• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • LADY COP OF DELHI POLICE SETS EXAMPLE BY CARING BABY OF CORONA INFECTED COUPLE

ममता की मिसाल: कोरोना संक्रमित कपल के शिशु के लिए 'टेंपरेरी मां' बनी महिला कॉप

महिला हेड कॉंंस्टेबल ने संक्रमित परिवार के शिशु की देखभाल की. (Photo: ANI)

Positive Story : वर्दी के पीछे हमेशा सख्ती नहीं होती, एक भावुक दिल भी होता है. संवेदनशीलता का उदाहरण पेश करते हुए दिल्ली पुलिस की हेड कॉंस्टेबल ने वक्त की नज़ाकत को भी समझा और पीड़ित परिवार की दुविधा को भी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना काल में जहां सनसनीखेज़ और दुखद खबरों की बाढ़ लगी हुई है, वहीं कुछ ऐसी खबरें भी हैं, जो राहत देती हैं. बीते रविवार को जब मदर्स डे के मौके पर लोग शुभकामनाएं शेयर कर रहे थे और मां की ममता का गुणगान, तब ममता की एक मिसाल दिल्ली में दिखाई दी. दिल्ली पुलिस की एक कॉंस्टेबल ने उस अजनबी नवजात की देखभाल की, जिसके माता पिता दोनों को कोरोना संक्रमण हो गया था.

    कोविड की दूसरी लहर में संकट इतना गहरा गया है कि कई अभिभावकों को यह चिंता सता रही है कि अगर वो दोनों ही संक्रमित हो गए तो उनके छोटे बच्चों का ध्यान कौन रखेगा. बड़ी वजह यह है कि महानगर में कई लोग अपने रिश्तेदारों से दूर न्यूक्लियर फैमिली की तरह रहते हैं. ऐसे में यह चिंता वाजिब है क्योंकि कई राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति भी है. ऐसी ही एक कहानी दिल्ली से सामने आई.

    ये भी पढ़ें : वैक्सीन शॉर्टेज के दौर में डोज़ कैसे बर्बाद कर रहे हैं ये राज्य?

    जब शिशु की रिपोर्ट आई निगेटिव!
    जीटीबी नगर की रेडियो कॉलोनी में एक दंपति का कोरोना टेस्ट हुआ तो रिपोर्ट पॉज़िटिव हुआ लेकिन उनके छह महीने के शिशु की रिपोर्ट निगेटिव आई. ऐसे में एक तरफ उन्हें तसल्ली तो रही लेकिन दूसरी तरफ चिंता भी कि उसकी देखभाल करने से शिशु को भी संक्रमण न हो जाए. पहला तरीका था कि रिश्तेदारों से यह परेशानी साझा की जाए.

    mothers day story, corona infected family, corona infection in children, delhi news, मदर्स डे विशेष, कोरोना संक्रमित परिवार, बच्चों को कोरोना संक्रमण, दिल्ली न्यूज़
    जब कपल की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई और शिशु की निगेटिव, दुविधा तब शुरू हुई थी. (Photo : ANI)


    चूंकि संक्रमित कपल के रिश्तेदार उत्तर प्रदेश के हिस्सों में रहने वाले हैं और कोविड के चलते वहां लॉकडाउन के हालात हैं इसलिए वो भी जल्दी दिल्ली पहुंचने में समर्थ नहीं थे. समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक इन हालात में इस कपल के मेरठ निवासी एक रिश्तेदार ने शाहदरा में पोस्टेड हेड कॉंस्टेबल राखी से पूरा मामला साझा किया.



    ये भी पढ़ें : सेंट्रल विस्टा के खिलाफ याचिका पर केंद्र ने दिया जवाब, कल सुनवाई करेगा हाई कोर्ट

    राखी ने तेज़ी भी दिखाई और ममता भी
    इस कपल की दुविधा को समझते हुए राखी ने फौरन इस बारे में अपने सीनियर अफसरों से बातचीत की और उनसे इजाज़त लेकर रेडियो कॉलोनी के उस मकान की तरफ रुख किया, जिसका पता उन्हें बताया गया था. संक्रमित परिवार तक पहुंचने से पहले राखी ने कपल से फोन पर बातचीत करके अपने आने के बारे में बातचीत भी की.

    ये भी पढ़ें : शाही इमामों का बड़ा बयान, कहा- एहतियात बरतें और घर पर रहकर ही मनाएं ईद

    राखी ने इस कपल के पास पहुंचकर शिशु को अपनी कस्टडी में ले लिया. उसके खाने पीने और पहनने का ज़रूरी सामान भी लिया और काफी देर तक शिशु की पूरी देखभाल की. ममता और सेवा की मिसाल पेश करते हुए राखी ने शिशु को सुरक्षित रखते हुए उत्तर प्रदेश की सीमा में मोदीनगर पहुंचाया, जहां उसकी नानी का घर था. राखी के इस जज़्बे की कहानी जिसने भी सुनी, उसने दिल से उन्हें दुआएं दीं.