Lockdown diaries: घर में एक ही स्मार्टफोन, 3-4 बच्चे कैसे करें ऑनलाइन पढ़ाई?
Delhi-Ncr News in Hindi

Lockdown diaries: घर में एक ही स्मार्टफोन, 3-4 बच्चे कैसे करें ऑनलाइन पढ़ाई?
सरकारी स्कूलों के बच्चे कैसे करें ऑनलाइन क्लास (प्रतीकात्मक फोटो)

देश के अधिकांश घरों में ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study) में इंफ्रास्ट्रकचर की कमी बहुत बड़ी परेशानी बन गयी है. केंद्रीय विद्यालय सहित देश के लगभग सभी प्राइवेट स्कूल व्हाट्सएप, फेसबुक, ज़ूम, गूगल मीट, यूट्यूब, गूगल क्लासरूम (Google Classroom) के माध्यम से ऑनलाइन पढ़ाई करा रहे हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना (covid19) के चलते किये गए लॉकडाउन (Lockdown) में बच्चों की पढ़ाई को जारी रखना सबसे बड़ी चुनौती बन गया है. केंद्रीय विद्यालय (KV) सहित कई प्राइवेट स्कूल (Private Schools) इस दौरान बच्चों को पढ़ाने के लिए व्हाट्सएप, फेसबुक, ज़ूम, गूगल मीट, यूट्यूब, गूगल क्लासरूम पर ऑनलाइन क्लासेज़ (Online classes) दे रहे हैं लेकिन भारतीय परिवारों के पास अचानक आई इस आपदा में बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई (online study) करवाने के लिए ज़रूरी इंफ्रास्ट्रक्चर ही नहीं है. संसाधनों की कमी के कारण ऑनलाइन पढ़ाई बच्चों और अभिभावकों के लिए सरदर्द बन गयी है.

अधिकांश घरों में एंड्रॉएड फोन नहीं हैं या घर में एक ही स्मार्टफोन (Smart phone) है जिस पर कई बच्चों को एक साथ पढ़ना है. अभिभावकों का कहना है कि ऑनलाइन पढ़ाई से इतना है कि बच्चे कुछ देर तक चुपचाप फोन लेकर बैठ जाते हैं. उन्हें इस पढ़ाई से बहुत ज्यादा फायदा होता नहीं दिखाई दे रहा. 3-4 घण्टे तक एकतरफा क्लास चलती है. वहीं इस पढ़ाई के लिए ज़रूरी फोन या लैपटॉप भी सभी के पास नहीं हैं और खरीदना भी मुश्किल है. ऐसे में बच्चों में पिछड़ने का डर भी पैदा हो रहा है. इस दौरान कई शहरों के अभिभावकों और बच्चों ने News18Hindi को बताई आपबीती...

फोन को लेकर तीनों बच्चों में रोजाना होती है लड़ाई



 
पलवल की कृष्णा कॉलोनी में रहने वाले गोविंद बताते हैं कि उनके तीन बच्चे हैं. बेटी गायत्री बीएससी फर्स्ट ईयर में हैं. बेटा कान्हा 11वीं में और बेटा सोनू आठवीं में प्राइवेट स्कूल में पढ़ता है. उनके पास एक छोटा फोन हैं जबकि घर में एक ही स्मार्टफोन है. तीनों की सुबह आठ बजे से क्लासेज़ चलती हैं. इस दौरान अक्सर उनमें क्लास लेने को लेकर झगड़ा होता है. लिहाजा एक दिन एक अपनी पढ़ाई करता है दूसरे दिन दूसरा बच्चा ऑनलाइन पढ़ता है. इस वक्त फोन खरीदना भी सम्भव नहीं है. जैसे-तैसे काम चल रहा है.

आशा वर्कर माँ को भेजनी होती है लोकेशन, बेटा 10वीं में, एक फोन से नहीं चलता काम

हरियाणा में आशावर्कर का काम कर रहीं देविका (बदला नाम)  बताती हैं कि उनके पति का देहांत हो चुका है. उनका एक बेटा है जिसे वे प्राइवेट स्कूल में पढ़ाती हैं. इस वक्त बच्चे की भी 10वीं की ऑनलाइन क्लासेज़ चल रही हैं जबकि उन्हें भी काम पर जाना होता है और लोकेशन भेजनी होती है. लिहाजा फोन उन्हें साथ रखना होता है. एक ही स्मार्टफोन होने से बेटे की पढ़ाई नहीं हो पा रही है.

पड़ौसी के फोन का दिया नम्बर लेकिन उनके बच्चों ने कर ली लड़ाई

यूपी में छाता के एक प्राइवेट स्कूल में अपने बेटे को किसी तरह पढा रहे मुनेश बताते हैं कि उनके पास बड़ा फोन नहीं है. लेकिन जैसे ही लॉकडाउन हुआ तो स्कूल वालों ने व्हाट्सएप पर पढ़ाना शुरू कर दिया. हमें तो ये भी नहीं पता कि ऐसे कैसे पढ़ाई होती है. जब स्कूल से फोन आने लगे तो हमने पड़ौसी से बात करके उनका नम्बर दे दिया. करीब 20 दिन तक तो बच्चा उनके घर जाकर होमवर्क लिख लाता था और घर बैठकर पढ़ता था लेकिन अब उन्होंने भी लड़ाई कर ली. तब से बच्चे की पढ़ाई बन्द है.

न ऑनलाइन पढ़ाई होती है न दफ्तर का काम

दिल्ली के बलजीत नगर में रहने वाली नीलम बताती हैं कि उनके दो बच्चे वृंदा और कर्मण्य हैं दोनों केंद्रीय विद्यालय में पढ़ते हैं. इन दोनों की टीचर रोजाना फेसबुक लाइव पर पढ़ाती हैं लेकिन बच्चों को एक बार में समझ नहीं आता तो बच्चे रिकॉर्डेड वीडियो देखते हैं. वहीं उनकी भतीजी नन्दिनी भी मार्च से यहीं है. उसका नवोदय में नम्बर आ गया है तो वो भी केवी के टीचर्स की क्लास में पढ़ लेती है. उसे भी फोन चाहिए होता है. उसी फोन से इनके पापा को भी अपना काम देखना होता है. लिहाजा फोन को लेकर बहुत समस्या होती है. फोन की बैटरी में भी दिक्कत है.

बच्चे बोले, टीचर की ऑडियो सुन लेते हैं फिर खुद ही पढ़ते हैं

वृन्दावन में रहने वाले रांची, माधव, भविष्य और आशी बताते हैं कि उनके टीचर व्हाटसएप पर ऑडियो रिकॉर्ड करके भेज देते हैं. वे पहले उसे सुन लेते हैं और फिर होमवर्क कर लेते हैं. जब कुछ समझ नहीं आता तो व्हाट्सएप पर ही लिख देते हैं. लेकिन बहुत सारी चीजें न आते हुए भी नहीं लिख पाते, क्योंकि और भी बच्चे लिख रहे होते हैं. टीचर ज्यादा सवाल करने पर भी डांटते हैं. ऐसे पढ़ने में भी अच्छा नहीं लगता.

ये भी पढ़ें :-

Lockdown: दिल्ली में यहां से नहीं जाएगी कोई भी बस और ट्रेन, मजदूरों को दी न आने की सलाह
Lockdown में चलते ट्रक से ऐसे चुरा रहा था आटा, यहां देखें Viral Video
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज