Home /News /delhi-ncr /

लॉकडाउन के बीच 50 साइकिल सवार जा रहे थे UP-बिहार, रास्ते में इनसे हुआ सामना

लॉकडाउन के बीच 50 साइकिल सवार जा रहे थे UP-बिहार, रास्ते में इनसे हुआ सामना

दिल्ली-एनसीआर के लाखों प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने में बड़ी चुनौती पेश आ रही है.

दिल्ली-एनसीआर के लाखों प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने में बड़ी चुनौती पेश आ रही है.

लॉकडाउन-2 (Lockdown) की मियाद अब खत्म होने वाली है. इसके बावजूद दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर साइकिल से ही घर जाने से बाज नहीं आ रहे हैं.

    नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में रहने वाले मजदूरों ने 21 दिन का पहला लॉकडाउन (Lockdown) पीरियड तो किसी तरह काट लिया, लेकिन दूसरे लॉकडाउन में इनका धैर्य जवाब देने लगा है. लॉकडाउन-2 की मियाद अब खत्म होने वाली है. इसके बावजूद दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर साइकिल से ही घर जा रहे हैं. मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने हरियाणा और दिल्ली से बिहार, यूपी, मध्य प्रदेश जा रहे लगभग 50 मजदूरों को पकड़ा. दिल्ली पुलिस ने इन मजदूरों को पांच अलग-अलग इलाकों में रोक कर उन्हें लॉकडाउन की जानकारी देकर खाना मुहैया कराया. बाद में समझा-बुझाकर इन सभी को शेल्टर होम में पहुंचाया गया.

    साइकिल से ही चल पड़े बिहार
    दरअसल मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने फतेहपुर बेरी इलाके में हरियाणा के बहादुरगढ़ से आए 15 साइकिल सवार मजदूरों को राधास्वामी सत्संग शेल्टर होम में छोड़ा. ये सभी मजदूर बिहार के मधुबनी जा रहे थे. दक्षिण दिल्ली के साकेत इलाके में मंगलवार सुबह चार मजदूरों को रोका गया. ये सभी हरियाणा के पटौदी से पैदल चलकर यूपी के अमरोहा जा रहे थे. इन सभी मजदूरों को महरौली शेल्टर होम छोड़ा गया. वहीं मालवीय नगर थाने की पुलिस ने साकेत इलाके में बिहार के नौ मजदूरों की टोली को रोका, जो पैदल ही अपने राज्य जा रहे थे.

    coronavirus, lockdown, uttar pradesh, lucknow, migrant labours, bihar, madhya pradesh, motihari, delhi, painter, delhi police, lockdown-2, bihar news, दिहाड़ी मजदूर, साइकिल से घर से जा रहे हैं, बिहार, मध्य प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर
    हरियाणा के बहादुरगढ़ से आए 15 साइकिल सवार मजदूरों को दिल्ली पुलिस ने राधास्वामी सत्संग शेल्टर होम पहुंचाया है


    3 मई तक है देश में लॉकडाउन
    बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए केंद्र सरकार ने देश भर में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू किया था. लेकन कोरोना मरीजों की संख्या में कमी नहीं होता देख केंद्र सरकार ने लॉकडाउन की अवधि बढ़ा कर तीन मई तक कर दिया. इस दौरान देश में परिवहन के सभी रास्ते- रेल, बस और विमान सेवाएं बंद हैं.

    सरकार ने सोचा था कि परिवहन के साधनों के अभाव में लोग एक-जगह से दूसरे जगह नहीं जाएंगे और इससे संक्रमण का खतरा कम होगा, लेकिन इस दौरान मजदूरों के पलायन का एक अलग रूप ही देखने को मिल रहा है. इन मजदूरों की समस्या को लेकर देश की राजनीति भी गर्म है. सुप्रीम कोर्ट से लेकर कई राज्य सरकारें लॉकडाउन के दौरान केंद्र सरकार के फैसले के साथ दिखाई दे रहे हैं. ऐसे में अगले कुछ दिनों तक इन लोगों को अपने प्रदेश में जाने पर संशय बरकरार रहेगा.

    (इनपुट-दीपक बिष्ट)

    ये भी पढ़ें: 

    कोटा में दो किलोमीटर तक बीमार पिता को ठेले पर लेकर दौड़ता रहा बेटा, नहीं बच सकी जान

    Tags: Bihar News, Corona epidemic, Delhi police, Lockdow, Madhya pradesh news, Migrant labour, UP news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर