Home /News /delhi-ncr /

तो क्या खत्म हो जाएगा Kisan Andolan? सिंघु बॉर्डर से 40 निहंगों का जत्था गुरदासपुर के लिए रवाना

तो क्या खत्म हो जाएगा Kisan Andolan? सिंघु बॉर्डर से 40 निहंगों का जत्था गुरदासपुर के लिए रवाना

सिंघु बॉर्डर से निहंगों का जत्था लौटने लगा है. रविवार को एक बड़ा जत्था सिंघु बॉर्डर से गुरदासपुर पंजाब के लिए रवाना हुआ. (File Photo)

सिंघु बॉर्डर से निहंगों का जत्था लौटने लगा है. रविवार को एक बड़ा जत्था सिंघु बॉर्डर से गुरदासपुर पंजाब के लिए रवाना हुआ. (File Photo)

Kisan Andolan: आज पंजाब के लिए बड़ी संख्या में निहंग बाबा लौट रहे हैं. किसान संगठन के सूत्रों के मुताबिक, सिंघु बॉर्डर से कल संयुक्त किसान मोर्चा की महत्वपूर्ण बैठक के बाद ही काफी किसान संगठन वापस लौटने पर विचार कर रहे थे. कुछ नेताओं ने बैठक के दौरान ये बात कही गई कि- जो किसान संगठन या किसान वापस अपने घर लौटना चाहते हैं वो जा सकते हैं, लेकिन कई संगठन एक साथ प्रोटेस्ट छोड़कर अगर जाएंगे तो आंदोलन एकदम खत्म हो जाएगा, इसलिए धीरे-धीरे कुछ दिनों के दौरान ही मौके से जाएं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. केंद्र की मोदी सरकार द्वारा तीनों कृषि कानून वापस (Agriculture law return) लेने के बाद दिल्ली बॉर्डर (सिंघु और कुंडली बॉर्डर) पर किसान आंदोलन (Kisan Andolan) की धार कमजोर पड़ने लगी है. रविवार को इसके संकेत उस वक्त मिले, जब रात को साढ़े 8 बजे सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) से करीब 30 से 40 निहंग बाबाओं का जत्था (Nihang Jathha) पंजाब जाने के लिए रवाना हो गया.

विशेष सूत्रों के मुताबिक, रविवार रात करीब साढ़े 8 बजे एक कंटेनर और एक ट्रक में समान भरकर निहंग बाबाओं का जत्था पंजाब के गुरदासपुर जाने के लिए रवाना हो गया. सूत्रों के मुताबिक करीब 12 निहंग अपने घोड़े से रवाना हुए हैं. इसे निहंगों की पंजाब वापसी भी माना जा रहा है. पंजाब के गुरदासपुर स्थित जत्थेदार बाबा मान सिंह डेरा के निहंगों की पंजाब वापसी शुरू हो गई है. ये जत्था है बटाला, गुरदासपुर स्थित गुरु नानक सेवा दल से जुड़े डेरा के निहंगों का.

कृषि आंदोलन वाले लोकेशन से अब निहंगों की हो रही है वापसी

आज पंजाब के लिए बड़ी संख्या में निहंग बाबा लौट रहे हैं. किसान संगठन के सूत्रों के मुताबिक, सिंघु बॉर्डर से कल संयुक्त किसान मोर्चा की महत्वपूर्ण बैठक के बाद ही काफी किसान संगठन वापस लौटने पर विचार कर रहे थे. कुछ नेताओं ने बैठक के दौरान ये बात कही गई कि- जो किसान संगठन या किसान वापस अपने घर लौटना चाहते हैं वो जा सकते हैं, लेकिन कई संगठन एक साथ प्रोटेस्ट छोड़कर अगर जाएंगे तो आंदोलन एकदम खत्म हो जाएगा, इसलिए धीरे-धीरे कुछ दिनों के दौरान ही मौके से जाएं.

बता दें कि अब किसान संगठन MSP की गारंटी, आंदोलन में शहीद हुए किसानों को मुआवजे की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं. किसान संगठनों का कहना कि जब तक आंदोलन में अपनी जान गंवाने वाले किसानों के परिवार को मुआवजा नहीं मिलता और एमएसपी पर गारंटी नहीं मिलती है, तब तक वह यहां से नहीं हटेंगे.

Tags: Delhi Farmers Violence, Delhi News Alert, Delhi Singhu Border, Farmers Protest, Haryana Farmers, Kisan Andolan, Nihang

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर