Assembly Banner 2021

12वीं कक्षा के इतिहास की किताब में मुगलों का महिमामंडन करने पर NCERT को लीगल नोटिस जारी

एनसीआरटीई की 12वीं की इतिहास के किताब में औरंगजेब का महिमा मंडन करने पर बवाल हो रहा है.

एनसीआरटीई की 12वीं की इतिहास के किताब में औरंगजेब का महिमा मंडन करने पर बवाल हो रहा है.

NCERT की 12वीं कक्षा की इतिहास की किताबों (Book) में मुगलों की तारीफ को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं. एक समाजसेवी ने लीगल नोटिस(Legal notice) भेजकर इन कथित तथ्यहीन बातों को हटाने की मांग की है.

  • Share this:
जयपुर. एनसीईआरटी (NCERT) की 12वीं कक्षा की इतिहास की किताब में मुगल शासकों का महिमामंडन करने पर बवाल शुरू हो गया है. राजस्थान के एक समाजसेवी दपिंदर सिंह ने एनसीईआरटी (NCERT) को लीगल नोटिस भेजा है. इस नोटिस में मुगलों की तारीफ में लिखी गईं भ्रामक बातों को हटाने की मांग की गई है. दपिंदर ने इस संबंध में NCERT को एक RTI भी भेजी थी जिस पर संस्था की तरफ से संतुष्ट करने वाला जवाब नहीं दिया गया.

दपिंदर के मुताबिक NCERT की 12वीं की इतिहास की पुस्तक 'थीम्स इन इंडियन हिस्ट्री पार्टी- 2' के पेज नंबर 234 में पर लिखा है मुगल बादशाहों ने युद्ध के दौरान हिंदू मंदिरों को ढहा दिया था. इसमें आगे लिखा है कि युद्ध खत्म होने के बाद मुगल बादशाहों, शाहजहां और औरंगजेब ने मंदिरों को फिर से बनाने के लिए ग्रांट जारी की थी. दपिंदर ने इन तथ्यों को वेरीफाई करने के लिए एक RTI डालकर NCERT से जवाब मांगा था. हालांकि इस RTI के जवाब में हेड ऑफ डिपार्टमेंट प्रो. गौरी श्रीवास्तव और पब्लिक इन्फोर्मेंशन डिपार्टमेंट ने फाइलों में इससे संबंधित कोई भी सूचना न होने का जवाब भेज दिया है.

दिल्ली हिंसा में शामिल हिंदू आरोपियों को लेकर बड़ा खुलासा, तिहाड़ जेल में मारने की थी साजिश




एनसीईआरटी को भेजा लीगल नोटिस


इसके बाद समाजसेवी दपिंदर सिंह और उनके साथी संजीव विकल ने दिल्ली हाईकोर्ट के वकील कनक चौधरी के जरिए NCERT को लीगल नोटिस भेजकर किताब से ये भ्रामक तथ्य हटाने की मांग की है. दपिंदर सिंह का कहना है कि ऐसा लग रहा है कि बिना किसी आधार पर मुगल शासकों शाहजहां और औरंगजेब के महिमा मंडन के लिए पैरा जोड़ा गया है. इतिहास में वही बाते लिखी जाती है, जिसके तथ्य आपके पास रिकॉर्ड में हो, जबकि यह अविश्वसनीय रूप से घातक साक्ष्य प्रतीत हो रहे हैं.

संजीव विकल ने कहा कि कल्पना के आधार पर छात्रों को इतिहास पढ़ाया जा रहा है, एनसीईआरटी की पुस्तकों को विद्यालयी शिक्षा के लिए बेंचमार्क माना जाता है, सिविल सेवा जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में भी इन पुस्तकों से तैयारी करने की सलाह एक्पर्ट्स द्वारा दी जाती रही है. हमारी भविष्य की पीढ़ी को गलत दिशा में धकेलने की कोशिश की जा रही है जिसके घातक परिणाम हो सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज