Home /News /delhi-ncr /

Kisan Andolan: राकेश टिकैत बोले- कल सुबह खाली हो जाएगा गाजीपुर बॉर्डर का बड़ा हिस्‍सा, मैं 15 को जाऊंगा

Kisan Andolan: राकेश टिकैत बोले- कल सुबह खाली हो जाएगा गाजीपुर बॉर्डर का बड़ा हिस्‍सा, मैं 15 को जाऊंगा


राकेश टिकैत ने दिल्‍ली-यूपी गाजीपुर बॉर्डर से 15 दिसंबर को जाने का ऐलान किया है.

राकेश टिकैत ने दिल्‍ली-यूपी गाजीपुर बॉर्डर से 15 दिसंबर को जाने का ऐलान किया है.

Kisan Andolan: केंद्र सरकार द्वारा तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) की वापसी के साथ दिल्‍ली के बॉर्डरों पर पिछले एक साल से जमे किसान अपने अपने घरों को लौटने लगे हैं. इस बीच किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि आज से किसान अपने-अपने घर जा रहे हैं और कल सुबह 8 बजे एक बड़ा ग्रुप गाजीपुर बॉर्डर खाली कर देगा. हालांकि मैं 15 दिसंबर को घर जाऊंगा, क्योंकि देश में हजारों धरने चल रहे हैं, हम पहले उन्हें समाप्त करवाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार द्वारा तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) की वापसी के ऐलान के साथ पिछले एक साल चल रहा किसान आंदोलन (Kisan Andolan) खत्‍म हो गया है. इसके साथ दिल्‍ली के टिकरी, सिंघु और यूपी-गाजीपुर बॉर्डर से किसान अपने अपने घरों के लिए लौटने लगे हैं. इस बीच भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि किसानों का एक बड़ा ग्रुप कल सुबह 8 बजे गाजीपुर बॉर्डर खाली कर देगा. आज की बैठक में हम कुछ मुद्दों पर बात करेंगे, प्रार्थना करेंगे और उन लोगों से मिलेंगे जिन्होंने हमारी मदद की. वैसे लोगों ने बॉर्डर खाली करना भी शुरू कर दिया है, इसमें 4-5 दिन लगेंगे. साथ ही उन्‍होंने कहा कि मैं 15 दिसंबर को निकलूंगा.

    इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आज से किसान अपने-अपने घर जा रहे हैं, लेकिन हम 15 दिसंबर को घर जाएंगे क्योंकि देश में हजारों धरने चल रहे हैं, हम पहले उन्हें समाप्त करवाएंगे और उन्हें घर वापस भेजेंगे.

    Kisan Andolan, Rakesh Tikait, Central Government, किसान आंदोलन, राकेश टिकैत, केंद्र सरकार

    कल राकेश टिकैत कैराना बाईपास, पानीपत रोड, कैराना में आयोजित किसान महापंचायत में पहुंचेंगे.

    किसानों की रवानगी शुरू
    ट्रैक्टरों के बड़े-बड़े काफिलों के साथ पिछले साल नवंबर में दिल्ली की सीमाओं पर पहुंचे आंदोलनरत किसानों ने शनिवार की सुबह अपने-अपने गृह राज्यों की तरफ लौटना शुरू कर दिया. साल भर से ज्यादा वक्त तक अपने घरों से दूर डेरा डाले हुए ये किसान अपने साथ जीत की खुशी और सफल प्रदर्शन की यादें लेकर लौट रहे हैं.

    किसानों ने सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर राजमार्गों पर नाकेबंदी हटा दी और तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने और फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी के लिए एक समिति गठित करने सहित उनकी अन्य मांगों को पूरा करने के लिए केंद्र के लिखित आश्वासन का जश्न मनाने के लिए एक ‘विजय मार्च’ निकाला. इसके साथ पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश सहित विभिन्न राज्यों में किसानों के अपने घरों के लिए रवाना होने के साथ ही भावनाएं उत्साह बनकर उमड़ने लगीं. रंग-बिरंगी रोशनी से सजे ट्रैक्टर जीत के गीत गाते हुए विरोध स्थलों से निकलने लगे और रंगीन पगड़ियां बांधे बुजुर्ग युवाओं के साथ नृत्य करते नजर आए.

    गाजीपुर बॉर्डर पर एक किसान जीतेंद्र चौधरी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अपने घर लौटने के लिए अपनी ट्रैक्टर-ट्रॉली तैयार करने में व्यस्त थे. उन्होंने कहा कि वह सैकड़ों अच्छी यादों के साथ और ‘काले’ कृषि कानूनों के खिलाफ मिली जीत के साथ घर जा रहे हैं. बता दें कि किसान 11 दिसंबर को ‘विजय दिवस’ के रूप में मना रहे हैं. तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर हजारों किसान पिछले साल 26 नवंबर से राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे.

    इन कानूनों को निरस्त करने के लिए 29 नवंबर को संसद में एक विधेयक पारित किया गया था. हालांकि किसानों ने अपना विरोध समाप्त करने से इनकार कर दिया और कहा कि सरकार उनकी अन्य मांगों को पूरा करे जिसमें एमएसपी पर कानूनी गारंटी और उनके खिलाफ पुलिस में दर्ज मामले वापस लेना शामिल है. जैसे ही केंद्र ने लंबित मांगों को स्वीकार किया, आंदोलन की अगुवाई कर रही 40 किसान यूनियनों की छत्र संस्था, संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरुवार को किसान आंदोलन को स्थगित करने का फैसला किया और घोषणा की कि किसान 11 दिसंबर को दिल्ली की सीमाओं पर विरोध स्थलों से घर वापस जाएंगे.

    Tags: Delhi UP Ghazipur Border, Farm laws, Farmers Protest, Ghazipur Border, Kisan Andolan, Rakesh Tikait

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर