चिल्ला व गाजीपुर बॉर्डर को बंद कर दिया गया है. ऐसे में आनंद विहार, डीएनडी, भोपुरा और लोनी बॉर्डर से दिल्ली में प्रवेश कर सकते हैं. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की तरफ से यह जानकारी दी गई है.

वहीं, कल खबर सामने आई थी कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शन में भाग ले रहे पंजाब के 40 वर्षीय एक किसान ने शनिवार शाम को जहरीला पदार्थ खाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली. हरियाणा पुलिस ने यह जानकारी दी है. सोनीपत के कुंडली पुलिस थाने में निरीक्षक रवि कुमार ने बताया कि किसान अमरिंदर सिंह पंजाब के फतेहगढ़ साहिब जिले का निवासी था. किसान को सोनीपत के स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई.





एक और किसान ने की आत्महत्या
उल्लेखनीय है कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों, खासकर पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली की सीमाओं पर पिछले एक महीने से भी अधिक समय से प्रदर्शन कर रहे हैं. बीते साल दिसंबर महीने के आखिरी सप्ताह में सिंघू सीमा पर ही सिख उपदेशक संत राम सिंह ने कथित तौर पर खुदकुशी कर ली थी. केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान 40 दिनों से सिंघू बॉर्डर समेत दिल्ली की अनेक सीमाओं पर डेरा डाले हैं.

अब तक आठ राउंड की बैठक बेनतीजा रही है
गौरतलब है कि केंद्र सरकार के साथ किसानों की अब तक 8 राउंड की बातचीत के बावजूद अब तक कोई सहमति नहीं बन पाई है. पीएम मोदी औऱ गृह मंत्री अमित शाह ने किसानों के साथ किसी भी तरह के गतिरोध को दूर करने की बात भी कही है. किसानों के प्रतिनिधियों से उनकी मांगों पर चर्चा के लिए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेल मंत्री पीयूष गोयल लगातार किसानों से मिल रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज