BJP से मदद लेने के सवाल पर बोले चिराग पासवान, 'जब हनुमान को भी मदद मांगनी पड़े तो....

चिराग पासवान ने कहा कि बीजेपी से मिलकर चुनाव लड़ता तो मुझे सिद्दांतों से समझौता करना पड़ता..

Bihar Politics: बिहार चुनाव के दौरान खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का हनुमान बताने वाले चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने अब एक बड़ा बयान दिया है. 

  • Share this:
    दिल्ली/पटना. रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) की पार्टी की पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में चल रही चाचा और भतीजे की सियासी लड़ाई तेज हो गई है. पार्टी अध्यक्ष पद पर मची खींचतान के बीच बुधवार को चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने दिल्ली (Delhi) में एक प्रेसवार्ता को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कई मुद्दे पर अपनी बात रखी. बीजेपी से मदद लेने के सवाल पर चिराग पासवान ने कहा कि जब हनुमान को भी राम से मदद मांगनी पड़े तो फिर काहे का हनुमान और काहे का राम. मालूम हो कि बिहार चुनाव के दौरान चिराग पासवान ने खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान बताया था. अब नए सियासी समिकरण बदलते ही चिराग ने सीधे पीएम मोदी पर ही निशाना साधा है.

    चिराग पासवान ने कहा, "कुछ समय से मेरी तबियत ठीक नहीं चल रही थी. जो घटनाचक्र घटा वो मेरे लिये भी कठिन हो रहा था. सबने देखा 8 अक्टूबर को मेरे पिता का निधन हुआ. उसके बात तुरंत चुनाव में उतरने का निर्णय हुआ. मेरे लिए कठिन समय था. वो एक महीना 35 दिन का समय. वैसे सोचने का समय ही नहीं मिल पाया मुझे. चुनाव में एलजीपी को बड़ी जीत मिली. 25 लाख वोट एलजेपी को मिला और जनता का बड़ा समर्थन मिला. हमने सिद्धांतों से समझौता नहीं किया."

    चिराग पासवान का बड़ा बयान

    चिराग पासवान ने कहा, "कुछ मुद्दों को लेकर हम एनडीए गठबंधन के साथ बिहार में आगे नहीं बढ़ सके. जब पापा थे तो कुछ लोगों के द्वारा एलजेपी को तोड़ने का प्रयास हुआ. पापा जब अस्पताल में थे, मुझसे और चाचा से कहा कि मीडिया में क्यों खबर आती हैं कि पार्टी टूट रही है. अगर मैं जेडीयू, बीजेपी से मिलकर चुनाव लड़ता तो मुझे सिद्दांतों से समझौता करना पड़ता और नीतीश कुमार के समाने नतमस्तक होना पड़ता. न मैं झुका और ना समझौता किया."

    चिराग ने आगे कहा, "कुछ लोग संघर्ष के रास्ते पर चलने पर तैयार नहीं थे. मेरे चाचा ने चुनाव-प्रचार में कोई भूमिका नहीं निभाई. जब चुनाव समाप्त हुए उसके बाद कोरोना प्रोटोकॉल लगा. फिर मुझे टाइफाइड हो गया. जब मैं बीमार था तब मेरे पीठ पीछे षडयंत्र रचा गया. इसका मुझे दुख है. मैंने चाचा से संपर्क भी करने की कोशिश की. मैं चाचा के घर भी गया. वहां भी उनसे बात करने की कोशिश की. मम्मी भी चाचा से संपर्क साधने का 15 दिन से प्रयास कर रही हैं."

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.