Lockdown: दिल्ली-NCR में रहने वाले बिहार, उत्तर प्रदेश के प्रवासियों की कब होगी घर वापसी?
Patna News in Hindi

Lockdown: दिल्ली-NCR में रहने वाले बिहार, उत्तर प्रदेश के प्रवासियों की कब होगी घर वापसी?
दिल्ली-एनसीआर के लाखों प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने में बड़ी चुनौती पेश आ रही है.

दिल्ली से दूसरे राज्यों खास कर यूपी-बिहार और झारखंड के लिए अभी भी श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेनें चलाने को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ है. दिल्ली के सभी 11 जिले रेड जोन घोषित हैं और यहां पर कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या चार हजार की संख्या को पार कर गया है. ऐसे में अभी तक फैसला नहीं हो सका है कि दिल्ली से स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलाई जाएंगी तो कब चलाई जाएंगी और उसके लिए क्या-क्या जरूरी चीजें होंगी

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में लॉकडाउन (Lockdown) 17 मई तक बढ़ने के साथ ही दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को वापस भेजने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है. कई राज्य सरकारों (State Government) ने बाहर फंसे अपने लोगों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं. ये नोडल अधिकारी मजदूरों, छात्रों और पर्यटकों को उनके घर तक पहुंचाने की व्यवस्था देख रहे हैं. ऐसे में दिल्ली सरकार ने भी अपने यहां 10 नोडल अधिकारियों की एक टीम बनाई है, जो देश के अलग-अलग राज्यों के साथ कॉर्डिनेशन का काम करेंगे. लेकिन, इसके बावजूद दिल्ली-एनसीआर के लाखों प्रवासियों को उनके घरों तक पहुंचाने में बड़ी चुनौती पेश आ रही है. खास तौर पर बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश जैसे राज्य सरकारों ने अभी तक दिल्ली-एनसीआर में फंसे लोगों को घर वापसी को लेकर कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है.

दिल्ली से भी श्रमिक ट्रेन खुलने का इंतजार
दिल्ली से दूसरे राज्यों खास कर यूपी-बिहार और झारखंड के लिए अभी भी श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेनें चलाने को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ है. दिल्ली के सभी 11 जिले रेड जोन घोषित हैं और यहां पर कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या चार हजार की संख्या को पार कर गया है. ऐसे में अभी तक फैसला नहीं हो सका है कि दिल्ली से स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलाई जाएंगी तो कब चलाई जाएंगी और उसके लिए क्या-क्या जरूरी चीजें होंगी.

UP, Bihar, Jharkhand, Bihari worker, Delhi, special train, Migrant Labour, bihar news, jdu, lockdown, covid19, लॉकडाउन, कोरोना मरीजों की संख्या, कोविड-19, बिहार, बिहारी मजदूर, कोरोना लॉकडाउन, स्पेशल ट्रेन, , बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, अरविंद केजरीवाल, इंडियन रेलवे, भारतीय रेल, केजरीवाल सरकार, योगी सरकार, नतीश सरकार, हेमंत सोरेन, रांची, नोडल अधिकारी, दिल्ली पुलिस
कोरोनावायरस के चलते लागू किए गए लॉकडाउन ने आर्थिक गतिविधियों को बुरी तरह से प्रभावित किया है. बड़े शहरों में कामकाज के सिलसिले में रहने वाले मजदूर और कामगार वापस अपने घरों को लौटने के लए मजबूर हैं





19 मार्च से एक पिता और बेटी फंसे हैं

बिहार के खगड़िया के राजेश कुमार न्यूज़ 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, '19 मार्च को बेटी को कैट क्लासेज में दाखिला दिलाने के लिए दिल्ली लेकर आया था. 21 मार्च को बेटी को लक्ष्मी नगर के एक गर्ल्स पीजी में रख कर सोचा कि एक-दो दिन में घर निकल जाएंगे. इसी बीच लॉकडाउन का ऐलान हो गया. बेटी को भी पीजी से लाना पड़ा. पिछले डेढ़ महीने से भी ज्यादा समय से बेटी को लेकर एक रिश्तेदार के यहां रह रहा हूं. न ही बिहार सरकार और न ही केंद्र सरकार की तरफ से अभी तक कोशिश हो रही थी. अब जबकि केंद्र सरकार ने बोल दिया है तो भी स्थिति साफ नहीं हो रही है. बिहार सरकार ने जिन लोगों को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है उनका नंबर हमेशा स्विच ऑफ रहता है. समझ में नहीं आ रहा है कि क्या करें और क्या न करें. मन में यह भी डर है कि ठीक होने के बावजूद बिहार लौटने पर 21 दिन तक क्वारंटाइन भी तो किया जाएगा. लिहाजा अब सब भगवान भरोसे ही छोड़ रखे हैं.'

राज्य सरकारों को लगता है कि इन मजदूरों को सुरक्षित घर पहुंचाने के काम में बहुत दिक्कत आने वाली है. दिल्ली-एनसीआर में बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश के मजदूरों की बड़ी संख्या है. गृह मंत्रालय के गाइडलाइन के मुताबिक विशेष श्रमिक ट्रेन चलाने के लिए यह जरूरी है कि जिस राज्य में मजदूर फंसे हुए हैं और जहां के रहने वाले हैं उन दोनों राज्यों की सहमति जरूरी है. इस स्थिति में दिल्ली सरकार के साथ ही उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड जैसे राज्यों की सरकार के सहमति के बाद ही विशेष ट्रेन चलाना संभव है.

nUP, Bihar, Jharkhand, Bihari worker, Delhi, special train, Migrant Labour, bihar news, jdu, lockdown, covid19, लॉकडाउन, कोरोना मरीजों की संख्या, कोविड-19, बिहार, बिहारी मजदूर, कोरोना लॉकडाउन, स्पेशल ट्रेन, , बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, अरविंद केजरीवाल, इंडियन रेलवे, भारतीय रेल, केजरीवाल सरकार, योगी सरकार, नतीश सरकार, हेमंत सोरेन, रांची, नोडल अधिकारी, दिल्ली पुलिस
देश भर में जगह-जगह फंसे मजदूरों और कामगारों की बड़ी संख्या को देखते हुए विशेष श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला लिया गया है


दिल्ली से ट्रेन चलने को लेकर अभी भी संशय
अधिकारियों की मानें तो बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों के श्रमिकों को भेजने से पहले  स्क्रीनिंग कराना एक बड़ी चुनौती है. होम मिनिस्ट्री की गाइडलाइन के मुताबिक, दिल्ली सरकार मजदूरों की स्क्रीनिंग करने के बाद ही उन्हें ट्रेन से भेज सकती है. दूसरी तरफ जिस राज्य में ये मजदूर जा रहे हैं वहां पर उनके लिए क्वारंटाइन की व्यवस्था भी अनिवार्य होगी. ऐसे में अगर ये लोग बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखंड जैसे राज्य में जाते हैं तो वहीं की सरकार को इनको 21 दिन तक क्वारंटाइन करना भी एक बड़ी चुनौती है.

वैसे दिल्ली सरकार मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए अन्य राज्य सरकारों के संपर्क में है. इसके लिए नियुक्त नोडल अधिकारी लगातार बात भी कर रहे हैं. दिल्ली सरकार घर लौटने वाले मजदूरों को मेडिकल और स्क्रीनिंग की सुविधा देने के लिए तैयार है. लेकिन, विशेष ट्रेनों और बसों के लिए इन राज्यों को खुद ही अनुरोध करना पड़ेगा तभी यह मजदूर जा सकेंगे.

दिल्ली पुलिस ने फॉर्म भरवाना शुरू किया
इसके बावजूद दिल्ली सरकार ने दिल्ली पुलिस के मार्फत (जरिए) घर वापस लौटने वाले मजदूरों के नाम, उनके पते लिखना शुरू कर लिया है. दिल्ली के हर थाने में घर वापसी के इच्छुक फॉर्म भर कर जमा कर रहे हैं. दिल्ली पुलिस खुद भी इलाकों में जाकर उनके नाम-पता और फोन नंबर लिख रही है. दिल्ली सरकार अपने स्तर पर पूरी तैयारी कर रही है कि जब भी ट्रेन चलाने का ऐलान होगा वो कागजी कार्रवाई और डाटा केंद्र सरकार के साथ शेयर कर देगी. फिलहाल दिल्ली में पांच से सात लाख मजदूरों की संख्या होने की बात सामने आ रही है. अगर छात्रों, पर्यटकों को जोड़ दें तो यह आंकड़ा और भी बढ़ जाएगा.

दिल्ली सरकार, केजरीवाल सरकार, लॉकडाउन, रेड जोन, केंद्र सरकार, दिल्ली न्यूज, Delhi Government, Kejriwal Government, Lockdown, Red Zone, Central Government, Delhi News
दिल्ली के हर पुलिस थाने में घर वापसी के इच्छुक फॉर्म भर कर जमा कर रहे हैं (प्रतीकात्मक फोटो)


बिहार सरकार की क्या है तैयारी
वहीं बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग ने भी इन लोगों की वापसी को लेकर तैयारी शुरू कर दी है. आपदा प्रबंधन विभाग का कहना है कि दूसरे राज्यों में जो लोग फंसे हैं और बिहार लौटना चाहते हैं उनका पंजीकरण (रजिस्ट्रेशन) कराया जाएगा. इसके लिए राज्य सरकार एक एप पर काम कर रहा है. बहुत जल्द ही इस एप के जरिए लोग अपना रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे. आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और गुजरात सरकार से बिहार सरकार की बात भी हुई है. इन राज्यों में ट्रेनें चलनी भी शुरू हो गईं हैं, लेकिन दिल्ली के लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें: 

लॉकडाउन के बीच केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान- इन 5 राज्यों के लोग भी अब इस योजना का लाभ उठा सकेंगे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज