दिल्ली: LNJP कर्मियों का आरोप, बिना बाथरूम के होस्टल में हैं 17 गर्ल्स, नहीं मिलता खाना
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्ली: LNJP कर्मियों का आरोप, बिना बाथरूम के होस्टल में हैं 17 गर्ल्स, नहीं मिलता खाना
नर्सिंग अधिकारी ने आरोप लगाया कि स्नान के लिए हम जेट पाइपों का इस्तेमाल कर रहे हैं, क्योंकि वहां बाथरूम नहीं है.

दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल (LNJP Hospital) की नर्सिंग अधिकारी ने कहा कि, ‘हमारे सहकर्मी ड्यूटी के दौरान बेहोश हो चुके हैं क्योंकि हमें उचित भोजन नहीं मिलता है.’

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2020, 10:17 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) के एलएनजेपी अस्पताल (LNJP Hospital) की नर्सिंग अधिकारी ने रविवार को प्रबंधन पर कई आरोप लगाए. उन्होंने आरोप लगाया कि, ‘हम अभी गुजरात सदन में ठहरे हुए हैं,  लेकिन अब हालत खराब हो गई है. एक छात्रावास में 17 लड़कियां रहती हैं. केवल दो शौचालय हैं. स्नान के लिए हम जेट पाइपों का इस्तेमाल कर रहे हैं, क्योंकि वहां बाथरूम नहीं है.
अस्पताल तक आने के लिए केवल एक बस की व्यवस्था हैउन्होंने आरोप लगाया कि, ‘कोविड-19 (COVID-19) में हम अपनी ड्यूटी पूरा करने के लिए घर नहीं जा रहे हैं, लेकिन यहां हमें भोजन भी नहीं मिल रहा है. हमारे सहकर्मी ड्यूटी के दौरान बेहोश हो चुके हैं क्योंकि हमें उचित भोजन नहीं मिलता है.’ आवास केंद्र से अस्पताल तक आने के लिए सभी नर्सों के लिए केवल एक बस की व्यवस्था है.3-4 दिनों के बाद मिला आवासनर्सिंग अधिकारी ने आरोप लगाया कि, COVID19 नर्सिंग स्टाफ के रूप में तैनात होने के बाद भी, हमें 3-4 दिनों के बाद आवास प्रदान किया गया. आवास केंद्र (गुजरात सदन) में स्वच्छता बनाए रखने की कोई व्यवस्था नहीं है. प्रतिदिन कचरा नहीं हटाया जाता है. कोई अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली नहीं है. , एलएनजेपी अस्पतालचिकित्सा अधीक्षक ने किया खंडनलोक नायक अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जेसी पासे (Dr. JC Passey) ने कहा कि, 'मैं अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ द्वारा लगाए गए आरोपों से पूरी तरह असहमत हूं. यह पूरी तरह से गलत है. उनके आवास की सुविधा अच्छे स्तर की है. कुछ नर्सों के लिए, हमने करोल बाग में होटल भी बनाए हैं.'


देश में 24 घंटे में कोरोना वायरस के 1334 नए केस, 27 लोगों की मौत
देश में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए 3 मई तक लॉकडाउन घोषित किया गया है. इस दौरान लोगों से घरों में रहने की अपील की गई है. स्‍वास्‍थ्य मंत्रालय और अन्‍य सरकारी विभाग देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर नजर बनाए हुए हैं. रविवार को स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय, गृह मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान संगठन ने संयुक्‍त प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की. इस दौरान गृह मंत्रालय ने कहा कि देश में लॉकडाउन का सख्‍ती से पालन किया जाए. हालात की समीक्षा के बाद ही छूट संबंधी कदम उठाए जाएंगे. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने जानकारी दी कि 23 राज्‍यों के 54 जिलों में पिछले 14 दिनों में कोरोना वायरस संक्रमण का एक भी केस सामने नहीं आया है.



ये भी पढ़ें - 

COVID-19: UP में सामने आए 107 नए मामले, कुल केस 959 हुए; 17 की हो चुकी है मौत

COVID-19: UP लौटे 5 लाख कामगारों को रोजगार देने के लिए CM योगी ने बनाई समिति
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज